scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

यासीन मलिक को NIA ने बताया ओसामा बिन लादेन जैसा तो दिल्ली हाईकोर्ट को आया गुस्सा, जानिए क्या बोले जस्टिस

हाईकोर्ट का कहना था कि आप लादेन से यासीन मलिक की तुलना नहीं कर सकते। अदालत का कहना था कि यासीन मलिक ने हमेशा कोर्ट का सामना किया जबकि लादेन कभी भी अदालत के सामने पेश नहीं हुआ।
Written by: shailendragautam
Updated: May 29, 2023 16:03 IST
यासीन मलिक को nia ने बताया ओसामा बिन लादेन जैसा तो दिल्ली हाईकोर्ट को आया गुस्सा  जानिए क्या बोले जस्टिस
ओसामा बिन लादेन (Source- Express File Photo)
Advertisement

कश्मीरी अलगाववादी नेता यासीन मलिक को फांसी की सजा देने की मांग करते हुए NIA ने उसे अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी ओसामा बिन लादेन जैसा बताया तो दिल्ली हाईकोर्ट की डबल बेंच ने तीखी आपत्ति दर्ज कराई। हाईकोर्ट का कहना था कि आप लादेन से यासीन मलिक की तुलना नहीं कर सकते। अदालत का कहना था कि यासीन मलिक ने हमेशा कोर्ट का सामना किया जबकि लादेन कभी भी अदालत के सामने पेश नहीं हुआ।

दिल्ली हाईकोर्ट के जस्टिस तलवंत सिंह और जस्टिस सिद्धार्थ मृदुल सॉलीसिटर जनरल तुषार मेहता की उस दलील पर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे थे जिसमें मेहता ने कहा कि बड़ी चालाकी से यासीन मलिक ने फांसी की सजा को टाल दिया। वो अपने गुनाह को कबूल कर लेता है। इसके बाद अदालत उसे फांसी की सजा देने से गुरेज करती है। मेहता का कहना था कि ऐसे तो आतंकी वारदात को अंजाम देंगे और फिर पकड़े जाने पर अपना गुनाह कबूल कर लेंगे। आतंकी ने अपना गुनाह खुद कबूल कर लिया इसलिए अदालत उसे उम्र कैद की सजा सुनाकर मामले को निपटा देती हैं।

Advertisement

ट्रायल कोर्ट ने भी एनआईए की ऐसी ही मांग को सिरे से कर दिया था खारिज

तुषार मेहता का कहना था कि ओसामा बिन लादेन को भी अगर पकड़ा जाता तो वो भी यासीन मलिक के अंदाज में कोर्ट के सामने अपना गुनाह मान लेता और बड़े आराम से फांसी की सजा से बच जाता। कोर्ट ने तुषार मेहता की बात पर तीखा एतराज जताकर खारिज कर दिया। हाईकोर्ट ने NIA की अपील पर यासीन मलिक को नोटिस भेजा है जिससे वो अपना पक्ष रख सके। यासीन को नोटिस जेल अधीक्षक के जरिये भेजा गया है। मामले की अगली सुनवाई अगस्त में की जाएगी। इससे पहले ट्रायल कोर्ट ने भी एनआईए की ऐसी ही मांग को सिरे से खारिज कर दिया था।

यासीन को स्पेशल कोर्ट ने टेरर फंडिंग के केस में सुनाई थी उम्र कैद की सजा

यासीन मलिक को एनआईए की स्पेशल कोर्ट ने टेरर फंडिंग के केस में मई 2022 को उम्र कैद की सजा सुनाई थी। मलिक को आईपीसी के सेक्शन 120B, 121, 121A ,120B के साथ UAPA के सेक्शन 13, 15, 17, 18, 20, 38 और 39 के तहत दोषी ठहराया गया था। इस मामले में यासीन ने खुद अपना गुनाह कबूल कर लिया था। हालांकि उसने 1994 के बाद से खुद को गांधीवादी बताया था लेकिन कोर्ट ने उसकी दलील को खारिज कर दिया।

Advertisement

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो