scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Poonch Terror Attack: आतंकियों की तलाश के लिए लगाए गए हेलीकॉप्टर, ड्रोन और खोजी कुत्ते, हिरासत में लिए गए 12 लोग

Poonch Terror Attack: पुंछ में सुरक्षा बलों पर हमले के बाद सेना का बड़े स्तर पर सर्च ऑपरेशन जारी है।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: April 22, 2023 11:01 IST
poonch terror attack  आतंकियों की तलाश के लिए लगाए गए हेलीकॉप्टर  ड्रोन और खोजी कुत्ते  हिरासत में लिए गए 12 लोग
Poonch Terror Attack: आतंकियों की तलाश के लिए सुरक्षा बलों का सर्च ऑपरेशन जारी। (फोटो सोर्स: File/PTI)
Advertisement

Poonch Terror Attack: जम्मू-कश्मीर के पुंछ इलाके में गुरुवार हुए आतंकी हमले में पांच जवानों के शहीद होने के बाद सेना का बड़े स्तर पर सर्च ऑपरेशन जारी है। इसी बीच सुरक्षा बलों ने बाटा-डोरिया क्षेत्र के घने जंगल में एक बड़ा सर्च अभियान शुरू किया है। शुक्रवार को सुरक्षा बलों के इस ऑपरेशन में ड्रोन और खोजी कुत्तों का इस्तेमाल किया गया। वहीं एक एमआई हेलीकॉप्टर ने घने वन क्षेत्र की टोह ली। अधिकारियों ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी।

आतंकी हमले को लेकर शुक्रवार को सुरक्षा बलों मे 12 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। अधिकारियों ने बताया कि हिरासत में लिए गए लोगों से कई स्तर पर पूछताछ की जा रही है। जिससे आतंकी समूह की पहचान का पता लगाया जा सके। अनुमान लगाया जा रहा है कि आतंकी समूह इस इलाके में एक साल से अधिक समय से एक्टिव था।

Advertisement

हमले के एक दिन बाद राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) की एक टीम ने घटनास्थल का दौरा किया और इलाके और उस वाहन का निरीक्षण किया, जिस पर हमला किया गया था। अधिकारियों ने बताया कि जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक मुकेश सिंह के साथ जांच की निगरानी के लिए पड़ोसी राजौरी जिले में डेरा डाले हुए हैं। दोनों अधिकारियों ने मौका मुआयना भी किया। साथ ही पुलिस और सेना के अधिकारियों के साथ अभियान को लेकर चर्चा की।

अधिकारियों के मुताबिक, पूरे इलाके को घेर लिया गया है और आतंकवादियों को खोजने के लिए ड्रोन एवं खोजी कुत्तों का इस्तेमाल किया जा रहा है। हमले में शहीद हुए जवान राष्ट्रीय राइफल्स इकाई के थे और उन्हें इलाके में आतंकवाद रोधी अभियानों के लिए तैनात किया गया था।

सूत्रों ने बताया कि संदेह है कि तीन से चार आतंकवादियों के एक समूह ने इस हमले को अंजाम दिया और उन्होंने किसी विस्फोटक, बम या ग्रेनेड का इस्तेमाल किया, जिससे वाहन में आग लग गई। लगातार दूसरे दिन भीमबेर गली और जरान वाली गली के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग पर वाहनों का आवागमन बंद रहा।

Advertisement

अधिकारियों ने कहा कि हमले को अंजाम देने वालों के बारे में माना जाता है कि वे एक साल से अधिक समय से राजौरी और पुंछ में मौजूद थे और उन्हें इलाके का पर्याप्त ज्ञान था जो काफी कठिन है। उन्होंने बताया कि यह इलाका जम्मू-कश्मीर गजनवी फोर्स (जेकेजीएफ) का 'कमांडर' रफीक अहमद उर्फ रफीक नई का गढ़ है, जो इसी इलाके का रहने वाला है।

सूत्रों ने बताया कि फिलहाल राजौरी और पुंछ क्षेत्र में तीन से चार आतंकवादी समूह सक्रिय हैं। आतंकवादी समूह जैश-ए-मोहम्मद की प्रॉक्सी शाखा, प्रतिबंधित आतंकवादी समूह पीपुल्स एंटी-फासिस्ट फ्रंट (PAFF) ने हमले की जिम्मेदारी ली है। ऐसी खबरें हैं कि यह प्रतिबंधित लश्कर-ए-तैयबा समूह की भी करतूत थी।

घने जंगलों वाले तोता-गली-बाटा डोरिया के पूरे इलाके की घेराबंदी कर दी गई है। अधिकारियों ने कहा कि आतंकवादियों का पता लगाने के लिए ड्रोन और स्निफर डॉग का इस्तेमाल किया जा रहा है, सेना ने एमआई-हेलिकॉप्टर के साथ क्षेत्र टोह ली है। आतंकी हमले के बाद उनके वाहन में आग लगने से गुरुवार को सेना के पांच जवानों की मौत हो गई और एक अन्य गंभीर रूप से घायल हो गया। ये जवान आतंकवाद विरोधी अभियानों के लिए तैनात राष्ट्रीय राइफल्स की एक इकाई से थे।

अधिकारियों ने कहा कि नियंत्रण रेखा पर कड़ी चौकसी के बीच राजौरी और पुंछ के जुड़वां सीमावर्ती जिलों में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। इस बीच, जम्मू में भाजपा, विहिप, राष्ट्रीय बजरंग दल, शिवसेना, डोगरा फ्रंट और जम्मू स्टेटहुड ऑर्गनाइजेशन सहित अन्य लोगों ने विरोध-प्रदर्शन किया।

सेना ने एक ट्वीट में कहा, "थल सेनाध्यक्ष जनरल मनोज पांडे और भारतीय सेना के सभी रैंकों ने भारतीय सेना के पांच बहादुर जवानों के सर्वोच्च बलिदान को सलाम किया। जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा कि वह बहादुर सैनिकों की शहादत से दुखी हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो