scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Train Strike: जर्मनी में क्यों हुई ट्रेन स्ट्राइक? लाखों लोग परेशान, रेलवे स्टेशनों पर पसरा सन्नाटा

जर्मनी में मंगलवार से शुरू हुई ट्रेन ड्राइवरों की हड़ताल शुक्रवार शाम 6 बजे तक रहेगी।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: shruti srivastava
नई दिल्ली | Updated: January 10, 2024 16:30 IST
train strike  जर्मनी में क्यों हुई ट्रेन स्ट्राइक  लाखों लोग परेशान  रेलवे स्टेशनों पर पसरा सन्नाटा
जर्मनी में विवाद
Advertisement

जर्मनी में अचानक हुई ट्रेन स्ट्राइक से लाखों लोग परेशान हैं। जर्मनी के ट्रेन ड्राइवरों का प्रतिनिधित्व करने वाले एक संघ ने काम के घंटों और वेतन को लेकर राज्य के स्वामित्व वाले मुख्य रेलवे ऑपरेटर के साथ विवाद के बाद बुधवार सुबह लगभग तीन दिवसीय हड़ताल शुरू कर दी। ट्रेनों के न चलने से रेलवे स्टेशनों पर सन्नाटा पसरा हुआ है।

देश भर में और कई शहरों में ट्रेन यात्रा लगभग ठप हो गई है। यात्री बस या कार यात्रा या फ्लाइट से लेकर लंबी दूरी के लिए ट्रेन के दूसरे विकल्प खोजने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। राज्य के स्वामित्व वाली डॉयचे बान ने कहा कि लंबी दूरी की केवल 20% ट्रेनें चल रही थीं और बर्लिन जैसे शहरों में कम्यूटर ट्रेनें भी परिचालन में नहीं थीं।

Advertisement

तीन दिन की हड़ताल पर यूनियन

मालगाड़ियों को लेकर जीडीएल यूनियन की हड़ताल मंगलवार शाम से शुरू हो गई। वेतन विवाद में, जीडीएल यूनियन ने पिछले साल पहले ही दो चेतावनी हड़तालें बुलाई थीं, जो यात्री परिवहन में अधिकतम 24 घंटे तक चली थीं। मौजूदा हड़ताल शुक्रवार शाम 6 बजे तक रहेगी। डॉयचे बान ने अंत तक हड़ताल को कानूनी रूप से रोकने की कोशिश की थी, लेकिन मंगलवार रात एक अदालत ने आदेश दिया कि हड़ताल आगे बढ़ सकती है। पिछले महीने के अंत में, जीडीएल के सदस्यों ने विवाद के बाद हड़ताल करने के लिए बड़ी संख्या में मतदान किया।

क्या है हड़ताल करने वालों की मांग?

वेतन वृद्धि के अलावा, केंद्रीय मुद्दा यूनियन की मांग है कि वेतन कटौती के बिना शिफ्ट श्रमिकों के घंटों को प्रति सप्ताह 38 से घटाकर 35 घंटे किया जाए, जिस मांग पर नियोक्ता अब तक अड़े हुए हैं। जीडीएल का तर्क है कि यह रेलवे के लिए काम को और अधिक आकर्षक बना देगा और नई भर्तियों को आकर्षित करने में मदद करेगा, जबकि डॉयचे बान का कहना है कि मांग व्यावहारिक रूप से पूरी नहीं की जा सकती है।

जर्मनी के परिवहन मंत्री वोल्कर विसिंग ने दोनों पक्षों से बातचीत करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि ऐसा रास्ता ढूंढना होगा जिससे दोनों पक्ष साथ मिल सकें। मंत्री ने कहा, “इसका मतलब है एक दूसरे से बात करना। मैं दोनों पक्षों से बातचीत पर लौटने का आग्रह करता हूं।" हालांकि, यूनियन प्रमुख क्लॉस वेसेल्स्की ने कहा कि बेहतर प्रस्ताव पेश करना अब डॉयचे बान पर निर्भर है। अगर शुक्रवार तक कोई नया प्रस्ताव नहीं आता है, तो हम ब्रेक लेंगे और अगली हड़ताल पर जाएंगे।

Advertisement

किसान भी हड़ताल पर

ट्रेन चालकों की हड़ताल के साथ ही वहां किसानों की भी हड़ताल चल रही है, जो सोमवार से देश के कुछ हिस्सों में शहर की सड़कों और राजमार्ग पहुंच मार्गों को अवरुद्ध कर रहे हैं। उन्होंने कृषि में इस्तेमाल होने वाले डीजल पर टैक्स छूट खत्म करने की सरकारी योजना के विरोध में अपने ट्रैक्टरों से यातायात बाधित कर दिया है और इससे जर्मनी में यातायात की समस्याएं और बढ़ गई हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो