scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

मुस्लिम राम भक्त ने POK से भेजा शारदा पीठ का पवित्र जल, जानें अयोध्या से पहले क्यों भेजा गया ब्रिटेन

‘सेव शारदा कमेटी कश्मीर (SSCK)’ के सदस्य ने जल को विहिप नेताओं को सौंपा और फिर अयोध्या पहुंचा।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: January 21, 2024 16:19 IST
मुस्लिम राम भक्त ने pok से भेजा शारदा पीठ का पवित्र जल  जानें अयोध्या से पहले क्यों भेजा गया ब्रिटेन
शनिवार, 20 जनवरी, 2024 को पवित्र जल के साथ सेव शारदा कमेटी कश्मीर के सदस्य मंजूनाथ शर्मा (बाएं) तथा अन्य लोग। (पीटीआई फोटो)
Advertisement

अयोध्या में भगवान श्रीराम की प्राण-प्रतिष्ठा के लिए देश के कई नदियों और सरोवरों का जल लाया गया है। इस जल से भगवान का अभिषेक किया जा रहा है। इस बीच पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) में स्थित शारदा पीठ कुंड का जल भी अयोध्या लाया गया है। इस जल को वहां के एक मुस्लिम श्रद्धालु ने एकत्र करके ब्रिटेन के रास्ते अयोध्या भेजा है। भारत और पाकिस्तान के बीच डाक सेवाओं के बंद होने की वजह से जल को पहले कूरियर से ब्रिटेन भेजा गया, फिर वहां से उसे अयोध्या भेजा गया।

सेव शारदा कमेटी कश्मीर के सदस्यों ने निभाई बड़ी भूमिका

इस बारे में ‘सेव शारदा कमेटी कश्मीर (SSCK)’ के संस्थापक रविंदर पंडित ने न्यूज एजेंसी पीटीआई को बताया ‘‘पीओके में शारदा पीठ के शारदा कुंड का पवित्र जल तनवीर अहमद और उनकी टीम ने एकत्र किया है। एलओसी (नियंत्रण रेखा) के पार सिविल सोसाइटी के हमारे सदस्य इसे इस्लामाबाद ले गए, जहां से इसे ब्रिटेन में उनकी बेटी मगरिबी को भेजा गया।’’

Advertisement

शनिवार को पवित्र जल अयोध्या में वीएचपी को सौंपा गया

उन्होंने कहा, ‘‘मगरिबी ने इसे कश्मीरी पंडित कार्यकर्ता सोनल शेर को सौंप दिया, जो अगस्त 2023 में भारत के अहमदाबाद आई थीं। वहां से यह दिल्ली में मेरे पास पहुंचा।’’ उन्होंने कहा कि पवित्र जल को यूरोप तक की यात्रा करनी पड़ी क्योंकि बालाकोट अभियान के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच डाक सेवाएं अस्थायी रूप से बंद हैं। रविंदर ने कहा कि ‘सेव शारदा कमेटी कश्मीर (SSCK)’ सदस्य मंजूनाथ शर्मा ने पवित्र जल विश्व हिंदू परिषद (VHP) के नेताओं को सौंपा, जिन्होंने इसे शनिवार को अयोध्या में वरिष्ठ पदाधिकारी कोटेश्वर राव को सौंपा।

अयोध्या में भगवान श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा के लिए उत्तराखंड के गंगोत्री, यमुनोत्री समेत विभिन्न नदियों का जल भी लाया गया है। यह 19 जनवरी को अयोध्या पहुंचा। इसके अलावा देश के दूसरी नदियों और सरोवरों का भी जल अयोध्या लाया गया है। भगवान के अभिषेक के लिए कई नदियों की पवित्र मिट्टी भी लाई गई है।

Advertisement

रामलला की प्राण प्रतिष्ठा से जुड़ी पूरी कवरेज यहां पढ़ें

Advertisement

इस बीच इस भव्य समारोह के लिए देश के विभिन्न हिस्सों से उपहार भेजे जा रहे हैं जिनमें भगवान राम की तस्वीर वाली चूड़ियों से लेकर 56 किस्म के ‘पेठा’ और 500 किलो का लोहे-कांसे का ‘नगाड़ा’ और अमरावती से आ रहा 500 किलो ‘‘कुमुकम’’ शामिल है। राम मंदिर प्रबंधन समिति को 108 फुट की अगरबत्ती, 2,100 किलो की घंटी, सोने की चप्पल, 10 फुट ऊंचा ताला और चाभी और आठवीं सदी का समय बताने वाली एक घड़ी समेत कई उपहार मिले हैं।

नेपाल में सीता के जन्म स्थान जनकपुर से 3,000 से अधिक उपहार भी आए हैं। श्रीलंका का एक प्रतिनिधिमंडल रामायण में उल्लेखित अशोक वाटिका से एक विशेष उपहार लाया है। इस्कॉन के निहंग सिख और देशभर के मंदिर न्यास से लेकर अयोध्या में स्थानीय लोग यहां श्रद्धालुओं को भोजन कराने के लिए ‘‘लंगर’’ दे रहे हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो