scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

अगर आपके सामने किसी को Cardiac Arrest आ जाए तो सबसे पहले क्या करें? एक्सपर्ट से जानें कैसे बचा सकते हैं जान

हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, कार्डियक अरेस्ट एक ऐसी स्थिति है जहां हृदय धड़कना बंद कर देता है। ऐसा होने पर शरीर के बाकी अंगों को ऑक्सीजन युक्त ब्लड नहीं मिल पाता है और इस तरह ये मौत का कारण बन जाता है।
Written by: हेल्थ डेस्क | Edited By: Shreya Tyagi
नई दिल्ली | February 18, 2024 18:35 IST
अगर आपके सामने किसी को cardiac arrest आ जाए तो सबसे पहले क्या करें  एक्सपर्ट से जानें कैसे बचा सकते हैं जान
कार्डियक अरेस्ट को पहचानने के लिए त्वरित प्रतिक्रिया और कार्रवाई की जरूरत होती है, साथ ही तत्काल प्राथमिक उपचार से आप किसी के जीवन को बचाने में योगदान दे सकते हैं। (P.C- Freepik)
Advertisement

जरा सोचिए आप रास्ते से गुजर रहे हैं या ऑफिस में हैं या किसी पार्टी में एंजॉय कर रहे हैं, तभी अचानक आपके सामने बैठे शख्स को कार्डियक अरेस्ट आ जाए तो आप क्या करेंगे? यकीनन ये एक भयानक अनुभव हो सकता है, साथ ही ऐसा सोचना भी किसी भी आम शख्स के लिए परेशान कर देने वाला हो सकता है लेकिन जरा सोचिए अगर कभी ऐसा हो, तो इस स्थिति में आपका पहला एक्शन क्या होगा? अगर आपके पास फिलहाल इस सवाल का कोई जवाब नहीं है, तो ये आर्टिकल आप ही के लिए है।

इससे पहले जान लेते हैं कि आखिर कार्डियक अरेस्ट होता क्या है-

हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, कार्डियक अरेस्ट एक ऐसी स्थिति है जहां हृदय धड़कना बंद कर देता है। ऐसा होने पर शरीर के बाकी अंगों को ऑक्सीजन युक्त ब्लड नहीं मिल पाता है और इस तरह ये मौत का कारण बन जाता है।

Advertisement

अब, सवाल ये उठता है कि आपको कैसे पता चलेगा कि सामने वाले व्यक्ति को कार्डियक अरेस्ट आया है?

इसे लेकर इंडियन एक्सप्रेस संग हुई एक खास बातचीत के दौरान अधिकारी लाइफलाइन मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल, पालघर के इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ प्रणिल गंगुर्डे बताते हैं, अगर आपके सामने वाला व्यक्ति अचानक बेसुध होकर गिर जाता है (Sudden collapse), नाड़ी और श्वास की अनुपस्थिति है (Absence of Pulse and Breathing) या वो होश में नहीं है (Loss of Consciousness) है, तो ये कार्डियक अरेस्ट की ओर अहम संकेत हो सकते हैं।

इससे अलग अगर पीड़ित के सीने में तकलीफ हो, सांस लेने में तकलीफ हो, साथ ही वह कमजोरी और अनियमित दिल की धड़कन से जूझ रहा है, तो इस स्थिति में भी तुरंत सावधानी बरतें। डॉ गंगुर्डे बताते हैं, कार्डियक अरेस्ट को पहचानने के लिए त्वरित प्रतिक्रिया और कार्रवाई की जरूरत होती है, साथ ही तत्काल प्राथमिक उपचार से आप किसी के जीवन को बचाने में योगदान दे सकते हैं।

Advertisement

वहीं, रूबी हॉल क्लिनिक, पुणे के वरिष्ठ सलाहकार और हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. राहुल पाटिल बताते हैं, 'कभी-कभी उपरोक्त लक्षण कार्डियक अरेस्ट से पहले होते हैं, लेकिन अचानक कार्डियक अरेस्ट अक्सर बिना किसी चेतावनी के होता है। हालांकि, मेरा एक ऐसा अनुभव भी रहा है, जहां एक शख्स ने सीपीआर और एईडी की मदद से एक जान बचाई थी।'

Advertisement

डॉ. पाटिल बताते हैं, 'हवाई अड्डों और शॉपिंग मॉल सहित कई सार्वजनिक स्थानों पर पोर्टेबल ऑटोमेटेड एक्सटर्नल डिफिब्रिलेटर, जिन्हें एईडी (AEDs) कहा जाता है, उपलब्ध होते हैं। आप चाहें तो घरेलू उपयोग के लिए भी इसे खरीद सकते हैं। एईडी स्टेप-बाय-स्टेप वॉइस इंस्ट्रक्शन के साथ आते हैं, इससे आप इन्हें आसानी से इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

किसी को कार्डियक अरेस्ट आए तो सबसे पहले क्या करें?

  • इस सवाल का जवाब देते हुए डॉ. पाटिल बताते हैं, ऐसा होने पर सबसे पहले तुरंत आपातकालीन चिकित्सा सहायता के लिए कॉल करें।
  • इसके बाद पीड़ित को पीठ के बल सीधा लिटा दें और उनके वायुमार्ग को खोल दें।
  • अब, सीपीआर देना शुरू करें। इसके लिए अपने दोनों हाथों की मदद से एक मिनट में 100 से 120 बार पीड़ित की छाती के बीच में जोर से और तेजी से पुश करें। हर एक पुश के बाद छाती को वापस अपनी सामान्य स्थिति में आने दें।
  • यदि उपलब्ध हो तो AEDs का उपयोग करें। सुरक्षित और प्रभावी उपयोग के लिए डिवाइस के निर्देशों का पालन करें। इन तरीकों को अपनाकर आप किसी की जान बचाने में योगदान कर सकते हैं।

Disclaimer: आर्टिकल में लिखी गई सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य जानकारी है। किसी भी प्रकार की समस्या या सवाल के लिए डॉक्टर से जरूर परामर्श करें।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो