scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

श्रीलंका में चीन ने करोड़ों डॉलर लगाकर बनवाया था एयरपोर्ट, अब भारत मिला कंट्रोल तो ड्रैगन को लगा झटका

श्रीलंका के एयरपोर्ट को चीन ने बनाया था लेकिन अब वहां की सरकार ने इस एयरपोर्ट का कंट्रोल भारतीय और रूसी कंपनी के हाथों में दे दिया है।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | April 27, 2024 12:13 IST
श्रीलंका में चीन ने करोड़ों डॉलर लगाकर बनवाया था एयरपोर्ट  अब भारत मिला कंट्रोल तो ड्रैगन को लगा झटका
श्रीलंका में प्रोजेक्ट्स को लेकर रहती है होड़ (सोर्स - AP)
Advertisement

China Diplomatic Loss: चीन श्रीलंका में लगातार अपना प्रभुत्व बनाने का प्रयास करता रहा है। इसके चलते भारत और चीन दोनों ही श्रीलंका को लेकर आमने-सामने आते रहे हैं और यहां प्रोजेक्ट्स को लेकर भी काफी ज्यादा कॉम्पिटीशन रहता है। हालिया घटनाक्रम की बात करें तो श्रीलंका में चीन को बड़ा झटका लगा है। श्रीलंका में चीन ने 20.9करोड़ डॉलर की लागत वाला मत्ताला इंटरनेशनल एयरपोर्ट बनाया था, लेकिन अब उसका कंट्रोल भारत और रूस की कंपनियों के हाथों में दे दिया गया है, जिसके चलते चीन के होश फाख्ता हो गए हैं।

जानकारी के मुताबिक श्रीलंका की सरकार ने अपने 20.9 करोड़ डॉलर की लागत से बने मत्ताला राजपक्षे इंटरनेशनल एयरपोर्ट का प्रबंधन भारत और रूस की कंपनियों को सौंपने का फैसला किया है। इसको लेकर श्रीलंकाई कैबिनेट ने शुक्रवार को यह अहम फैसला लिया था, जिसका असर बीजिंग तक गया है, क्योंकि उसे उम्मीद नहीं थी कि यह एयरपोर्ट भारत के हाथ में जा सकता है।

Advertisement

गौरतलब है कि मत्ताला एयरपोर्ट श्रीलंका के तटीय शहर हंबनटोटा के नजदीक स्थित है। हंबनटोटा का बंदरगाह श्रीलंका की सरकार ने 99 वर्षों के लिए चीन को लीज पर दिया हुआ है। ऐसे में इसी बंदरगाह के नजदीक स्थित एयरपोर्ट का प्रबंधन भारतीय कंपनी को मिलना अहम है जिससे चीन की चालबाजियों पर निगाह रखने में भारत को मदद मिल सकती है।

विवादों में रहा है ये एयरपोर्ट

जानकारी के मुताबिक मत्ताला राजापक्षे इंटरनेशनल एयरपोर्ट का निर्माण साल 2013 में हुआ था। इस एयरपोर्ट के निर्माण के लिए वित्तीय मदद चीन के एक्सिम बैंक ने दी थी। हालांकि यह एयरपोर्ट अपने निर्माण के बाद से ही विवादों में घिरा हुआ है, क्योंकि यहां कम संख्या में फ्लाइट्स आती हैं, साथ ही यह जिस जगह बना है, वह पर्यावरण के लिहाज से संवेदनशील है। इस एयरपोर्ट से श्रीलंका की सरकार को काफी घाटा उठाना पड़ा।

Advertisement

इन्हीं कारणों के चलते ही श्रीलंका की सरकार ने इस एयरपोर्ट का मैनेजमेंट भारत की कंपनी शौर्य एयरोनॉटिक्स (प्राइवेट) लिमिटेड और रूस की कंपनी रीजन्स मैनेजमेंट कंपनी को 30 वर्षों के लिए सौंप दिया है। श्रीलंका की कैबिनेट ने बयान जारी कर यह जानकारी दी है।

Advertisement

चीन का कर्ज कर रहा श्रीलंका को परेशान

बता दें कि श्रीलंका की सरकार ने भारतीय और रूसी कंपनियों के लिए कितनी राशि में यह डील की है, उसका खुलासा तो अभी नहीं हुआ है लेकिन चीन के कर्ज की उच्च ब्याज दरों की वजह से श्रीलंका का घाटा बढ़ता जा रहा था। इसीलिए श्रीलंका की सरकार चीन के एक्सिम बैंक से लिए गए कर्ज को फिर से पुनर्संगठित करने की मांग भी कर रही है।

श्रीलंका सरकार ने चीन के एक्सिम बैंक से विभिन्न परियोजनाओं के लिए 4.2 अरब डॉलर का कर्ज लिया था। जिनमें से एक इस एयरपोर्ट का निर्माण भी शामिल था। बता दें कि यह एयरपोर्ट महिंद्रा राजपक्षे के कार्यकाल में बना था, जो कि चीन समर्थक माने जाते रहे हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो