scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

आटे-दाल के बाद पानी के लिए भी तरसेगा पाकिस्तान! भारत के इस कदम से बढ़ेंगी मुल्क की मुश्किलें

पाकिस्तान में चुनाव पूरे होने के बावजूद अभी तक सरकार नहीं बन पाई है। मुल्क की आर्थिक स्थिति खराब हैं और अब भारत का ये कदम पाकिस्तान को पीने के पाने तक के लिए मोहताज बना सकता है।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: February 25, 2024 21:28 IST
आटे दाल के बाद पानी के लिए भी तरसेगा पाकिस्तान  भारत के इस कदम से बढ़ेंगी मुल्क की मुश्किलें
भारत रावी का पानी जम्मू कश्मीर में इस्तेमाल करने के लिए रोक सकता है। (सोर्स - एक्सप्रेस फोटो)
Advertisement

पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान संभवतः अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रहा हैं, जहां आर्थिक तंगी के चलते महंगाई आसमान छू रही है तो दूसरी ओर मुल्क में चुनाव कंप्लीट होने के बावजूद सरकार का गठन न होने के चलते राजनीतिक अस्थिरता की स्थिति है। ऐसे में वहां आटे दाल की कीमतें आसमान छू रही हैं और लोगों को हर दिन मूल सुविधाओं के लिए अनेक चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है लेकिन अब भारत का एक कदम पाकिस्तान को पानी के लिए मोहताज हो चुका है।

दरअसल, भारत में मोदी सरकार जम्मू कश्मीर के शाहपुर कंडी में रावी नदीं पर बांध का प्रोजेक्ट लेकर आई थी और अब यह बांध बनकर तैयार हो गया है। ऐसे में इस बांध के बनने के बाद रावी नदी का जो पानी बहकर पाकिस्तान जाता था, वो अब हमारी जमीनों को उपजाऊ बनाएगा। इस पानी का उपयोग किसान सिंचाई के लिए करेंगे। इस पुल का सबसे ज्यादा फायदा जम्मू के कठुआ और सांबा जिले में मौजूद 32,000 हेक्टेयर से अधिक भूमि को लाभ होगा।

Advertisement

अब खास बात यह है कि रावी नदी का लगभग 2 मिलियन एकड़ फीट पानी अभी भी माधोपुर के नीचे पाकिस्तान में बिना उपयोग के बह रहा था। इसे अब भारत अपने लाभ के लिए इस्तेमाल करने वाला है। बता दें कि रावी नदी भारत और पाकिस्तान दोनों देशों में बहती है। इसका उद्गम भारत के हिमाचल प्रदेश राज्य में रोहतांग दर्रे के पास होता है। हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर और पंजाब से होकर यह नदी पाकिस्तान में प्रवेश करती है। यह हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर, पंजाब, और पाकिस्तान के पंजाब प्रांत से होकर बहती है।

सिंधु जल संधि को लग सकता है झटका

भारत और पाकिस्तान के बीच 1960 में सिंधु जल संधि हुई थी, जिसके बाद रावी, सतलुज और ब्यास तीनों नदियों के पानी पर भारत का अधिकार था। वहीं सिंधु, झेलम और चिनाब नदियों के पानी पर पाकिस्तान का हक है। हालांकि बांध बनने से पहले रावी नदी का पानी बहकर पाकिस्तान जा रहा था। ऐसे में अब जब रावी नदी पर बांध बनने के बाद उसका पूरा पानी भारत का हो जाएगा। इसका इस्तेमाल भारत में सिंचाई और बिजली बनाने में बनाने में करेगा।

Advertisement

भारत बढ़ाएगा पाकिस्तान की मुसीबतों

ऐसे में अगर भारत रावी नदी का पूरा पानी इस्तेमाल करता है तो यह पाकिस्तान के लिए पानी की कमी का कारण भी बन सकता है। एक तरफ जहां पाकिस्तान अभी सरकार के गठन से लेकर आईएमएफ से पुनः लोन लेने की प्लानिंग में उलझा हुआ है और उसे न्यूनतम 6 अरब डॉलर के कर्ज की जरूरत है, तो दूसरी ओर अब उसे पानी का भी हल निकालना होगा। यह दिखाता है कि पाकिस्तान दसों दिशाओं से मुसीबतों का सामना कर रहा है, जिसके चलते उसकी मुसीबतें बढ़ सकती है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो