scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

G7 Summit: इस बार क्या है जी7 सम्मेलन का एजेंडा, समझिए आखिर क्यों एक बार फिर मिला भारत को न्योता

G7 Summit PM Modi: इटली के पुगालिया में 13-15 जून के बीच जी7 शिखर सम्मेलन होना है, जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल होंगे।
Written by: न्यूज डेस्क
नई दिल्ली | Updated: June 13, 2024 10:32 IST
g7 summit  इस बार क्या है जी7 सम्मेलन का एजेंडा  समझिए आखिर क्यों एक बार फिर मिला भारत को न्योता
इटली में होगी मेलोनी और पीएम मोदी की की मुलाकात (सोर्स - Rauters)
Advertisement

G7 Summit Italy: इटली के खूबसूरत शहर पुगलिया में 13-15 जून के बीच जी7 शिखर सम्मेलन होना है। यह शिखर काफी अहम समय में हो रहा है क्योंकि दुनिया कई संकटों से जूझ रही है। एक तरफ जहां यूक्रेन से रूस का युद्ध जारी है, तो दूसरी ओर इजरायल गाजा पर बम बरसा रहा है। इस शिखर सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन, फ्रांस के इमैनुएल मैक्रोन और ब्रिटेन के ऋषि सुनक जैसे नेता शामिल होंगे।

Advertisement

खास बात यह है कि इस सम्मेलन में शामिल होने के लिए भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी न्योता भेजा गया है, जो कि इटली के लिए रवाना हो गए हैं। शिखर सम्मेलन का एजेंडा वर्तमान परिस्थितियों और अन्य वैश्विक चुनौतियों के आधार पर है। 2023 की तरह भारत सहित कुछ गैर-जी7 देशों को भी इसमें आमंत्रित किया गया है। ऐसे में शिखर सम्मेलन के एजेंडे पर नजर डालना काफी अहम है।

Advertisement

किन मुद्दों पर होगी चर्चा

जी-7 शिखर सम्मेलन के एजेंडे पर बात करें तो आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक शिखर सम्मेलन में छह प्रमुख वर्किंग सेशंस के माध्यम से विभिन्न वैश्विक मुद्दों पर चर्चा की जाएगी।

इसमें अफ्रीका, जलवायु परिवर्तन और विकास से लेकर, मध्य पूर्व, यूक्रेन, लगातार हो रहे माइग्रेशन, हिंद-प्रशांत और आर्थिक सुरक्षा, अफ्रीका, भूमध्य सागर, कृत्रिम बुद्धिमत्ता और ऊर्जा पर आमंत्रित राष्ट्रों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के साथ सत्र अहम मुद्दे होंगे।

Advertisement

क्या है G7 ग्रुप?

G7 ग्रुप की बात करें तो यह में अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली, जर्मनी, कनाडा और जापान शामिल हैं। इस समय में इटली इस ग्रुप का अध्यक्ष है। इटली ही इस वर्ष शिखर सम्मेलन आयोजित कर रहा है। जी-7 सदस्य देश वर्तमान में ग्लोबल जीडीपी का लगभग 45% और दुनिया की 10% से अधिक आबादी का प्रतिनिधित्व करते हैं।

Advertisement

बता दें कि भारत इस गुट का मेंबर नहीं है, लेकिन एक बार फिर उसे आमंत्रित किया गया है। जी 7 देशों के इस गुट में जापान के अलावा कोई भी एशिया का देश नहीं है। आर्थिक आधार पर बने इस गुट को लेकर चर्चाएं यह भी है कि वैश्विक स्तर पर बदलती आर्थिक हैसियत के चलते जी7 का स्वरूप क्यों नहीं बदला जाना चाहिए।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो