scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

पाक के पूर्व पीएम इमरान खान को बड़ा झटका, कोर्ट ने 10 साल की सुनाई सजा, सहयोगी कुरैशी को भी जेल, क्या है मामला

Pakistan News: पाकिस्तान के पूर्व पीएम इमरान खान की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं। कोर्ट ने सिफर मामले में खान और पूर्व विदेश मंत्री कुरैशी को 10-10 साल जेल की सजा सुनाई है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Jyoti Gupta
नई दिल्ली | Updated: January 30, 2024 15:23 IST
पाक के पूर्व पीएम इमरान खान को बड़ा झटका  कोर्ट ने 10 साल की सुनाई सजा  सहयोगी कुरैशी को भी जेल  क्या है मामला
पाकिस्तान के पूर्व PM इमरान खान को 10 साल की सजा। (ANI)
Advertisement

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान के बुरे दिन खत्म होने का नाम नहीं ले रहे हैं। कोर्ट ने गोपनीयता उल्लंघन मामले में खान को 10 साल की सजा सुनाई है। इसके साथ ही उनके सहयोगी पूर्व विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को 10 साल के लिए जेल जाना पड़ सकता है। कोर्ट ने गोपनीयता उल्लंघन मामले में यह फैसला मंगलवार को सुनाया। मामले में कोर्ट ने दोनों नेताओं को 10-10 साल की सजा सुनाई है।

अभी इमरान खान रावलपिंडी की अदियाला जेल में बंद हैं। यह फैसला वहीं पर सुनाया गया। माना जा रहा है कि यह फैसला इमरान खान को बड़ा झटका देने वाला है। वे पाकिस्तान के आम चुनाव में खड़े होना चाह रहे थे। अब 10 साल की सजा के बाद इमरान खान का चुनाव लड़ना मुश्किल है।

Advertisement

खान की पार्टी ने कोर्ट के फैसले पर क्या कहा?

रिपोर्ट के अनुसार, रावलपिंडी की अदियाला जेल में मामले की सुनवाई के दौरान स्पेशल कोर्ट जज अबुल हसनत जुल्करनैन ने यह फैसला सुनाया। खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) ने मामले की पुष्टि करते हुए कहा कि यह एक ‘‘झूठा मामला है, मीडिया और जनता को इससे दूर रखा गया।’’

हाईकोर्ट में चुनौती देगी खान की पार्टी

इमरान खान की पार्टी ने व्हॉट्सएप मैसेज में कहा, ‘‘हमारी कानूनी टीम इस फैसले को हाईकोर्ट में चुनौती देगी। इस्लामाबाद हाईकोर्ट ने मामले की लचर सुनवाई के तहत दो बार कार्यवाही को रद्द कर दिया था, मीडिया और जनता की पहुंच का आदेश दिया था फिर भी कानूनी टीम को जाने नहीं दिया गया, उसे अलग रखा गया और जल्दबाजी में फैसला लिया गया। ऐसे में उम्मीद है कि उपरोक्त तथ्यों के मद्देनजर सजा को निलंबित कर दिया जाएगा।’’

Advertisement

दरअसल, इस मामले का संबंध गोपनीय राजनयिक दस्तावेजों के खुलासे से हैं। खान ने 27 मार्च, 2022 को एक सार्वजनिक रैली में अमेरिका का नाम लेते हुए दावा किया था कि यह उनकी सरकार को गिराने की एक ‘अंतरराष्ट्रीय साजिश’ का सबूत है।

Advertisement

सिफर केस क्या है?

असल में यह केस राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा हुआ है। इमरान खान पर आरोप है कि उन्होंने अपने फायदे के लिए टॉप सेक्रेट जानकारी का इस्तेमाल किया। सत्ता जाने के बाद उन्होंने कहा था कि उनके बेदखल होने के पीछे अमेरिका का हाथ है। अब देखना है कि जेल में बंद इमरान खान कौन सा रास्ता अपनाते हैं। उनकी पार्टी की कहना है कि वे इस फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट जाएंगे।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो