scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

क्या करने इजरायल दौरे पर गए हैं कश्मीर के मुस्लिम पत्रकार? जमीनी हालात देख महिला ब्लॉगर बोली- हमास को समर्थन कैसे करूं

कश्मीर की पहली मुस्लिम महिला ब्लॉगर याना मीर ने कहा कि हमास ने जो बुरे काम किए हैं, उनके लिए समर्थन कैसे करूं?
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: January 19, 2024 20:09 IST
क्या करने इजरायल दौरे पर गए हैं कश्मीर के मुस्लिम पत्रकार  जमीनी हालात देख महिला ब्लॉगर बोली  हमास को समर्थन कैसे करूं
हमले में ध्वस्त एक इमारत (फोटो सोर्स: @theskandar)
Advertisement

भारतीय पत्रकारों का एक प्रतिनिधिमंडल इजरायल दौरे पर है। प्रतिनिधिमंडल में सोशल मीडिया इन्फ़्लुएंर्स और तीन कश्मीरी मुस्लिम लेखक भी हैं। इजरायल के एक मीडिया ग्रुप ने बताया कि यह यात्रा विश्व में अपनी स्थिति को मजबूत करने के इजरायल के प्रयासों के अनुरूप है। प्रतिनिधिमंडल में एक अफगान पत्रकार भी शामिल है।

कश्मीर की पहली मुस्लिम महिला ब्लॉगर याना मीर ने कहा कि हमास ने जो बुरे काम किए हैं, उनके लिए समर्थन कैसे करूं? याना मीर के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर लाखों समर्थक हैं। उन्होंने कहा कि 9 साल की उम्र में ईसाई धर्म के जन्म के बारे में बच्चों की किताब पढ़ने से उनका विश्वदृष्टिकोण बदल गया। उन्हें कश्मीर में मिल रही शिक्षा और उस किताब में पढ़ी बातों में विरोधाभाष नजर आने लगा क्योंकि कश्मीर में यह पढ़ाया जाता रहा है कि इज़राइल मुसलमानों की भूमि है।

Advertisement

कॉलमिस्ट इरफ़ान अली पीरजादे ने कहा, "याद वाशेम होलोकॉस्ट संग्रहालय का दौरा करने के बाद हमें यह महसूस हुआ कि हमास क्या कर रहा है।" द रियल कश्मीर न्यूज़ के संस्थापक और सीईओ साजिद यूसुफ शाह (कश्मीर में भारतीय जनता पार्टी के मीडिया प्रमुख) ने कहा, "मैं मुस्लिम हूं, लेकिन यहूदी जीवन और सम्मान के लायक हैं। यह जमीन का मामला नहीं है लेकिन अस्तित्व का मामला है।”

साजिद यूसुफ शाह ने कहा कि उनकी मां और चाचा को कश्मीर में इस्लामी आतंकवादियों ने उनके चार वर्षीय चचेरे भाई के सामने मार डाला था। हमास के हमले से प्रभावित दक्षिणी किबुत्ज़िम में भी प्रतिनिधिमंडल जाएगा। ये जगह युद्ध का केंद्र बन गया है और येरूशलम में याद वाशेम होलोकॉस्ट सेंटर और नेसेट में पारंपरिक टूरिज्म स्थल हैं। प्रतिनिधिमंडल की यात्रा का पूरा खर्च Sharaka संगठन उठा रहा है। Sharaka के अध्यक्ष अमित डेरी ने कहा, "विशेष रूप से इस समय हमारे लिए पत्रकारों और सोशल मीडिया इन्फ़्लुएंर्स के इस समूह को सच्चाई से रूबरू कराना महत्वपूर्ण था ताकि वे इस कहानी को भारत में अपने लाखों पाठकों और चाहने वालों तक पहुंचा सकें।"

Advertisement

प्रतिनिधिमंडल में अफगान पत्रकार अब्दुलहक ओमेरी ने कहा कि यात्रा से पहले उन्हें इस बात का कोई अंदाज़ा नहीं था कि इजरायली नागरिकों में 20 प्रतिशत मुसलमान हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें यरूशलेम में अल-अक्सा मस्जिद का दौरा करने और मुसलमानों को सुनने में खुशी हुई।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो