scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

World Thalassemia Day 2024: क्या आयरन की कमी और थैलेसीमिया एक ही है? जानें दोनों रोगों के बीच अंतर, लक्षण और उपचार

Difference Between Iron Deficiency And Thalassemia: आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया और थैलेसीमिया अलग-अलग मूलभूत कारणों, लक्षणों और उपचार दृष्टिकोणों वाले अलग-अलग बीमारी हैं। जानें विस्तार से इसके बारे में
Written by: Shivani Singh
नई दिल्ली | Updated: May 08, 2024 17:41 IST
world thalassemia day 2024  क्या आयरन की कमी और थैलेसीमिया एक ही है  जानें दोनों रोगों के बीच अंतर  लक्षण और उपचार
जानिए आयरन की कमी और थैलेसीमिया के बीच अंतर
Advertisement

World Thalassemia Day 2024: हर साल 8 मई को विश्व थैलेसीमिया दिवस (World Thalassemia Day) मनाया जाता है। इस दिन का खास मकसद है कि लोगों के इस रोग के प्रति जागरूक करना। इसके साथ ही इसके लक्षण, निदान के साथ उपचार के बारे में जानना। बता दें कि  थैलेसीमिया (Thalassemia) खून से जुड़ी एक जेनेटिक बीमारी है। इस रोग से शिकार व्यक्ति के शरीर में हीमोग्लोबिन बनना बंद हो जाते हैं।खून से जुड़ी होने के कारण कई लोग इसे आयरन की कमी (Iron deficiency) मान लेते हैं। लेकिन आपको बता दें कि यह दोनों रोग अलग-अलग है। आइए न्यूबर्ग डायग्नोस्टिक्स के सलाहकार रोगविज्ञानी डॉ. आकाश शाह से जानते हैं आयरन की कमी और थैलेसीमिया के बीच अंतर क्या है। इसके साथ ही जानें दोनों के लक्षण, निदान और उपचार के बारे में..

डॉ. आकाश शाह के मुताबिक, आयरन की कमी और थैलेसीमिया दो अलग-अलग रोग हैं, जो शरीर की स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करने की क्षमता को प्रभावित करती हैं। लेकिन वे अपने मूलभूत कारणों, लक्षणों और उपचार के तरीकों में भिन्न होते हैं। सटीक निदान और उचित उपचार-प्रबंधन के लिए इन रोगों के बीच अंतर को समझना आवश्यक है।

Advertisement

आयरन की कमी (Iron deficiency)

आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया तब होता है जब शरीर में हीमोग्लोबिन का निर्माण करने के लिए पर्याप्त आयरन की कमी होती है। हीमोग्लोबिन लाल रक्त कोशिकाओं में वह प्रोटीन होता है जो ऑक्सीजन को पूरे शरीर में ऊतकों तक पहुंचाता है। आयरन की कमी विभिन्न कारणों से हो सकती है, जिनमें आयरन का अपर्याप्त सेवन, रक्त की हानि (जैसे मासिक धर्म या गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रक्तस्राव), या आयरन को ठीक से अवशोषित करने में असमर्थता शामिल है।

आयरन की कमी के लक्षण ( Symptoms Of Iron deficiency)

आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया के सामान्य लक्षणों में थकान, कमजोरी, पीली त्वचा, सांस लेने में तकलीफ, चक्कर आना, सिरदर्द, ठंडे हाथ-पैर, नाखून का टूटना और गैर-खाद्य पदार्थों (पाइका) की लालसा शामिल हैं।

Advertisement

कैसे पता करें आयरन की कमी है कि नहीं?  ( Test Of Iron deficiency)

आयरन की कमी को जानने का सबसे बेस्ट तरीका ब्लड टेस्ट है। जिनमें हीमोग्लोबिन, हेमाटोक्रिट, सीरम आयरन, फेरिटिन और कुल आयरन-बाइंडिंग क्षमता (टीआईबीसी) के स्तर को मापा जाता है। इन मार्करों का निम्न स्तर आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया का संकेत देता है।

Advertisement

आयरन की कमी को कैसे करें दूर (Treatment Of  Iron Deficiency)

उपचार में आमतौर पर आयरन की कमी को पूरा करने के लिए आयरन अनुपूरण शामिल होता है। आयरन सप्लीमेंट विभिन्न रूपों में उपलब्ध हैं, जिनमें फेरस सल्फेट, फेरस ग्लूकोनेट और फेरस फ्यूमरेट शामिल हैं। आहार परिवर्तन करके लौह-प्रचुर खाद्य पदार्थ जैसे लीन मीट, पोल्ट्री,मछली, सेम, दाल, पोषण मिश्रित अनाज और पत्तेदार हरी सब्जियां शामिल करने की भी सिफारिश की जाती है।

थैलेसीमिया (Thalassemia)

थैलेसीमिया आनुवंशिक रक्त विकार है जिसकी विशेषता हीमोग्लोबिन का असामान्य निर्माण होता है। इसके परिणामस्वरूप लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन कम हो जाता है और एनीमिया होता है। थैलेसीमिया को दो मुख्य प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है: अल्फा थैलेसीमिया और बीटा थैलेसीमिया। यह वर्गीकरण इस बात पर निर्भर करता है कि हीमोग्लोबिन अणु का कौन सा हिस्सा प्रभावित है।

थैलेसीमिया के लक्षण (Thalassemia Symptoms)

थैलेसीमिया के लक्षण रोग के प्रकार और गंभीरता के आधार पर काफी भिन्न हो सकते हैं। हल्के रूपों में कोई लक्षण नहीं हो सकता है या हल्का एनीमिया हो सकता है, जबकि गंभीर रूपों में अधिक गंभीर एनीमिया, थकान, कमजोरी, पीली या पीलियाग्रस्त त्वचा, हड्डियों की विकृति, बढ़ी हुई प्लीहा और बच्चों में धीमी वृद्धि हो सकती है।

कैसे जानें थैलेसीमिया है कि नहीं? (Test For Thalassemia)

 थैलेसीमिया के निदान की पुष्टि आम तौर पर रक्त परीक्षणों से की जाती है जो हीमोग्लोबिन के स्तर को मापते हैं और असामान्य हीमोग्लोबिन पैटर्न की पहचान करते हैं। थैलेसीमिया के विशिष्ट प्रकार और गंभीरता को निर्धारित करने के लिए आनुवंशिक परीक्षण जैसे अतिरिक्त परीक्षण करवाने
आवश्यक हो सकते हैं।

थैलेसीमिया का उपचार (Thalassemia Treatment)

थैलेसीमिया का उपचार रोग के प्रकार और गंभीरता के आधार पर भिन्न होता है। हल्के मामलों में संभवत: उपचार की आवश्यकता न हो, जबकि गंभीर मामलों में हीमोग्लोबिन के स्तर को बनाए रखने और लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए नियमित ब्लड ट्रांसफ़्यूज़न की आवश्यकता हो सकती है। अन्य उपचारों में शरीर से अतिरिक्त आयरन को हटाने के लिए आयरन केलेशन थेरेपी, फोलिक एसिड की खुराक और गंभीर मामलों में, बोने मैरो या स्टेम सेल प्रत्यारोपण शामिल हो सकते हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो