scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

नेपाल की 'नापाक' हरकतें! 100 रुपये के नोट में भारत के इलाकों को बता दिया अपना, पहले मिल चुका है मुंहतोड़ जवाब

शुक्रवार को 'प्रधानमंत्री पुष्पकमल दहल 'प्रचंड' की अध्यक्षता में मंत्रिपरिषद की बैठक में नेपाल के नए मानचित्र को 100 रुपये के नये नोट पर छापने का फैसला लिया गया।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: May 04, 2024 10:22 IST
नेपाल की  नापाक  हरकतें  100 रुपये के नोट में भारत के इलाकों को बता दिया अपना  पहले मिल चुका है मुंहतोड़ जवाब
नेपाल के प्रधानमंत्री पुष्प कमल दहल प्रचंड और नेपाल का 100 रुपये का नोट। (फोटो- पीटीआई)
Advertisement

भारत का सबसे निकट का देश नेपाल फिर एक बार विवाद खड़ा करने की कोशिश में लग गया है। उसने ऐलान किया है कि वह अपने 100 रुपये के नये नोट में लिपुलेख, लिंपियाधुरा और कालापानी को दिखाएगा। ये तीनों स्थल ऐसे हैं, जिनको लेकर उसका भारत के साथ विवाद है। भारत ने इन क्षेत्रों पर नेपाल के दावे को "कृत्रिम विस्तार" और "अस्थिर" करार दिया है।

लिपुलेख, लिंपियाधुरा, कालापानी क्षेत्र को अपनी करेंसी में छापेगा

शुक्रवार को "प्रधानमंत्री पुष्पकमल दहल 'प्रचंड' की अध्यक्षता में मंत्रिपरिषद की बैठक में नेपाल के नए मानचित्र को 100 रुपये के नये नोट पर छापने का फैसला लिया गया। इस मानचित्र में लिपुलेख, लिंपियाधुरा और कालापानी को दिखाया गया है।" सरकार की प्रवक्ता रेखा शर्मा ने कैबिनेट फैसले के बारे में जानकारी देते हुए यह जानकारी मीडियाकर्मियों को दी।

Advertisement

रेखा शर्मा सूचना और संचार मंत्री भी हैं। उन्होंने कहा, “कैबिनेट ने 25 अप्रैल और 2 मई को हुई बैठकों के दौरान 100 रुपये के बैंक नोट को फिर से डिजाइन करने और बैंक नोट के बैकग्राउंड में मुद्रित पुराने मानचित्र को बदलने की मंजूरी दे दी।”

भारत ने इन क्षेत्रों को अपना बताने पर जताई थी तीखी प्रतिक्रिया

18 जून, 2020 को, नेपाल ने अपने संविधान में संशोधन करके तीन रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण क्षेत्रों लिपुलेख, कालापानी और लिंपियाधुरा क्षेत्रों को शामिल करके देश के राजनीतिक मानचित्र को फिर से अपडेट करने की प्रक्रिया पूरी की थी। इस पर भारत ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए इसे "एकतरफा कृत्य" और नेपाल द्वारा क्षेत्रीय दावों के "कृत्रिम विस्तार" को "अस्थिर" करार दिया। लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा पर भारत अपना अधिकार रखता है।

Also Read
Advertisement

नेपाल पांच भारतीय राज्यों - सिक्किम, पश्चिम बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के साथ 1,850 किमी से अधिक लंबी सीमा साझा करता है। दोनों देशों की सीमा मुख्य रूप से ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी और नेपाल साम्राज्य के बीच हुई 1816 की सुगौली संधि पर आधारित है। इस संधि ने दोनों देशों के बीच की सीमा को परिभाषित किया है और इसके बाद की संधियों और समझौतों ने सीमा को और अधिक विस्तार से बताया है।

Advertisement

सुगौली संधि के अनुच्छेद पांच में पश्चिमी सीमा के रूप में महाकाली नदी (या संधि में वर्णित काली नदी) का उल्लेख है। यह संधि महाकाली नदी की उत्पत्ति के बारे में तो कुछ नहीं बताती है, लेकिन हाइड्रोग्राफिक अध्ययन से पता चलता है कि लिम्पियाधुरा इसकी उत्पत्ति का केंद्र है, जिससे यह भारत, नेपाल और चीन के बीच ट्राय-जंक्शन बन जाता है।

कालापानी-लिम्पियाधुरा-लिपुलेख ट्राय जंक्शन को लेकर नेपाल ने भारत पर सीमा संबंधी नक्शे को लेकर दबाव बनाने का आरोप लगाया। भारत का तर्क है कि यह क्षेत्र उसके इलाके का हिस्सा है और 1960 के दशक से ही भारत ने वहां सैन्य उपस्थिति बनाए रखी है। पूर्व में नेपाल के नवलपरासी जिले के दक्षिणी इलाके में स्थित सुस्ता क्षेत्र को लेकर भी विवाद है। इस इलाके पर भारत और नेपाल दोनों दावा करते हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो