scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Who was Shahid Latif: कौन था भारत का दुश्मन शाहिद लतीफ? पाकिस्तान में हुई गोली मारकर हत्या, पठानकोट हमले से क्या है कनेक्शन

Shahid Latif News: लतीफ आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का लॉन्चिंग कमांडर था। उसकी सियालकोट में गोली मारकर हत्या कर दी गई है। पहली बार उसे आतंकी गतिविधियों में 1994 में गिरफ्तार किया गया था।
Written by: Kuldeep Singh
October 11, 2023 15:54 IST
who was shahid latif  कौन था भारत का दुश्मन शाहिद लतीफ  पाकिस्तान में हुई गोली मारकर हत्या  पठानकोट हमले से क्या है कनेक्शन
शाहिद लतीफ की पाकिस्तान में गोली मारकर हत्या कर दी गई है।
Advertisement

भारत के मोस्टवांटेड आतंकियों में से एक शाहिद लतीफ को पाकिस्तान में गोली मारकर हत्या कर दी गई है। सियालकोट में उसे अज्ञात हमलावरों ने गोलियों से भून दिया। हमलावरों की अभी तक पहचान नहीं हो सकी है। यह पठानकोट हमले के बाद से ही एनआईए की रडार पर था। इसके ऊपर यूएपीए के तहत मामला दर्ज किया गया था। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के गुजरांवाला के रहने वाला शाहिद जैश -ए-मोहम्मद से जुड़ा हुआ था। वह सियालकोट सेक्टर का कमांडर था।

कौन था शाहिद लतीफ?

शाहिद लतीफ जैश-ए-मोहम्मद का लॉन्चिंग कमांडर था। यह भारत में संगठन के आतंकवादियों को लॉन्च करने की निगरानी करता था और भारत में आतंकवादी हमलों की योजना बनाने, सुविधा प्रदान करने और उन्हें अंजाम देने में भी शामिल था। शाहिद लतीफ को 12 नवंबर 1994 को गिरफ्तार किया गया था। वह 16 साल तक भारत की जेल में रहा। सजा पूरी होने के बाद उसे 2010 में बाघा बॉर्डर के रास्ते पाकिस्तान में निर्वासित कर दिया गया। 2 जनवरी 2016 को पठानकोट में हुए आतंकी हमले में इसकी मुख्य भूमिका थी। शाहिद लतीफ 1999 में इंडियन एयरलाइंस के विमान अपहरण मामले (कंधार केस) में भी आरोपी हैं।

Advertisement

पठानकोट हमले का था मास्टरमाइंड

पंजाब के पठानकोट में 2 जनवरी 2016 को बड़ा आतंकी हमला हुआ था। जैश के चार आतंकियों ने पठानकोट एयरफोर्स स्टेशन में घुसकर फायरिंग कर दी थी। इस हमले में 5 जवान शहीद हुए थे। सुरक्षाबलों ने चारों आतंकियों को भी मार गिराया था। जांच में सामने आया कि लतीफ ने ही इन आतंकियों को कमांड दी थी। इसके अलावा सितंबर 2023 में अनंतनाग के कोकरनाग के जंगलों में मुठभेड़ हुई थी। इस हमले में आर्मी के कर्नल और मेजर सहित 4 जवान शहीद हुए थे। इस मुठभेड़ में दो आतंकी भी मारे गए थे। इसका मास्टर माइंड भी शाहिद लतीफ ही था।

आतंकियों की तैयार करता था पौध

शाहिद लतीफ जैश-ए-मोहम्मद में नंबर तीन की हैसियत रखता था। वह सियालकोट से भारत में भेजे जाने वाले जैश के आतंकी दस्तों की कमान, पंजाब और जम्मू में जैश के आत्मघाती दस्तों के हमलों के लिए आतंकियों को चुनने के अलावा पाकिस्तान के पंजाब में जैश के नए आतंकियों की पौध तैयार करने का काम करता था। साल 1999 में जब हरकतुल मुजाहिदीन के आतंकियों ने आईसी-814 विमान को हाईजैक कर कंधार पहुंचाया था तो मौलाना मसूद अजहर के साथ उसकी रिहाई की मांग भी की थी।

Advertisement

Advertisement
Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो