scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

ईरान में सुधारवादी नेता पेजेश्कियान ने जीता राष्ट्रपति चुनाव, सईद जलीली की कट्टरपंथी सोच को जनता ने नकारा

मतगणना में पेजेश्कियान को 16.3 मिलियन वोटों के साथ विजेता घोषित किया गया, जबकि जलीली को 13.5 मिलियन वोट मिले।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: July 06, 2024 12:27 IST
ईरान में सुधारवादी नेता पेजेश्कियान ने जीता राष्ट्रपति चुनाव  सईद जलीली की कट्टरपंथी सोच को जनता ने नकारा
तेहरान में जनता का अभिवादन करते मसूद पेजेशकियन (ब्लैक जैकेट में) (Photo- Reuters)
Advertisement

ईरान के राष्ट्रपति चुनाव में सुधारवादी उम्मीदवार मसूद पेजेश्कियान (Masoud Pezeshkian) ने जीत हासिल की। शनिवार को आए नतीजे में उन्होंने कट्टरपंथी सईद जलीली (Saeed Jalili) को हराया। उन्होंने अपने चुनाव प्रचार के दौरान लोगों से वादा किया था कि वह जीत के बदा अनिवार्य रूप से हेडस्कार्फ कानून को लागू करेंगे। यह कानून इस्लामिक गणराज्य पर कई वर्षों तक प्रतिबंध और विरोध प्रदर्शन के बाद बनाया गया था। पेजेश्कियान ने अपने अभियान में ईरान के शिया धर्मतंत्र में कोई आमूलचूल परिवर्तन नहीं करने का वादा किया था।

Advertisement

नए राष्ट्रपति ने सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई को स्वीकारा

उन्होंने लंबे समय से देश के सभी मामलों के अंतिम मध्यस्थ के रूप में सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई को स्वीकार किया है। मतगणना में पेजेश्कियान को 16.3 मिलियन वोटों के साथ विजेता घोषित किया गया, जबकि जलीली को 13.5 मिलियन वोट मिले। चुनाव में 30 मिलियन लोगों ने मतदान किया। अधिकारियों ने शुक्रवार के चुनाव में 49.6% मतदान होने की बात कही, जो अब भी ईरानी राष्ट्रपति चुनाव के लिए ऐतिहासिक रूप से कम है।

Advertisement

हृदय शल्य चिकित्सक और लंबे समय से सांसद पेजेश्कियान के समर्थक, पूर्व परमाणु वार्ताकार जलीली पर उनकी बढ़त होने पर जश्न मनाने के लिए भोर से पहले तेहरान और अन्य शहरों की सड़कों पर निकल आए थे।

28 जून को मतदान के पहले दौर में 1979 की इस्लामी क्रांति के बाद से इस्लामी गणराज्य के इतिहास में सबसे कम मतदान हुआ। सरकारी अधिकारियों से लेकर सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामेनेई ने मतदान शुरू होने के साथ ही लोगों की भागीदारी दर बढ़ने का अनुमान लगाया था। हालांकि ऑनलाइन वीडियो में कुछ मतदान केंद्रों को खाली दिखाया गया, जबकि राजधानी तेहरान में कई दर्जन साइटों के सर्वेक्षण में सड़कों पर भारी सुरक्षा मौजूदगी के बीच हल्की ट्रैफिक देखी गई।

Advertisement

यह चुनाव क्षेत्रीय तनाव के बीच हुआ। अप्रैल में ईरान ने गाजा में युद्ध को लेकर इजरायल पर अपना पहला सीधा हमला किया, जबकि इस क्षेत्र में तेहरान से हथियार पाए मिलिशिया समूह लेबनानी हिजबुल्लाह और यमन के हौथी विद्रोही लड़ाई में लगे हुए हैं और उन्होंने अपने हमले बढ़ा दिए हैं।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो