scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

भारत पर उंगली उठाने से पहले दुनिया का हाल, हर जगह किसान दिख रहा कितना परेशान

भारत ही नहीं कई अन्य देशों में भी किसान अपने सरकार की नीतियों के खिलाफ और अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं।
Written by: shrutisrivastva
नई दिल्ली | Updated: March 01, 2024 23:24 IST
भारत पर उंगली उठाने से पहले दुनिया का हाल  हर जगह किसान दिख रहा कितना परेशान
पोलैंड में किसानों का विरोध प्रदर्शन (Source- AP)
Advertisement

भारत में इन दिनों किसान आंदोलन ज़ोर शोर से जारी है। MSP सहित कई मांगों को लेकर भारतीय किसान राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर डटे हुए हैं। शंभू और खनौरी बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन की अगली रणनीति का ऐलान 3 मार्च को होने की उम्मीद है। सरकार के साथ चौथे दौर की वार्ता के फेल होने के बाद अब किसानों के अगले कदम का इंतजार है। वहीं, सरकार की पूरी कोशिश है कि आंदोलन को जल्द से जल्द समाप्त किया जाये पर किसान मानने को तैयार नहीं हैं। इस बीच भारत ही नहीं कई अन्य देशों में भी किसान अपने सरकार की नीतियों के खिलाफ और अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। आइये जानते हैं जर्मनी, फ्रांस, पोलैंड जैसे विकसित देशों में भी आखिर अन्नदाता क्यों परेशान हैं?

पोलैंड- पूरे यूरोप में किसान जलवायु परिवर्तन और बढ़ती लागत से निपटने के लिए यूरोपीय संघ के 'ग्रीन डील' नियमों द्वारा उन पर लगाई गई बाधाओं के खिलाफ कई हफ्तों से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। उनके अनुसार यूरोपीय संघ के बाहर विशेष रूप से यूक्रेन से अनुचित प्रतिस्पर्धा है। यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के बाद यूरोपीय संघ ने 2022 में यूक्रेनी खाद्य आयात पर शुल्क माफ कर दिया। पोलैंड ने पिछले साल यूक्रेनी अनाज आयात पर प्रतिबंध बढ़ा दिया था। किसानों ने इस महीने की शुरुआत में पूरे देश में विरोध प्रदर्शनों की एक श्रृंखला शुरू की, जिसमें सभी यूक्रेनी सीमा क्रॉसिंगों की लगभग पूर्ण नाकाबंदी के साथ-साथ देश भर में बंदरगाहों और सड़कों पर रोक लगाना भी शामिल था।

Advertisement

मध्य पोलैंड के एक किसान ने कहा, "हम विरोध कर रहे हैं क्योंकि हम चाहते हैं कि 'ग्रीन डील' को हटाया जाए क्योंकि यह हमारे खेतों को दिवालियापन की ओर ले जाएगा। हम जो फसल काटते हैं और जो हमें भुगतान किया जाता है उसमें अंतर है।" उन्होंने कहा, "हमारे काम के लिए हमें जो भुगतान मिलता है, वह यूक्रेन से अनाज की आमद के कारण कम हो गया है और हमारी दूसरी मांग है यूक्रेन से अनाज की आमद को रोकना।"

जर्मनी- सब्सिडी में कटौती के ख़िलाफ़ राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन

जर्मनी में किसानों ने सब्सिडी में कटौती के विरोध में इस साल 8 जनवरी को देशव्यापी विरोध प्रदर्शन शुरू किया। कृषि डीजल पर कर छूट को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने के सरकार के फैसले ने प्रदर्शनों को बढ़ावा दिया क्योंकि किसानों को डर है कि इससे दिवालियापन हो सकता है। इस बारे में अगली बैठक 22 मार्च को होने वाली है। फिलहाल सरकार और किसानों के बीच विवाद के समाधान में कुछ और महीने लग सकते हैं।

ग्रीस- किसानों ने हाई एनर्जी कॉस्ट और जलवायु परिवर्तन के बढ़ते प्रभाव से निपटने के लिए सरकारी सहायता की मांग करते हुए मध्य और उत्तरी ग्रीस में नाकेबंदी कर दी है। जबकि सरकार ने ऊर्जा लागत और कर छूट में मदद का वादा किया था किसानों ने 3 फरवरी को एक कृषि मेले के बाहर चेस्टनट और सेब फेंककर अपना विरोध प्रदर्शन तेज कर दिया।

Advertisement

स्पेन- अत्यधिक करों के ख़िलाफ़ राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन

यूरोपीय संघ (EU) द्वारा लगाए गए पर्यावरण नियमों, अत्यधिक करों और नौकरशाही लालफीताशाही जैसे मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करते हुए, स्पेनिश किसानों ने 6 फरवरी को देशव्यापी विरोध प्रदर्शन शुरू किया। 10 फरवरी को मैड्रिड में विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया, जहां पुलिस के साथ झड़पें हुईं क्योंकि किसानों और ट्रक ड्राइवरों ने मुख्य सड़कों को अवरुद्ध करने की मांग की। किसानों ने पूरे फरवरी भर सड़कों पर विरोध प्रदर्शन जारी रखने की योजना बनाई है।

इटली: कृषि क्षेत्र को समर्थन में कटौती के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन

इटली में, किसानों ने पूरे यूरोप के किसानों की चिंताओं के साथ अपनी समस्याओं को जोड़ते हुए, कृषि क्षेत्र के लिए समर्थन में कमी का विरोध करने के लिए रोम में एक काफिला निकाला। विभिन्न क्षेत्रों में किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है, जो राष्ट्रीय और यूरोपीय संघ दोनों स्तरों पर कृषि नीतियों के प्रति असंतोष को दर्शाता है।