scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

कब्ज की परेशानी ने कर दिया है बुरा हाल? रोज़ बस 30 मिनट कर लें ये 3 योगासन, आसानी से साफ होने लगेगा पेट

अगर कब्ज का समय रहते इलाज न किया जाए, तो ये बवासीर, भगंदर, अल्सर और फिशर समेत कई गंभीर बीमारियां भी पैदा कर सकता है। ऐसे में समय रहते कब्ज से छुटकारा पाना बेहद जरूरी हो जाता है।
Written by: हेल्थ डेस्क | Edited By: Shreya Tyagi
नई दिल्ली | February 23, 2024 15:13 IST
कब्ज की परेशानी ने कर दिया है बुरा हाल  रोज़ बस 30 मिनट कर लें ये 3 योगासन  आसानी से साफ होने लगेगा पेट
यहां हम आपको 3 ऐसे योगासन बता रहे हैं, जिनके नियमित अभ्यास से कब्ज और पेट से जुड़ी कई अन्य परेशानियों से निजात पाई जा सकती है। (P.C-Freepik)
Advertisement

क्या आप भी रोज़ देर तक टॉयलेट में समय बिताते हैं और इसके बावजूद आपका पेट ठीक ढंग से साफ नहीं हो पाता है? अगर हां, तो बता दें कि इस तरह की परेशानी से जूझने वाले आप अकेले नहीं हैं। आज के समय में अधिकतर लोग तला-भुना और मसालेदार भोजन करना ज्यादा पसंद करते हैं, साथ ही शारीरिक गतिविधियां भी लोगों के जीवन से कम हुई हैं। ऐसे में खराब खानपान की आदत और लाइफस्टाइल में गड़बड़ी के चलते आपका भोजन ठीक ढंग से पच नहीं पाता है, जिससे कब्ज जैसी परेशानी होना आम हो जाता है। वहीं, अगर कब्ज का समय रहते इलाज न किया जाए, तो ये बवासीर, भगंदर, अल्सर और फिशर समेत कई गंभीर बीमारियां भी पैदा कर सकता है। ऐसे में समय रहते कब्ज से छुटकारा पाना बेहद जरूरी हो जाता है।

इसके लिए आप बेहतर खानपान के साथ योग का सहारा ले सकते हैं। यहां हम आपको 3 ऐसे योगासन बता रहे हैं, जिनके नियमित अभ्यास से कब्ज और पेट से जुड़ी कई अन्य परेशानियों से निजात पाई जा सकती है।

Advertisement

मलासन

लिस्ट में पहला नाम आता है मलासन का। वहीं, जैसा कि नाम से ही साफ है, मलासन करने के लिए आपको मल त्याग करते समय जिस पेजीशन में बैठा जाता है, वैसे ही आपको इस योगासन में बैठना है। इसके लिए सुबह जल्दी उठकर दो गिलास हल्का गुनगुना पानी पिएं और करीब 10 मिनट के लिए मलासन की स्थिति में बैठ जाएं।

दरअसल, आज के समय में घरों और दफ्तरों में वेस्टर्न स्टाइल टॉयलेट्स ज्यादा होते हैं। इन टॉयलेट्स के अपने फायदे हैं मगर, मलासन की स्थिति में बैठने पर अब्डोमिनल नसें मजबूत होती हैं, पेट की मांसपेशियां लचीली होती हैं और आपको मल त्यागने में आसानी होती है। हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, नियमित तौर पर मलासन का अभ्यास कब्ज की समस्या से जल्द निजात दिलाने में असरदार हो सकता है।

क्या है सही तरीका?

  • मलासन में बैठने के लिए सबसे पहले अपने घुटनों को मोड़कर मल त्याग करने वाली अवस्था में बैठ जाएं।
  • अब, हाथों को जोड़ते हुए नमस्कार करने वाली मूद्रा बना लें और अपनी कोहनियों की मदद से घुटनों को हल्का बाहर की तरफ धकेलें।
  • इस आसान में आपको धीरे-धीरे सांस को अंदर और बाहर छोड़ते रहना है।
  • आप कुछ देर इसी स्थिति में बैठें और डीप ब्रीदिंग करें।
  • इसके बाद हाथों को नमस्कार मूद्रा में ही उपर की ओर ले जाएं और धीरे-धीरे हाथों को खोलते हुए उठें।
  • आप 5-5 मिनट के अंतराल में कुल 10 मिनट मलासन का अभ्यास कर सकते हैं।

वज्रासन

मलासन करने के बाद 10 मिनट तक वज्रासन का अभ्यास करें। वज्रासन पाचन को दुरुस्त रखने में बेहद मददगार साबित हो सकता है। ये पैरों और जांघों में रक्त के प्रवाह को बाधित कर इसे पेट के क्षेत्र में बढ़ा देता है, जिससे मल त्याग में सुधार होता है। इस तरह ये आपको कब्ज की परेशानी से छुटकारा पाने में मदद कर सकता है।

Advertisement

कैसे करें वज्रासन?

  • वज्रासन करने के लिए सबसे पहले जमीन पर मैट बिछाकर घुटनों को मोड़कर बैठ जाएं। इस दौरान आपकी पीठ और सिर एकदम सीधे होने चाहिए।
  • इसके बाद अपनी हथेलियों को घुटनों पर रख लें।
  • इसी अवस्था में 5 मिनट तक बैठते हुए लंबी-लंबी सांसें लें।
  • इससे आपका भोजन तेजी से डाइजेस्ट हो जाएगा।
  • इस आसन को भी आप 5-5 मिनट के अंतराल में दो बार यानी कुल 10 मिनट कर सकते हैं।

कटि चक्रासन

मलासन, वज्रासन के बाद कटि चक्रासन का अभ्यास करें। ये आसन बॉवल मूवमेंट को नियमित बनाए रखने में मददगार है, जिससे भी पेट साफ करने में आसानी होगी और आपको कब्ज से राहत मिल पाएगी। ॉ

कैसे करें कटि चक्रासन?

  • कटि चक्रासन करने के लिए पैरों के बीच में थोड़ा गैप कर खड़े हो जाएं।
  • अब, अपने दोनों हाथों को कंधे की सीध में और मुंह के सामने कर लें। इस दौरान अपनी हथेलियां भी एक-दूसरे के सामने होनी चाहिए।
  • ऐसा करने के बाद अपने दोनों हाथों के बीच में छाती जितना फासला रखते हुएं लंबी सांस अंदर भरें और कमर से दायीं ओर मुड़ जाएं। ऐसा करते वक्त आपकी पीठ और पैर एकदम सीधे रहने चाहिएं। केवल गर्दन को हाथों के साथ घुमाना है।
  • इस दौरान पैर एक ही जगह पर रखते हुए हाथों को जितना हो सकते पीछे की ओर ले जाने की कोशिश करें।
  • ऐसा ही बायीं ओर दोहारएं और तीन से पांच बार इसका अभ्यास करें।
  • इस तरह 10-10 मिनट इन 3 योगासन का अभ्यास आपको कब्ज की समस्या से निजात पाने में मदद कर सकता है।

Disclaimer: आर्टिकल में लिखी गई सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य जानकारी है। किसी भी प्रकार की समस्या या सवाल के लिए डॉक्टर से जरूर परामर्श करें।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो