scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

जैसे-जैसे अप्रैल बीत रहा है, सूरज की चमक तेज हो रही है।तापमान

जैसे-जैसे अप्रैल बीत रहा है, सूरज की चमक तेज हो रही है।
Written by: Krishan Kumar
नई दिल्ली | Updated: April 17, 2024 14:30 IST
जैसे जैसे अप्रैल बीत रहा है  सूरज की चमक तेज हो रही है।तापमान
Chhattisgarh Naxal Encounter: Election 2024 से पहले छत्तीसगढ़ में सेना ने 29 नक्सलियों को किया ढेर !
Advertisement

अप्रैल बीत रहा है, सूरज की चमक तेज हो रही है। मौसम में गर्मी और उमस भी बढ़ रही है। तापमान बढ़ता है तो बॉडी के थर्मोडायनमिक्स को मेंटेन करने और टॉक्सिन्स को बाहर निकालने के लिए पसीना निकलता है। अब पसीना आएगा तो बदबू भी आएगी ही। किसी के शरीर से कम तो किसी से ज्यादा।

यूं तो पसीना शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए एक जरूरी प्रक्रिया है। लेकिन इससे आ रही बदबू आपको असहज कर सकती है। आपने कितना भी अच्छा ड्रेसअप कर रखा हो, पसीने की बदबू कॉन्फिडेंस लो कर सकती है। असल में यह बदबू पसीने से नहीं आती है। यह स्किन के बैक्टीरिया और पसीने के मिश्रण से पैदा हुई खास तरह की महक होती है, जो हर एक शरीर में अलग-अलग होती है। कई बार इस बदबू के पीछे कारण हमारा भोजन, मसाले, हॉर्मोन्स या दवाएं भी हो सकते हैं।

Advertisement

जैसे-जैसे अप्रैल बीत रहा है, सूरज की चमक तेज हो रही है। मौसम में गर्मी और उमस भी बढ़ रही है। तापमान बढ़ता है तो बॉडी के थर्मोडायनमिक्स को मेंटेन करने और टॉक्सिन्स को बाहर निकालने के लिए पसीना निकलता है। अब पसीना आएगा तो बदबू भी आएगी ही। किसी के शरीर से कम तो किसी से ज्यादा।यूं तो पसीना शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए एक जरूरी प्रक्रिया है। लेकिन इससे आ रही बदबू आपको असहज कर सकती है। आपने कितना भी अच्छा ड्रेसअप कर रखा हो, पसीने की बदबू कॉन्फिडेंस लो कर सकती है। असल में यह बदबू पसीने से नहीं आती है। यह स्किन के बैक्टीरिया और पसीने के मिश्रण से पैदा हुई खास तरह की महक होती है, जो हर एक शरीर में अलग-अलग होती है। कई बार इस बदबू के पीछे कारण हमारा भोजन, मसाले, हॉर्मोन्स या दवाएं भी हो सकते हैं।

जैसे-जैसे अप्रैल बीत रहा है, सूरज की चमक तेज हो रही है। मौसम में गर्मी और उमस भी बढ़ रही है। तापमान बढ़ता है तो बॉडी के थर्मोडायनमिक्स को मेंटेन करने और टॉक्सिन्स को बाहर निकालने के लिए पसीना निकलता है। अब पसीना आएगा तो बदबू भी आएगी ही। किसी के शरीर से कम तो किसी से ज्यादा।

यूं तो पसीना शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए एक जरूरी प्रक्रिया है। लेकिन इससे आ रही बदबू आपको असहज कर सकती है। आपने कितना भी अच्छा ड्रेसअप कर रखा हो, पसीने की बदबू कॉन्फिडेंस लो कर सकती है। असल में यह बदबू पसीने से नहीं आती है। यह स्किन के बैक्टीरिया और पसीने के मिश्रण से पैदा हुई खास तरह की महक होती है, जो हर एक शरीर में अलग-अलग होती है। कई बार इस बदबू के पीछे कारण हमारा भोजन, मसाले, हॉर्मोन्स या दवाएं भी हो सकते हैं।

Advertisement

जैसे-जैसे अप्रैल बीत रहा है, सूरज की चमक तेज हो रही है। मौसम में गर्मी और उमस भी बढ़ रही है। तापमान बढ़ता है तो बॉडी के थर्मोडायनमिक्स को मेंटेन करने और टॉक्सिन्स को बाहर निकालने के लिए पसीना निकलता है। अब पसीना आएगा तो बदबू भी आएगी ही। किसी के शरीर से कम तो किसी से ज्यादा।यूं तो पसीना शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए एक जरूरी प्रक्रिया है। लेकिन इससे आ रही बदबू आपको असहज कर सकती है। आपने कितना भी अच्छा ड्रेसअप कर रखा हो, पसीने की बदबू कॉन्फिडेंस लो कर सकती है। असल में यह बदबू पसीने से नहीं आती है। यह स्किन के बैक्टीरिया और पसीने के मिश्रण से पैदा हुई खास तरह की महक होती है, जो हर एक शरीर में अलग-अलग होती है। कई बार इस बदबू के पीछे कारण हमारा भोजन, मसाले, हॉर्मोन्स या दवाएं भी हो सकते हैं।

Advertisement

जैसे-जैसे अप्रैल बीत रहा है, सूरज की चमक तेज हो रही है। मौसम में गर्मी और उमस भी बढ़ रही है। तापमान बढ़ता है तो बॉडी के थर्मोडायनमिक्स को मेंटेन करने और टॉक्सिन्स को बाहर निकालने के लिए पसीना निकलता है। अब पसीना आएगा तो बदबू भी आएगी ही। किसी के शरीर से कम तो किसी से ज्यादा।

यूं तो पसीना शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए एक जरूरी प्रक्रिया है। लेकिन इससे आ रही बदबू आपको असहज कर सकती है। आपने कितना भी अच्छा ड्रेसअप कर रखा हो, पसीने की बदबू कॉन्फिडेंस लो कर सकती है। असल में यह बदबू पसीने से नहीं आती है। यह स्किन के बैक्टीरिया और पसीने के मिश्रण से पैदा हुई खास तरह की महक होती है, जो हर एक शरीर में अलग-अलग होती है। कई बार इस बदबू के पीछे कारण हमारा भोजन, मसाले, हॉर्मोन्स या दवाएं भी हो सकते हैं।

जैसे-जैसे अप्रैल बीत रहा है, सूरज की चमक तेज हो रही है। मौसम में गर्मी और उमस भी बढ़ रही है। तापमान बढ़ता है तो बॉडी के थर्मोडायनमिक्स को मेंटेन करने और टॉक्सिन्स को बाहर निकालने के लिए पसीना निकलता है। अब पसीना आएगा तो बदबू भी आएगी ही। किसी के शरीर से कम तो किसी से ज्यादा।यूं तो पसीना शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए एक जरूरी प्रक्रिया है। लेकिन इससे आ रही बदबू आपको असहज कर सकती है। आपने कितना भी अच्छा ड्रेसअप कर रखा हो, पसीने की बदबू कॉन्फिडेंस लो कर सकती है। असल में यह बदबू पसीने से नहीं आती है। यह स्किन के बैक्टीरिया और पसीने के मिश्रण से पैदा हुई खास तरह की महक होती है, जो हर एक शरीर में अलग-अलग होती है। कई बार इस बदबू के पीछे कारण हमारा भोजन, मसाले, हॉर्मोन्स या दवाएं भी हो सकते हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो