scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

मालदीव में 14 साल के बच्चे को नहीं मिली भारतीय हेलिकॉप्टर से एयरलिफ्ट की इजाजत, ब्रेनस्ट्रोक पीड़ित की मौत

बीमार बच्चे को एयरलिफ्ट करने के लिए भारतीय हेलिकॉप्टरों की इजाजत नहीं देने पर मालदीव सरकार की आलोचना हो रही है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: January 21, 2024 10:55 IST
मालदीव में 14 साल के बच्चे को नहीं मिली भारतीय हेलिकॉप्टर से एयरलिफ्ट की इजाजत  ब्रेनस्ट्रोक पीड़ित की मौत
मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू (PTI Photo)
Advertisement

मालदीव और भारत के बीच तनाव का माहौल कम नहीं हो रहा है। कभी दोनों देशों के बीच बयान पर टकराव होता है तो कभी दोनों देशों के बीच पड़ोसियों के हस्तक्षेप को लेकर विवाद की स्थिति बन जाती है। इस बीच 14 साल के एक बच्चे को मेडिकल इमरजेंसी की जरूरत पड़ने पर उसके परिजनों की मांग पर भी भारतीय हेलिकॉप्टरों के इस्तेमाल की इजाजत नहीं दी। गैफ अलिफ विलिंगिली स्थित अपने घर से राजधानी माले के अस्पताल पहुंचने में काफी देर हो जाने से बच्चे की मौत हो गई। बच्चे को ब्रेन ट्यूमर था और अचानक स्ट्रोक आने पर उसे तुरंत अस्पताल पहुंचाना जरूरी था। परिजनों ने बच्चे को राजधानी माले ले जाने के लिए एयर एंबुलेंस के लिए अनुरोध किया, लेकिन वहां के अधिकारी इसकी अनुमति देने में 15 घंटे लगा दिए। इससे उसके अस्पताल पहुंचने से पहले ही मौत हो गई।

भारत का दो नौसैनिक हेलिकॉप्टर और एक डोर्नियर विमान मालदीव में है

भारत ने मालदीव को पहले से ही मेडिकल इवैक्यूएशन और अन्य हाई एवेलेबिलिटी डिजास्टर रिकवरी (HARD) गतिविधियों के लिए दो नौसैनिक हेलीकॉप्टर और एक डोर्नियर विमान भेजा है। लेकिन वहां की सरकार ने उसके उपयोग की अनुमति नहीं दी। इसको लेकर मालदीव सरकार की आलोचना भी हो रही है।

Advertisement

परिजनों ने एयरलिफ्ट का अनुरोध किया, लेकिन प्रशासन ने नहीं दी अनुमति

मीडिया सूत्रों के मुताबिक बच्चे के पिता ने स्ट्रोक आने के फौरन बाद राधानी माले ले जाने के लिए आइलैंड एविएशन से अनुरोध किया, लेकिन उन्होंने तुरंत कोई जवाब नहीं दिया। 15 घंटे बीतने के बाद उन्होंने अपना जवाब दिया, लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी। करीब 16 घंटे बाद परिजन पीड़ित बच्चे को लेकर जब माले पहुंचे तो उसकी मौत हो चुकी थी।

उधर, भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) गुरुवार को मालदीव के विदेश मंत्री मूसा ज़मीर (Moosa Zameer) से मिले और भारत-मालदीव संबंधों पर "खुलकर बातचीत" की। मालदीव के राष्ट्रपति मोहम्मद मुइज्जू के 15 मार्च तक अपने देश से भारतीय सैन्य कर्मियों की वापसी के निर्देश के बाद से दोनों देशों के संबंध तनावपूर्ण हो गए हैं।

Advertisement

दोनों नेताओं की मुलाकात युगांडा की राजधानी कंपाला में गुटनिरपेक्ष आंदोलन (NAM) की एक मंत्रिस्तरीय बैठक के मौके पर हुई। ज़मीर ने एक्स पर एक पोस्ट में कहा कि भारत और मालदीव "अपने सहयोग को और मजबूत करने और विस्तार करने" के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने अपने एक्स हैंडल पर लिखा, "हमने भारतीय सैन्य कर्मियों की वापसी के साथ-साथ #मालदीव में चल रही विकास परियोजनाओं को पूरा करने और सार्क और एनएएम के भीतर सहयोग पर चल रही उच्च स्तरीय चर्चा पर विचारों का भी आदान-प्रदान किया।"

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो