scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

लंदन में भारतीय दूतावास पर हमले के आरोपियों की पहचान में NIA से हो गई चूक? 3 लुकआउट नोटिस लिए वापस

UK Indian Embassy Attack: 19 मार्च, 2023 को लंदन में भारतीय दूतावास पर करीब 50 लोगों के एक ग्रुप ने हमला बोल दिया।
Written by: न्यूज डेस्क
April 12, 2024 08:41 IST
लंदन में भारतीय दूतावास पर हमले के आरोपियों की पहचान में nia से हो गई चूक  3 लुकआउट नोटिस लिए वापस
लंदन में भारतीय उच्चायोग के बाहर प्रदर्शन किया। (एपी/पीटीआई/फ़ाइल)
Advertisement

UK Indian Embassy Attack: पिछले साल 19 मार्च को विरोध प्रदर्शन के दौरान लंदन में भारतीय दूतावास के पास हिंसा हुई थी। इसमें संलिप्तता को लेकर 15 संदिग्धों की तस्वीरें जारी की गईं और उनके लिए लुकआउट नोटिस भी जारी किया गया था। हालांकि, अब महीनों बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) का कहना कि इस मामले में पंजाब के 3 लोगों की गलत पहचान हुई। बता दें कि गृह मंत्रालय ने पिछले साल 15 लोगों के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी किया था। इन सभी की पहचान हिंसा से जुड़े वीडियो से की गई।

NIA की टीम जांच करने के लिए पिछले साल मई के महीने में ब्रिटेन पहुंची थी। इसका मकसद घटना को लेकर पाकिस्तान की ISI से जुड़े संदिग्ध आतंकी लिंक की जांच करना रहा। इसी दौरान दूतावास पर हमले वाले वीडियो जारी किए गए थे। इनमें लोगों को लंदन में भारतीय दूतावास के बाहर इकट्ठा होते और हिंसा करते देखा गया। भारत लौटने के बाद एनआईए के अधिकारियों ने 45 संदिग्धों के वीडियो और तस्वीरें सार्वजनिक की थीं। साथ ही, उनकी पहचान में मदद करने की अपील की गई। इसे लेकर एजेंसी को लगभग 850 कॉल मिली थी।

Advertisement

संदिग्धों की पहचान में मांगी गई थी मदद

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (RAW) ने भी पहचान में मदद की थी। बताते हैं कि चेहरा पहचानने वाली तकनीक से 15 लोगों में से कुछ की पहचान में मदद ली गई। इसके बाद उनके खिलाफ एलओसी जारी की गई। कुल 15 संदिग्धों में से 3 को हाल ही में हिरासत में लिया गया और फिर राष्ट्रीय जांच एजेंसी को सौंप दिया गया। हालांकि, लंबे समय तक जांच चली जांच के बाद भी NIA को 19 मार्च की घटना से उनका कोई भी संबंध नहीं मिला।

जांच टीम ने कानूनी टीम और तत्कालीन महानिदेशक (NIA) दिनकर गुप्ता के साथ चर्चा की। इसके बाद जांच एजेंसी ने इनके खिलाफ अपनी एलओसी बंद करने का फैसला लिया। गृह मंत्रालय द्वारा लुकआउट नोटिस जारी किया जाता है जो नामित किए गए व्यक्ति को देश छोड़ने से रोक देता है।

Advertisement

बता दें कि 19 मार्च, 2023 को लंदन में भारतीय दूतावास पर करीब 50 लोगों के एक ग्रुप ने हमला बोल दिया। इन सभी पर भारत के राष्ट्रीय ध्वज यानी की तिरंगे का अपमान करने का आरोप लगाया गया था। दूतावास के एक अधिकारी की तरफ से दर्ज की गई एफआईआर में पहचाने गए हमले के आयोजकों में खालिस्तान लिबरेशन फोर्स के अवतार सिंह खांडा, जसवीर सिंह और यूके के गुरचरण सिंह शामिल हैं।

Advertisement

अमृतपाल सिंह भी एनआईए ने की थी पूछताछ

एक अधिकारी ने बताया कि अवतार सिंह खांडा की जून के महीने में बर्मिंघम में मौत हो गई और एनआईए अपनी केस फाइल के लिए उसका बर्थ सर्टिफिकेट हासिल करने के लिए संबंधित विभाग से संपर्क कर रही है। यूके की घटना की जांच के दौरान, एनआईए ने असम की डिब्रूगढ़ जेल में वारिस पंजाब दे के चीफ अमृतपाल सिंह और उसके 9 साथियों से पूछताछ की थी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो