scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

G7 सम्मेलन में आज शामिल होंगे PM मोदी, भारत को क्या हासिल होने वाला है?

अब पीएम मोदी इटली के लिए रवाना हो चुके हैं, आज यानी कि शुक्रवार को दुनिया के कई बड़े नेताओं के साथ उनकी अहम मुलाकात होनी है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Sudhanshu Maheshwari
नई दिल्ली | June 14, 2024 01:28 IST
g7 सम्मेलन में आज शामिल होंगे pm मोदी  भारत को क्या हासिल होने वाला है
जी7 के लिए पीएम मोदी रवाना
Advertisement

कहने को भारत अभी जी7 का हिस्सा नहीं है लेकिन पिछले कई सालों से मित्र देश के रूप में उसे आमंत्रण मिलता आ रहा है। इसी कड़ी में इटली की प्रधानमंत्री जॉर्जिया मेलोनी ने पीएम मोदी को इस बार के जी7 सम्मेलन के लिए न्योता भेजा था, उनकी तरफ से तो लोकसभा चुनाव के दौरान ही निमंत्रण भेज दिया गया।

Advertisement

अब पीएम मोदी इटली के लिए रवाना हो चुके हैं, आज यानी कि शुक्रवार को दुनिया के कई बड़े नेताओं के साथ उनकी अहम मुलाकात होनी है, कई द्विपक्षी वार्ताएं रखी गई हैं। इटली की प्रधानमंत्री जॉर्जिया मेलोनी के साथ भी कई मुद्दों पर उनकी चर्चा होने जा रही है।

Advertisement

पीएम मोदी का पूरा प्रोग्राम

बताया जा रहा है कि पीएम मोदी सबसे पहले फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युअल मैक्रो से मुलाकात करेंगे. उसके बाद ब्रिटेन के राष्ट्रपति ऋषि सड़क के साथ भी उनकी चर्चा होनी है। जर्मनी के चांसलर ओलाफ शोल्ज के साथ भी उनकी मुलाकात तय मानी जा रही है। अब इतने नेताओं से पीएम मोदी मुलाकात करने वाले हैं, लेकिन अभी तक यह साफ नहीं अगर अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन के साथ भी उनकी बैठक होने वाली है। बताया जा रहा है कि अंत में इटली की पीएम ने मेहमान राष्ट्रीय अध्यक्षों के लिए एक डिनर का कार्यक्रम भी आयोजित किया है, ऐसे में वहां पर पीएम मोदी भी जाने वाले हैं।

जी 7 इतना ताकतवर कैसे है?

अभी हर किसी के मन में सवाल है कि आखिर G7 क्या सही में इतना ताकतवर है भी? जानकारी के लिए बता दें कि G7 के जो देश हैं, वो दुनिया की जीडीपी का 40% हिस्सा है। इसके अलावा दुनिया भर के व्यापार की जब बात आती है तो जी-7 की हिस्सेदारी उसमें 30 से 35 फीसदी के करीब बैठती है। समझने वाली बात यह भी है कि इस समय जो वर्ल्ड बैंक और आईएमएफ है, वहां भी जी7 देश की सबसे ज्यादा चलती है। आर्थिक नीतियों के मामले में भी G7 के देशों की हर राय को स्वीकृति दी जाती है।

जी7 की ताकत कहां-कहां मौजूद?

वर्तमान में यूएनएससी का प्रभाव जिस तरह से घट चुका है, जिस तरह से लगातार चीन और रूस के तनावपूर्ण रिश्तों की वजह से कोई भी बड़े पैसे नहीं हो पाए उसे स्थिति मे भी G7 अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई है। दिलचस्प बात यह भी है कि जो G7 देश हैं, उनके पास गूगल, एप्पल, माइक्रोसॉफ्ट, अमेजॉन जैसी तमाम बड़ी कंपनियां मौजूद हैं, कहना चाहिए उनके मेन स्टेशन इन्हीं देशों में इस समय मौजूद हैं, ऐसे में टेक्नोलॉजी के लिहाज से भी यह सारे देश सबसे ज्यादा तेज गति से आगे बढ़ते हुए दिख रहे हैं।

Advertisement

भारत और इटली का रिश्ता

भारत के लिए तो मित्र देश के रूप में भी शिखर सम्मेलन में शामिल होना मायने रखता है क्योंकि भारत और इटली की दोस्ती कई दशक पुरानी है। इटली और भारत के बीच में 125000 करोड़ का व्यापार होता है, इटली की 700 से ज्यादा कंपनियां भी इस समय भारत में काम कर रही है और खूब मुनाफा कमा रही हैं। पिछले कुछ सालों में इटली का निवेश भी भारत में काफी ज्यादा बढ़ चुका है, वर्तमान में यह आंकड़ा 28700 करोड़ के करीब बैठता है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो