scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Jammu & Kashmir: नेकां के शीर्ष नेता के घर पर चला बुलडोजर, बोले- ये गुंडागर्दी की इंतिहा

उपराज्यपाल के कार्यालय की ओर से सभी जिला उपायुक्तों को सरकारी, सामुदायिक, घास के मैदान और अन्य जमीन पर हुए अतिक्रमण को 31 जनवरी 2023 तक हर हाल में हटाने का निर्देश दिया है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
Updated: January 26, 2023 21:22 IST
jammu   kashmir  नेकां के शीर्ष नेता के घर पर चला बुलडोजर  बोले  ये गुंडागर्दी की इंतिहा
नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने गुरुवार, 19 जनवरी, 2023 को लखनपुर में कठुआ के लोगों के साथ बातचीत की। (पीटीआई फोटो)
Advertisement

Action In Jammu And Kashmir: जम्मू-कश्मीर प्रशासन (Jammu and Kashmir Administration) राज्य में अवैध अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चला रही है। 25 जनवरी को प्रशासन ने श्रीनगर में नेशनल कॉन्फ्रेंस (National Conference) के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री अली मुहम्मद सागर (Ali Muhammad Sagar) की पत्नी की कथित रूप से एक अवैध मकान को बुलडोजर (Bulldozer) से ध्वस्त कर दिया। प्रशासन का कहना है कि यह मकान सरकारी जमीन पर कब्जा करके बनाया गया है। इस पर हंगामा शुरू हो गया। पार्टी ने इसे गुंडागर्दी की इंतिहा कहा। अली मुहम्मद सागर पार्टी के उपाध्यक्ष भी हैं।

उपराज्यपाल ने रसूखदारों को नहीं बख्शने का दिया था निर्देश

हाल ही में उपराज्यपाल मनोज सिन्हा (Lieutenant Governor Manoj Sinha) ने कहा था कि किसी भी गलत काम करने और सरकारी जमीन पर कब्जा करने वाले किसी भी रसूखदार को बख्शा नहीं जाए। हालांकि उपराज्यपाल ने यह भी कहा है कि गरीबों को तंग नहीं किया जाए। उपराज्यपाल के कार्यालय की ओर से सभी जिला उपायुक्तों को सरकारी, सामुदायिक, घास के मैदान और अन्य जमीन पर हुए अतिक्रमण को 31 जनवरी 2023 तक हर हाल में हटाने का निर्देश दिया है। इस आदेश के बाद हर जिले में अतिक्रमण के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है।

Advertisement

श्रीनगर एयरपोर्ट के बेहद करीब में बना था मकान

अली मोहम्मद सागर ने हुमहामा जिला बड़गाम में श्रीनगर एयरपोर्ट को श्रीनगर शहर से जोड़ने वाली सड़क पर ही मकान बना रखा है। मकान श्रीनगर एयरपोर्ट के बाहरी गेट से लगभग 600 मीटर की दूरी पर है। उन्होंने जिस जमीन पर मकान बना रखा है, वह उनकी पत्नी के नाम पर है। राजस्व विभाग के अधिकारियों ने बताया कि मकान के साथ ही काहचराई (घास का मैदान) की भूमि है। परिजनों ने इस पर कब्जा करके बाउंड्री वाल बना रखा है।

बिना नोटिस दिए कार्रवाई का लगाया आरोप

दूसरी तरफ अली मुहम्मद सागर की ओर से कहा गया है कि जो नक्शा पास किया गया है, उसमें पूरी जानकारी दी गई थी। अगर जानकारी गलत थी तो नक्शा को पास क्यों किया गया। अगर अतिक्रमण होता तो हमें जरूर कोई नोटिस दिया जाता। उन्होंने आरोप लगाया कि न तो नोटिस दिया गया और बताकर कार्रवाई की गई। यह कार्रवाई तब की गई जब घर पर कोई नहीं था। यह राजनीतिक बदले के भावना से की गई कार्रवाई है।

एनसी नेता ने कहा- मकान का पूरा नक्शा पास था

इसके अलावा इस भूमि पर एक कमरा भी बना लिया था। सरकार ने इसी जमीन को मुक्त कराया है। नेकां महासचिव के पुत्र सलमान सागर ने कहा, "जिसे घास के मैदान की जमीन बताई जा रही है, वह एक मालिकाना जमीन है, और मेरी मां के नाम पर है। इस पर बनाया गया कमरा सुरक्षाकर्मियों के लिए था। इस जमीन प्रशासन की अनुमति और सभी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद निर्माण किया गया। हमने मकान का पूरा नक्शा पास कराया है।"

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो