scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

भारत ने निकाली थी मोइज्जू की हेकड़ी, अब मालदीव की जनता क्या चुनाव में सिखाएगी सबक?

Maldives Elections 2024: मालदीव में 'इंडिया आउट' का नारा देकर मोहम्मद मोइज्जू राष्ट्रपति बने थे, लेकिन उनके आने के बाद से भारत से मालदीव के कूटनीतिक रिश्ते ठंडे पड़ गए हैं।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | Updated: April 21, 2024 18:47 IST
भारत ने निकाली थी मोइज्जू की हेकड़ी  अब मालदीव की जनता क्या चुनाव में सिखाएगी सबक
आज है मोदी और भारत विरोधी मोइज्जूी की अग्निपरीक्षा (सोर्स - PTI)
Advertisement

Maldives Elections 2024: मालदीव में पिछले साल हुए चुनाव में मोहम्मद मोइज्जू (Mohammed Muizzu) जीतकर राष्ट्रपति बने थे लेकिन उनकी सरकार से अहम फैसले और बिल संसद द्वारा पास नहीं हो पा रहे थे। ऐसे में आज मालदीव में संसदीय चुनावों के लिए जारी वोटिंग अहम मानी जा रही है। इसमें मोइज्जू के राजनीतिक भविष्य को लेकर फैसला होगा। मोइज्जू 'इंडिया आउट' का नारा देकर 2023 में राष्ट्रपति बने थे।

मोइज्जू इस चुनाव में जीतकर शक्ति प्रदर्शन करना चाहते हैं। दूसरी ओर भारत और चीन दोनों ही देश इस चुनाव पर नजर बनाए हुए हैं, क्योंकि मालदीव की विपक्षी पार्टियों के नेता प्रो इंडिया रहे हैं, जबकि मोइज्जू चीन के समर्थक माने जाते हैं।

Advertisement

मालदीव के चुनाव आयोग के अनुसार रविवार को वोटिंग के बाद सोमवार तक नतीजे घोषित हो जाएंगे, जो कि मोइज्जू के लिए एक अग्निपरीक्षा की तरह है। मालदीव चुनाव आयोग ने कोलंबो, त्रिवेंद्रम और क्वालालांपुर में अपने पोलिंग बूथ बनाए हैं।

मोइज्जू के लिए क्यों अहम हैं यह चुनाव

Advertisement

मोइज्जू के लिए संसदीय चुनाव इसलिए अहम हैं क्योंकि संसद में बहुमत न होने के चलते उनके लिए नए कानून बनाने और फैसले लेने में समस्या आ रही है। मालदीव संविधान के तहत संसद के सभी निर्णयों और सरकार द्वारा प्रस्‍तावित विधेयकों को संसदीय बहुमत से पारित कराना आवश्‍यक होता है, और यहीं पर मोइज्जू मात खाते नजर आते रहे हैं।

Advertisement

भ्रष्टाचार में घिरे हैं मोइज्जू

बता दें कि मालदीव में संसदीय चुनाव से ठीक पहले मोइज्जू भ्रष्टाचार के आरोपों में घिर गए हैं। 2018 से किए गए कथित भ्रष्टाचार की रिपोर्ट लीक होने के बाद उनके खिलाफ विपक्ष महाभियोग की मांग कर रहा है। गौरतलब है कि मोहम्मद मुइज्जू के पीपीएम-पीएनसी गठबंधन ने 'इंडिया आउट' का नारा देकर सितंबर 2023 में राष्ट्रपति चुनाव जीता था।

हाल ही में भारत से हुआ था विवाद

गौरतलब है कि भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लक्षद्वीप जाने के बाद मालदीव के उस समय के कुछ मंत्रियों नेताओं ने पीएम मोदी के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी की थी। इसको लेकर बाद में मजबूरीवश मोइज्जू को उन्हें मंत्री पद से हटाना पड़ा था। वहीं भारत विरोधी सोच के चलते ही भारतीय पर्यटकों के मालदीव जाने में भी कमी आई है जो कि टूरिज्म के लिहाज से भी मालदीव के लिए एक खतरा है।

2019 मुइज्जू ने मोहम्मद सोलिह को शिकस्त दी थी। मोहम्मद मुइज्जू और उनकी पार्टी पीपुल्स नेशनल कांग्रेस को चीन समर्थक के तौर पर जाने जाते हैं, जबकि सोलिह भारत के तौर पर जाने जाते हैं। ऐसे में भारत उम्मीद कर रहा है कि मोइज्जू की विरोधी पार्टी मालदीवियन डेमोक्रेटिक पार्टी (एमडीपी) - बहुमत हासिल करेगी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो