scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

India-Maldives: भारत-मालदीव के बीच बढ़ती तकरार के बीच उच्चायुक्त मुनु महावर की मालदीव में बैठक, जानिए वजह

मालदीव के कुछ मंत्रियों ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लक्षद्वीप यात्रा के बाद आपत्तिजनक बयान दिए थे। जिसके बाद विवाद गहरा गया है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Mohammad Qasim
नई दिल्ली | Updated: January 08, 2024 15:41 IST
india maldives   भारत मालदीव के बीच बढ़ती तकरार के बीच उच्चायुक्त मुनु महावर की मालदीव में बैठक  जानिए वजह
मालदीव में भारत के उच्चायुक्त मनु माहवार (फोटो : X)
Advertisement

भारत और मालदीव के बीच विवाद लगातार गहराता जा रहा है। मालदीव के कुछ मंत्रियों ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लक्षद्वीप यात्रा के बाद आपत्तिजनक बयान दिए थे। इन बयानों पर भारत ने ना सिर्फ कड़ी आपत्ति जताई बल्कि भारत में मालदीव के उच्चायुक्त इब्राहिम शाहीब को तलब तक कर लिया गया। बात यहीं खत्म नहीं हुई है, अब मालदीव की राजधानी माले में मौजूद भारतीय उच्चायुक्त मुनु महावर ने भी वहां के अधिकारियों के साथ बैठक की है।

क्या है मामला?

मालदीव में भारतीय उच्चायुक्त मुनु महावर ने सोमवार को मालदीव के विदेश मंत्रालय के अधिकारियों से मुलाकात की है। यह मुलाकात काफी सुर्खियों में आ गई है क्योंकि दोनों देशों के बीच फिलहाल राजनीतिक तकरार दिखाई दे रहा है। हालांकि इस बैठक को पूर्व-निर्धारित बैठक बताया जा रहा है। हाल ही में लक्षद्वीप यात्रा के बाद प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणियों पर चल रहे विवाद के बीच विदेश मंत्रालय ने मालदीव के दूत इब्राहिम शाहीब को नई दिल्ली में अपने साउथ ब्लॉक स्थल पर बुलाया था।

Advertisement

सोशल मीडिया के जरिए जानकारी दी गई है कि मुनु महावर ने दोनों देशों के द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा करने के लिए आज मालदीव के एमओएफए में राजदूत अली नसीर मोहम्मद से मुलाकात की है।

Advertisement

क्यों बढ़ रहा है विवाद?

मालदीव और भारत के बीच बढ़ते विवाद की असल वजह पर्यटन को कहा जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले यह कहा जा रहा है कि मालदीव के स्थानीय अखबारों ऐसी खबरें चलाई हैं कि जिसमें कहा गया कि भारत ने मालदीव में पर्यटन के खिलाफ एक अभियान शुरू किया है।

Advertisement

मामला इतना बढ़ा कि मालदीव और लक्षद्वीप के पर्यटन में तुलना की जाने लगी तो यहां से यह समझना आसान है कि पूरा मामला पर्यटन से जुड़ा है। लेकिन मालदीव में भारत विरोधी भावनाएं नई नहीं हैं। 2020 में भी इस तरह का विवाद तब सामने आया था जब मालदीव में ‘इंडिया आउट’ अभियान चलाया गया था। यह सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था और मालदीव की ओर से इस संबंध में कई बयान दिए गए थे। हालांकि मालदीव के राष्ट्रपति ने एक बयान जारी कहा है कि उनकी सरकार का मंत्रियों के बयानों से कोई लेना देना नहीं है। जिसके बाद मंत्रियों को बर्खास्त भी कर दिया गया।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो