scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

ईरानी गार्डों का इराक में इजराइल के 'जासूसी मुख्यालय' पर हमला, और अधिक बदला लेने की खाई कसम

ईरान ने इससे पहले भी इराक के उत्तरी कुर्दिस्तान क्षेत्र में हमले किए थे। उसका मानना है कि क्षेत्र का उपयोग ईरानी अलगाववादी समूहों के साथ-साथ उसके कट्टर दुश्मन इज़राइल के एजेंटों के लिए एक मंच के रूप में किया जाता रहा है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: January 16, 2024 12:03 IST
ईरानी गार्डों का इराक में इजराइल के  जासूसी मुख्यालय  पर हमला  और अधिक बदला लेने की खाई कसम
ईरान ने पिछले महीने सीरिया में गार्ड के तीन सदस्यों की हत्या का बदला लेने की कसम खाई थी, जिसमें एक वरिष्ठ गार्ड कमांडर भी शामिल था, जो वहां सैन्य सलाहकार के रूप में काम कर चुका था।
Advertisement

ईरान के रिवोल्यूशनरी गार्ड्स (Iran’s Revolutionary Guards) ने कहा कि उन्होंने इराक के अर्ध-स्वायत्त कुर्दिस्तान (Semi-Autonomous Kurdistan) क्षेत्र में इज़राइल के "जासूसी मुख्यालय (Spy Headquarters)" पर हमला किया, राज्य मीडिया ने सोमवार देर रात रिपोर्ट दी, जबकि एलीट फोर्स ने कहा कि उन्होंने इस्लामिक स्टेट के खिलाफ सीरिया में भी हमला किया। 7 अक्टूबर को इज़राइल और फिलिस्तीनी इस्लामी समूह हमास के बीच युद्ध शुरू होने के बाद से पूरे मध्य पूर्व में फैले संघर्ष के बढ़ने की चिंताओं के बीच ये हमले हुए हैं, जिसमें ईरान के सहयोगी भी लेबनान, सीरिया, इराक और यमन से युद्ध में प्रवेश कर रहे हैं।

हमले को ज़ायोनी शासन के अत्याचारों का जवाब बताया

गार्ड्स ने एक बयान में कहा, "ज़ायोनी शासन (Zionist Regime) के हालिया अत्याचारों के जवाब में, जिसके कारण गार्ड्स और एक्सिस ऑफ़ रेसिस्टेंस के कमांडरों की हत्या हुई… इराक के कुर्दिस्तान क्षेत्र में मुख्य मोसाद जासूसी मुख्यालयों में से एक को बैलिस्टिक मिसाइलों से नष्ट कर दिया गया।" .

Advertisement

ईरान ने पिछले महीने सीरिया में गार्ड के तीन सदस्यों की हत्या का बदला लेने की कसम खाई थी, जिसमें एक वरिष्ठ गार्ड कमांडर भी शामिल था, जो वहां सैन्य सलाहकार के रूप में काम कर चुका था। 7 अक्टूबर को हमास लड़ाकों द्वारा इजरायली क्षेत्र में किए गए हमले और उसके बाद गाजा और लेबनान में इजरायली बमबारी अभियानों के बाद से, लेबनान के ईरान समर्थित हिजबुल्लाह के 130 से अधिक लड़ाके शत्रुता में मारे गए हैं।

रिवोल्यूशनरी गार्ड्स ने अभी हमले जारी रखने को कहा

गार्ड्स के बयान में कहा गया है, "हम अपने देश को आश्वस्त करते हैं कि गार्ड्स का आक्रामक अभियान शहीदों के खून की आखिरी बूंदों का बदला लेने तक जारी रहेगा।" अमेरिकी वाणिज्य दूतावास के पास एक आवासीय क्षेत्र में कुर्दिस्तान की राजधानी एरबिल के उत्तर-पूर्व में किए गए हमलों के अलावा, गार्ड ने कहा कि उन्होंने "सीरिया में कई बैलिस्टिक मिसाइलें दागीं और इस्लामिक स्टेट सहित ईरान में आतंकवादी अभियानों के अपराधियों को नष्ट कर दिया।"

इस महीने की शुरुआत में, इस्लामिक स्टेट ने ईरान के दक्षिणपूर्वी करमान शहर में शीर्ष कमांडर कासिम सुलेमानी के स्मारक पर हुए दो विस्फोटों की जिम्मेदारी ली थी, जिसमें लगभग 100 लोग मारे गए थे और कई घायल हुए थे। ईरान जो इज़राइल के साथ युद्ध में हमास का समर्थन करता है, संयुक्त राज्य अमेरिका पर गाजा में इजरायली अपराधों का समर्थन करने का आरोप लगाता रहा है। अमेरिका ने कहा है कि वह अपने अभियान में इज़राइल का समर्थन करता है लेकिन मारे गए फ़िलिस्तीनी नागरिकों की संख्या पर चिंता जताई है।

Advertisement

अपने कार्यालय से एक बयान में इराकी कुर्द प्रधान मंत्री मसरूर बरज़ानी ने एरबिल पर हमले की निंदा करते हुए इसे "कुर्द लोगों के खिलाफ अपराध" बताया। कुर्दिस्तान सरकार की सुरक्षा परिषद ने एक बयान में हमले को "अपराध" बताते हुए कहा कि एरबिल पर हमलों में कम से कम चार नागरिक मारे गए और छह घायल हो गए।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो