scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

भाई के पास जाना चाहता था अमेरिका, नहीं मिला वीजा तो अपनाया ये तरीका, जानें आखिर क्या हुआ

गुरप्रीत सिंह भाई के पास जाने के लिए इतना ज्यादा बेसब्र था कि इसके लिए वह कुछ भी करने को तैयार हो उठा था। एजेंट सुल्तान सिंह ने उसे पहले भी अमेरिका भेजने की कोशिश की थी, लेकिन उस बार भी वह पकड़ा गया था।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: March 15, 2024 12:22 IST
भाई के पास जाना चाहता था अमेरिका  नहीं मिला वीजा तो अपनाया ये तरीका  जानें आखिर क्या हुआ
पूछताछ में गुरप्रीत सिंह ने बताया कि उसके एजेंट ने उसे अमेरिका भेजने के लिए उससे 50 लाख रुपये में सौदा किया था।
Advertisement

बड़े भाई से मिलने अमेरिका जा रहे एक युवक को जब वहां का वीजा नहीं मिला तो उसने ट्रैवल एजेंट की मदद ली। यह मदद उसके लिए भारी परेशानी की वजह बन गई। ट्रैवल एजेंट सुल्‍तान सिंह की लापरवाही से वह कजाकिस्तान पहुंच गया। वहां के अल्माती एयरपोर्ट पर ट्रैवल एजेंट की लापरवाही की पोल खुल गई, लिहाजा गुरप्रीत सिंह को वहां से वापस भारत भेज दिया गया। गुरप्रीत ने पूछताछ में बताया कि एजेंट ने 50 लाख रुपये लेकर उसे अमेरिका भेजने के लिए व्यवस्था करने की बात कही थी। अब एयरपोर्ट की पुलिस मामले की जांच कर रही है।

कजाकिस्‍तान के अल्‍माती एयरपोर्ट पर बिगड़ गया मामला

मीडिया सूत्रों के मुताबिक गुरप्रीत सिंह कुछ दिन पहले अमेरिका जाने के लिए दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर पहुंचा था। एजेंट सुल्तान सिंह के बताए अनुसार वह सबसे पहले वोटर आईडी कार्ड के जरिए भूटान गया। वहां कुछ दिन ठहरने के बाद वह भारतीय पासपोर्ट की मदद से थाईलैंड चला गया। थाईलैंड से वह कजाकिस्तान पहुंच, क्योंकि भारतीय पासपोर्ट पर कजाकिस्‍तान के अल्‍माती शहर आने वाले यात्रियों के लिए वीजा ऑन अराइवल की सुविधा थी। ऐसे में वह अल्‍माती पहुंच गया। अल्‍माती एयरपोर्ट पर पहुंचते ही सारा मामला बिगड़ गया।

Advertisement

पासपोर्ट की जांच में चार पेज थे गायब, अफसरों ने किया डिपोर्ट

यहीं से उसके लिए दिक्कतें शुरू हो गईं। वहां जब उसके पासपोर्ट की जांच हुई तो उसमें अफसरों को चार पेज गायब दिखे। ये पेज नंबर 13, 14, 23 और 24 थे। इससे उनको शक हुआ कि मामले में कुछ गड़बड़ी है। इमीग्रेशन अफसरों ने उसे शहर में जाने की इजाजत नहीं दी और वापस भारत भेज दिया गया। दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर पहुंचते ही उसे यहां के इमीग्रेशन अफसरों ने पकड़ लिया और पूछताछ शुरू की। उसके खिलाफ आईजीआई एयरपोर्ट पुलिस कई धाराओं में केस दर्ज कर जांच पड़ताल कर रही है।

फिलहाल पूछताछ में गुरप्रीत सिंह ने बताया कि उसके एजेंट ने उसे अमेरिका भेजने के लिए उससे 50 लाख रुपये में सौदा किया था। यह तय हुआ था कि 10 लाख रुपये तुरंत और 40 लाख रुपये अमेरिका पहुंचकर दिया जाना था। उसने यह भी स्वीकारा कि पासपोर्ट के पेज फाड़कर गायब करने के लिए एजेंट ने ही कहा था।

Advertisement

गुरप्रीत सिंह भाई के पास अमेरिका जाने के लिए इतना ज्यादा बेसब्र था कि इसके लिए वह कुछ भी करने को तैयार हो उठा था। एजेंट सुल्तान सिंह ने उसे पहले भी अमेरिका भेजने की कोशिश की थी, लेकिन उस बार भी वह पकड़ा गया था।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो