scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

J-K: पुंछ हमले में आतंकियों को मिला लोकल लोगों का सपोर्ट, सेना नाराज, दी गई ये हिदायत

जम्मू-कश्मीर के पुंछ में हुए आतंकी हमले में पांच जवान शहीद हो गए थे। उस हमले के बाद से ही सेना ने अपने स्तर पर जांच शुरू कर दी थी। अब उसी जांच में कुछ बड़े और हैरान करने वाले खुलासे हुए हैं।
Written by: arun sharma | Edited By: Sudhanshu Maheshwari
Updated: May 01, 2023 22:09 IST
j k  पुंछ हमले में आतंकियों को मिला लोकल लोगों का सपोर्ट  सेना नाराज  दी गई ये हिदायत
पुंछ हमले पर सेना ने जारी किया बयान
Advertisement

जम्मू-कश्मीर के पुंछ में हुए आतंकी हमले में पांच जवान शहीद हो गए थे। उस हमले के बाद से ही सेना ने अपने स्तर पर जांच शुरू कर दी थी। अब उसी जांच में कुछ बड़े और हैरान करने वाले खुलासे हुए हैं। सबसे बड़ा खुलासा तो ये है कि इस हमले में आतंकियों को लोकल लोगों की पूरी मदद मिली थी। खाने से लेकर रहने की जगह तक का इंतजाम किया गया था। डीजीपी दिलबाग सिंह ने ये बात कही थी और अब आर्मी ने भी उसी दिशा में एक बयान जारी किया है।

पाकिस्तान की साजिश, सेना की जुबानी

सेना ने कहा है कि हाल ही में पुंछ में जो हमला हुआ, कुछ समुदाय के लोगों के नाम सामने आ रहे हैं, इस बात पर विश्वास करना भी मुश्किल है। ऐसी घटनाओं से दूर रहना चाहिए, बचना चाहिए। अब सेना ने हिदायत तो दी ही, पाकिस्तान को भी खरी-खरी सुनाई। जोर देकर कहा गया कि जब से 370 हटाया गया है, पाकिस्तान घाटी के युवाओं को गुमराह करने का काम कर रहा है।

Advertisement

पाकिस्तान को लेकर सेना ने जारी बयान में बताया कि 370 हटने के बाद से पाकिस्तान नहीं चाहता कि कश्मीर में शांति कायम हो, वो नहीं चाहता कि यहां चुनाव हो। इसी वजह से वो युवाओं को गुमराह कर रहा है, उन्हें आतंकी बनने की ट्रेनिंग दे रहा है, उन्हें ड्रग की लत लगवा रहा है। सेना ने इस बात पर भी जोर दिया है कि पाकिस्तान अभी गरीब तबके को भी अपने फोकस में ले रहा है, उनका भी ब्रेन वॉश किया जा रहा है।

जाति-धर्म से ऊपर उठकर साथ आने का संदेश

वैसे सेना एक तरफ लोकल सपोर्ट को लेकर चिंता जाहिर की, तो वहीं दूसरी तरफ पुंछ के इतिहास को भी याद किया। सेना के मुताबिक पुंछ ने ही 1948, 1962, 1971 और 1999 में युद्ध लड़ा है, जब भी किसी ने अशांति फैलाने की कोशिश की है, लोगों ने जाति-धर्म से ऊपर उठकर मुकाबला किया है।

Advertisement

जानकारी के लिए बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पुंछ में एक आतंकी हमले में राष्ट्रीय राइफल्स यूनिट के 5 जवानों की जान चली गई। पुंछ जिले में गुरुवार (20 अप्रैल) की दोपहर सेना के वाहन पर अज्ञात आतंकवादियों ने गोलीबारी की जिसमें पांच जवान शहीद हो गए। पुंछ हमले की जांच NIA की विशेष टीम द्वारा की जा रही है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो