scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

भारत बंद का असर, सड़कों से लेकर रेलवे ट्रैक तक किसानों का कब्जा, देखें तस्वीरें Testing

भारत बंद का असर, सड़कों से लेकर रेलवे ट्रैक तक किसानों का कब्जा, देखें तस्वीरें Excerpt
Written by: QA Testing
नई दिल्ली | Updated: February 22, 2024 17:09 IST
भारत बंद का असर  सड़कों से लेकर रेलवे ट्रैक तक किसानों का कब्जा  देखें तस्वीरें testing
मधुमेह रोगी मीठे की लालसा होने पर सेब, चुकंदर और गाजर के जूस का सेवन कर सकते हैं। (P.C- Freepik)
Advertisement

Rajya Sabha Election 2024: उत्तर प्रदेश के राज्यसभा चुनाव में बीजेपी ने संजय सेठ को 8वें प्रत्याशी के रूप में उतारा है। बीजेपी ने उसके लिए छोटे दलों को साधने की कोशिश भी शुरू कर दी है। बीजेपी को उम्मीद है कि छोटे दलों को साथ मिलने से वह यूपी में 8 सीटें जीतने में कामयाब हो सकती है। संजय सेठ के लिए बीजेपी ने वोट मैनेजमेंट शुरू कर दिया है। बीजेपी को इस कोशिश के बाद छोटे दलों के सामने अपने विधायकों के वोट को सही जगह डलवाने की चुनौती बढ़ गई है।बीजेपी ने कैसे बढ़ाई छोटे दलों की परेशानी

बीजेपी ने चुनाव मैदान में संजय सेठ को उतारकर सारे समीकरण बदल दिए हैं। संजय सेठ पहले समाजवादी पार्टी में कोषाध्यक्ष रह चुके हैं। सपा ने उन्हें 2016 में राज्यसभा भेजा था। 2019 में राज्यसभा से इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल हो गए। बीजेपी ने उन्हें दोबारा उन्हीं से खाली हुई सीट से राज्यसभा भेज दिया। हालांकि 2022 में उनका कार्यकाल खत्म होने से बाद बीजेपी ने उन्हें दोबारा नहीं भेजा।

Advertisement

Rajya Sabha Election 2024: उत्तर प्रदेश के राज्यसभा चुनाव में बीजेपी ने संजय सेठ को 8वें प्रत्याशी के रूप में उतारा है। बीजेपी ने उसके लिए छोटे दलों को साधने की कोशिश भी शुरू कर दी है। बीजेपी को उम्मीद है कि छोटे दलों को साथ मिलने से वह यूपी में 8 सीटें जीतने में कामयाब हो सकती है। संजय सेठ के लिए बीजेपी ने वोट मैनेजमेंट शुरू कर दिया है। बीजेपी को इस कोशिश के बाद छोटे दलों के सामने अपने विधायकों के वोट को सही जगह डलवाने की चुनौती बढ़ गई है।बीजेपी ने कैसे बढ़ाई छोटे दलों की परेशानी

बीजेपी ने चुनाव मैदान में संजय सेठ को उतारकर सारे समीकरण बदल दिए हैं। संजय सेठ पहले समाजवादी पार्टी में कोषाध्यक्ष रह चुके हैं। सपा ने उन्हें 2016 में राज्यसभा भेजा था। 2019 में राज्यसभा से इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल हो गए। बीजेपी ने उन्हें दोबारा उन्हीं से खाली हुई सीट से राज्यसभा भेज दिया। हालांकि 2022 में उनका कार्यकाल खत्म होने से बाद बीजेपी ने उन्हें दोबारा नहीं भेजा।

Rajya Sabha Election 2024: उत्तर प्रदेश के राज्यसभा चुनाव में बीजेपी ने संजय सेठ को 8वें प्रत्याशी के रूप में उतारा है। बीजेपी ने उसके लिए छोटे दलों को साधने की कोशिश भी शुरू कर दी है। बीजेपी को उम्मीद है कि छोटे दलों को साथ मिलने से वह यूपी में 8 सीटें जीतने में कामयाब हो सकती है। संजय सेठ के लिए बीजेपी ने वोट मैनेजमेंट शुरू कर दिया है। बीजेपी को इस कोशिश के बाद छोटे दलों के सामने अपने विधायकों के वोट को सही जगह डलवाने की चुनौती बढ़ गई है।बीजेपी ने कैसे बढ़ाई छोटे दलों की परेशानी

Advertisement

बीजेपी ने चुनाव मैदान में संजय सेठ को उतारकर सारे समीकरण बदल दिए हैं। संजय सेठ पहले समाजवादी पार्टी में कोषाध्यक्ष रह चुके हैं। सपा ने उन्हें 2016 में राज्यसभा भेजा था। 2019 में राज्यसभा से इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल हो गए। बीजेपी ने उन्हें दोबारा उन्हीं से खाली हुई सीट से राज्यसभा भेज दिया। हालांकि 2022 में उनका कार्यकाल खत्म होने से बाद बीजेपी ने उन्हें दोबारा नहीं भेजा।

Advertisement

Rajya Sabha Election 2024: उत्तर प्रदेश के राज्यसभा चुनाव में बीजेपी ने संजय सेठ को 8वें प्रत्याशी के रूप में उतारा है। बीजेपी ने उसके लिए छोटे दलों को साधने की कोशिश भी शुरू कर दी है। बीजेपी को उम्मीद है कि छोटे दलों को साथ मिलने से वह यूपी में 8 सीटें जीतने में कामयाब हो सकती है। संजय सेठ के लिए बीजेपी ने वोट मैनेजमेंट शुरू कर दिया है। बीजेपी को इस कोशिश के बाद छोटे दलों के सामने अपने विधायकों के वोट को सही जगह डलवाने की चुनौती बढ़ गई है।बीजेपी ने कैसे बढ़ाई छोटे दलों की परेशानी

बीजेपी ने चुनाव मैदान में संजय सेठ को उतारकर सारे समीकरण बदल दिए हैं। संजय सेठ पहले समाजवादी पार्टी में कोषाध्यक्ष रह चुके हैं। सपा ने उन्हें 2016 में राज्यसभा भेजा था। 2019 में राज्यसभा से इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल हो गए। बीजेपी ने उन्हें दोबारा उन्हीं से खाली हुई सीट से राज्यसभा भेज दिया। हालांकि 2022 में उनका कार्यकाल खत्म होने से बाद बीजेपी ने उन्हें दोबारा नहीं भेजा।

Rajya Sabha Election 2024: उत्तर प्रदेश के राज्यसभा चुनाव में बीजेपी ने संजय सेठ को 8वें प्रत्याशी के रूप में उतारा है। बीजेपी ने उसके लिए छोटे दलों को साधने की कोशिश भी शुरू कर दी है। बीजेपी को उम्मीद है कि छोटे दलों को साथ मिलने से वह यूपी में 8 सीटें जीतने में कामयाब हो सकती है। संजय सेठ के लिए बीजेपी ने वोट मैनेजमेंट शुरू कर दिया है। बीजेपी को इस कोशिश के बाद छोटे दलों के सामने अपने विधायकों के वोट को सही जगह डलवाने की चुनौती बढ़ गई है।बीजेपी ने कैसे बढ़ाई छोटे दलों की परेशानी

बीजेपी ने चुनाव मैदान में संजय सेठ को उतारकर सारे समीकरण बदल दिए हैं। संजय सेठ पहले समाजवादी पार्टी में कोषाध्यक्ष रह चुके हैं। सपा ने उन्हें 2016 में राज्यसभा भेजा था। 2019 में राज्यसभा से इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल हो गए। बीजेपी ने उन्हें दोबारा उन्हीं से खाली हुई सीट से राज्यसभा भेज दिया। हालांकि 2022 में उनका कार्यकाल खत्म होने से बाद बीजेपी ने उन्हें दोबारा नहीं भेजा।

Rajya Sabha Election 2024: उत्तर प्रदेश के राज्यसभा चुनाव में बीजेपी ने संजय सेठ को 8वें प्रत्याशी के रूप में उतारा है। बीजेपी ने उसके लिए छोटे दलों को साधने की कोशिश भी शुरू कर दी है। बीजेपी को उम्मीद है कि छोटे दलों को साथ मिलने से वह यूपी में 8 सीटें जीतने में कामयाब हो सकती है। संजय सेठ के लिए बीजेपी ने वोट मैनेजमेंट शुरू कर दिया है। बीजेपी को इस कोशिश के बाद छोटे दलों के सामने अपने विधायकों के वोट को सही जगह डलवाने की चुनौती बढ़ गई है।बीजेपी ने कैसे बढ़ाई छोटे दलों की परेशानी

बीजेपी ने चुनाव मैदान में संजय सेठ को उतारकर सारे समीकरण बदल दिए हैं। संजय सेठ पहले समाजवादी पार्टी में कोषाध्यक्ष रह चुके हैं। सपा ने उन्हें 2016 में राज्यसभा भेजा था। 2019 में राज्यसभा से इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल हो गए। बीजेपी ने उन्हें दोबारा उन्हीं से खाली हुई सीट से राज्यसभा भेज दिया। हालांकि 2022 में उनका कार्यकाल खत्म होने से बाद बीजेपी ने उन्हें दोबारा नहीं भेजा।

Rajya Sabha Election 2024: उत्तर प्रदेश के राज्यसभा चुनाव में बीजेपी ने संजय सेठ को 8वें प्रत्याशी के रूप में उतारा है। बीजेपी ने उसके लिए छोटे दलों को साधने की कोशिश भी शुरू कर दी है। बीजेपी को उम्मीद है कि छोटे दलों को साथ मिलने से वह यूपी में 8 सीटें जीतने में कामयाब हो सकती है। संजय सेठ के लिए बीजेपी ने वोट मैनेजमेंट शुरू कर दिया है। बीजेपी को इस कोशिश के बाद छोटे दलों के सामने अपने विधायकों के वोट को सही जगह डलवाने की चुनौती बढ़ गई है।बीजेपी ने कैसे बढ़ाई छोटे दलों की परेशानी

बीजेपी ने चुनाव मैदान में संजय सेठ को उतारकर सारे समीकरण बदल दिए हैं। संजय सेठ पहले समाजवादी पार्टी में कोषाध्यक्ष रह चुके हैं। सपा ने उन्हें 2016 में राज्यसभा भेजा था। 2019 में राज्यसभा से इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल हो गए। बीजेपी ने उन्हें दोबारा उन्हीं से खाली हुई सीट से राज्यसभा भेज दिया। हालांकि 2022 में उनका कार्यकाल खत्म होने से बाद बीजेपी ने उन्हें दोबारा नहीं भेजा।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो