scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'द इंडियन मॉन्स्टर से मिस्टर यूनिवर्स तक', बॉडी बिल्डर चित्रेश नटसन कर रहे हैं करोड़ों युवाओं को प्रेरित, जानें उनका वर्कआउट से लेकर डाइट तक

बॉडीबिल्डर चित्रेश नटसन ने बात करते हुए बताया कि कैसे डाइट प्लान और ठीक ढंग से वर्कआउट करके अपनी बॉडी को फिट बना सकते हैं। पड़ें बॉडीबिल्डर चित्रेश नटसन की पूरी जर्नी
Written by: Shivani Singh
नई दिल्ली | Updated: March 23, 2024 12:01 IST
 द इंडियन मॉन्स्टर से मिस्टर यूनिवर्स तक   बॉडी बिल्डर चित्रेश नटसन कर रहे हैं करोड़ों युवाओं को प्रेरित  जानें उनका वर्कआउट से लेकर डाइट तक
बॉडीबिल्डर चित्रेश नटसन से जानें उनका डाइट और वर्कआउट प्लान
Advertisement

कहा जाता है कि व्यक्ति अगर कुछ चाह लें, तो हर एक चुनौती को पार करके वह अपने लक्ष्य को पा ही लेता है। इस लक्ष्य को पाने में कई लोग रास्ते में ही रुक जाते हैं, तो कई ऐसे हैं जो हर एक समस्या को पार करके चैंपियन बनते हैं। इन्हीं चैंपियन्स में से एक नाम है चित्रेश नटसन। केरल में रहने वाले चित्रेश को 'द इंडियन मॉन्स्टर' के नाम से जाना जाता है। चित्रेश एक इंडियन बॉडी बिल्डर हैं, जिन्होंने दक्षिण कोरिया में वर्ल्ड बॉडी बिल्डिंग एंड फिजिक स्पोर्ट्स फेडरेशन द्वारा आयोजित मिस्टर यूनिवर्स 2019 का खिताब अपने नाम किया था। आज चित्रेश करोड़ों लोगों के लिए प्रेरणा के स्त्रोत है। उन्हें ये शोहरत यूं ही हासिल नहीं की है। बल्कि उनके कड़ी मेहनत, पैसों की तंगी से लेकर समाज से लड़कर इसे पाया है। जनसत्ता के साथ खास बातचीत में उन्होंने अपनी जर्नी, अपने प्रशिक्षण कार्यक्रम से लेकर आने वाली हर चुनौती के बारे में बताया। इसके साथ ही अपनी डाइट से लेकर युवाओं को सलाह भी दी है।

बॉडी बिल्डिंग और फिटनेस ट्रेनिंग को लेकर आपकी जर्नी कैसे स्टार्ट हुई?

बॉडी बिल्डिंग और फिटनेस ट्रेनिंग की मेरी जर्नी फिजिकल और मेंटल ट्रांसफॉर्म के लिए एक गहरे पैशन के साथ शुरू हुई। मुझे बहुत कम उम्र से अपनी फिजिक्स को निखारने के लिए जुनून था और इसके लिए मैं किसी भी लिमिट को क्रॉस करने के लिए तैयार था। वास्तव में इस जुनून ने ही मुझे बेहतर रिजल्ट पाने के लिए विभिन्न ट्रेनिंग, टेक्निक और एक्सपेरीमेंट करने के लिए प्रभावित किया। समय के साथ मैं फिटनेस पर ज्यादा फोकस करने लगा और मुझे धीरे-धीरे समझ आने लगा कि इसका न केवल मेरे शरीर पर बल्कि मेरे दिमाग और आत्मा पर भी गहरा प्रभाव पड़ रहा है। इस फील्ड में जैसे-जैसे मेरा नॉलेज और स्किल बढ़ते रहे, तो मुझे समझ आने लगा कि मुझे दूसरों को उनकी फिटनेस जर्नी में भी हेल्प करनी चाहिए। इस अहसास ने मुझे एक पर्सनल ट्रेनर के रूप में करियर बनाने के लिए प्रेरित किया। मुझे सोचने लगा गया कि फिटनेस के प्रति जो मेरा जुनून है, उसे मैं दूसरों की भलाई के लिए कैसे इस्तेमाल कर सकता हूं। मैं डेडिकेशन, हार्ड वर्क और लगातार सीखने की कोशिश करते हुए बॉडी बिल्डिंग और फिटनेस ट्रेनिंग की दुनिया में एक बेहतर रास्ता बनाने में कामयाब हुआ। मुझे पूरा यकीन है कि मेरी लगन और मेहनत का रिजल्ट दूसरों को बेहतर हेल्दी एंड फिट लाइफ जीने में हेल्प कर सकता है।

Advertisement

आपको एक प्रोफेशनल बॉडी बिल्डर और फिटनेस ट्रेनर बनने के लिए किस बात ने इंस्पायर्ड किया?

मैं भारत के केरल में पला-बढ़ा, मैंने मार्शल आर्ट (कलारी) सीखा। यहीं से मुझे डिसिप्लिन और फ्लेक्सिबिलिटी का पता चला। मैं बचपन से फिटनेस की पावर को देखते आया हूं और एक प्रोफेशनल एथलीट के रूप में बड़ा हुआ हूं और मैंने सीखा है कि साथी बिल्डर्स की उनके गोल हासिल करने में क्यों हेल्प की जानी चाहिए। इसके बाद, जब मैं दिल्ली चला गया, तो मुझे एहसास हुआ कि फिटनेस इंडस्ट्री समग्र कल्याण पर उचित विचार किए बिना कैसे काम करती है, यहां फिटनेस पर कम सौंदर्यशास्त्र को ज्यादा प्राथमिकता दी जाती है।मेरा मानना है कि प्रोफेशनल बॉडी ट्रेनर और क्वालिफाइड गाइडेंस के बिना फिटनेस गोल्स को सुरक्षित और प्रभावी ढंग से हासिल नहीं किया जा सकता है। इस अहसास ने ही मुझे फिटनेस के लिए अधिक बैलेंस एप्रोच को बढ़ावा देने और खुद सर्टिफाइड ट्रेनर बनकर इस गैप को खत्म करने के लिए प्रेरित किया।

आपकी फिजिक को मेंटेन रखने के लिए आपका फेवरेट मील या स्नैक क्या है?

मैं ऐसी मील्स का आनंद लेता हूं जो प्रोटीन, कार्ब्स और हेल्दी फैट से भरी होती हैं, जिससे मुझे एनर्जी मिलती है और मसल्स की रिकवरी में हेल्प मिलती है। चाहे वह शकरकंद और सब्जियों के साथ ग्रिल्ड चिकन हो, बेरीज और नट्स के साथ ग्रीक योगर्ट हो, या साबुत अनाज की ब्रेड पर एक एवोकैडो टोस्ट हो, ये ऑप्शन मुझे पूरा पोषण और ऊर्जा देते हैं। पालक, केला, प्रोटीन पाउडर और बादाम दूध से बनी स्मूदी भी न्यूट्रिशन पाने के लिए लिए मेरी फेवरेट है।

Advertisement

आपकी फिटनेस जर्नी में आपके सामने आई कुछ सबसे बड़ी चुनौतियां क्या हैं और आपने उनका कैसे सामना किया?

अपनी फिटनेस जर्नी में मुझे जिन सबसे बड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ा उनमें चोटें, आर्थिक तंगी और इस करियर के लिए सामाजिक अपेक्षाएं शामिल हैं। इन बाधाओं को दूर करने के लिए, मैं फ्लेक्सिबल बना रहा, अपने प्रियजनों से सपोर्ट मांगा और चोटों को ठीक करने के लिए अपने ट्रेनिंग पर डटा रहा।मेरी सरकारी नौकरी थी जिससे मुझे बॉडीबिल्डिंग के अपने जुनून को पूरा करने के लिए आर्थिक मदद मिली। इसके अलावा मैंने अपने परिवार की समझ और सपोर्ट हासिल करने के लिए उनके साथ खुलकर बातचीत की, जिससे मुझे सामाजिक दबावों के बावजूद अपने लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित रखने में मदद मिली।

Advertisement

आपको अपने फिटनेस गोल्स के प्रति डेडिकेट रहने के लिए क्या प्रेरित करता है?

मेरी फिटनेस जर्नी में मोटिवेटेड रहने के लिए मुझे उन दिग्गज एथलीटों से प्रेरणा मिली है, जिन्होंने सफलता के शिखर तक पहुंचने के लिए भारी चुनौतियों को पार किया है। लचीलेपन, दृढ़ संकल्प और अटूट प्रतिबद्धता की उनकी कहानियां मुझे याद आती हैं और यह लगातार याद दिलाती हैं कि डेडिकेशन और हार्ड वर्क से क्या संभव नहीं है। इसके अलावा, मुझे संतुष्टि और उपलब्धि की भावना में प्रेरणा मिलती है, जो मेरी अपनी सीमाओं को आगे बढ़ाने और शारीरिक और मानसिक रूप से खुद को बेहतर बनने का प्रयास करने से आती है। मेरे परिवार का सपोर्ट भी उतना ही सहायक, जो लगातार मेरे सपनों को बढ़ावा देता है।

क्या बॉडी बनाने के लिए प्रोटीन सप्लीमेंट्स है जरूरी

एक मजबूत शरीर बनाने के लिए प्रोटीन सप्लीमेंट लेना आवश्यक नहीं है, लेकिन वे आपके प्रोटीन सेवन लक्ष्य तक पहुंचने में सहायक हो सकते हैं, खासकर यदि आपको अकेले संपूर्ण खाद्य पदार्थों के माध्यम से पर्याप्त प्रोटीन लेने में कठिनाई होती है। यदि पर्याप्त मात्रा में सेवन किया जाए तो संपूर्ण खाद्य स्रोत जैसे लीन मीट, मछली, अंडे, डेयरी, फलियां और नट्स मांसपेशियों के निर्माण के लिए पर्याप्त प्रोटीन प्रदान कर सकते हैं।

बॉडी बिल्डिंग के लिए वर्कआउट रूटीन क्या था?

बॉडीबिल्डिंग के लिए मेरे वर्कआउट रूटीन में मिश्रित व्यायाम और आइसोलेशन मूवमेंट का संयोजन शामिल था। मैंने पर्याप्त रिकवरी के लिए अलग-अलग दिनों में विभिन्न मांसपेशी समूहों के प्रशिक्षण पर ध्यान केंद्रित किया। एक सामान्य साप्ताहिक विभाजन में छाती और ट्राइसेप्स, पीठ और बाइसेप्स, कंधे, पैर और फिर कोर और कार्यात्मक प्रशिक्षण के लिए समर्पित एक दिन शामिल हो सकता है। प्रत्येक सत्र में विशिष्ट मांसपेशी समूहों को लक्षित करने वाले विभिन्न प्रकार के व्यायाम शामिल होंगे, जिसमें ताकत के लिए भारी वजन उठाना और मांसपेशियों की सहनशक्ति के लिए हल्के वजन का मिश्रण शामिल होगा। इसके अतिरिक्त, मैंने मांसपेशियों की वृद्धि और रिकवरी में सहायता के लिए उचित पोषण, जलयोजन और पर्याप्त आराम पर जोर दिया।

उन व्यक्तियों के लिए आपकी क्या सलाह है जो अभी अपनी फिटनेस जर्नी शुरू कर रहे हैं या बॉडीबिल्डिंग और फिटनेस ट्रेनिंग में करियर बनाने पर विचार कर रहे हैं?

जो लोग अपनी फिटनेस यात्रा शुरू कर रहे हैं या बॉडीबिल्डिंग और फिटनेस ट्रेनिंग में अपना करियर बनाने के बारे में सोच रहे हैं, उन्हें मेरी सलाह है कि आप अपने गोल्स और मोटिवेशन क्लियर रखें और बेहतर समझ के साथ ही इसकी शुरुआत करें। छोटे कदमों से शुरुआत करें और जैसे-जैसे आप आगे बढ़ें धीरे-धीरे अपने वर्कआउट की इंटेंसिटी और कॉम्प्लेक्सिटी बढ़ाएं। ऐसी एक्सरसाइज और एक्टिविटी करें, जिन्हें आप एन्जॉय करते हैं, क्योंकि इससे आपको लंबे समय तक मोटिवेट और कमिटेड रहने में मदद मिलेगी। अपने ट्रेनिंग एफर्ट को सपोर्ट करने के लिए जरूरी पोषण, आराम और रिकवरी का पूरा ध्यान रखें। एक्सपेरिएंस्ड ट्रेनर से गाइडेंस लें, जो आपको बेहतर रिजल्ट पाने में अच्छी एडवाइस और सपोर्ट मिल सके। धैर्य रखें, लगातार बने रहें और अपने लक्ष्यों से कभी न चूकें, चाहे यात्रा कितनी भी चुनौतीपूर्ण क्यों न लगे।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो