scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

इस परेशानी की वजह से रोज़ा नहीं रख पा रही हैं Hina Khan, हेल्थ एक्सपर्ट जानें क्या होता है गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स और कैसे पाएं इससे राहत

जीईआरडी एक ऐसी स्थिति है जो आपके पाचन को प्रभावित करती है। इससे पीड़ित होने पर पेट का एसिड वापस ग्रासनली (Esophagus) में प्रवाहित होने लगता है, जो फिर एसिड रिफ्लक्स और सीने में जलन जैसी परेशानियों को बढ़ाकर असुविधा का कारण बन जाता है।
Written by: हेल्थ डेस्क | Edited By: Shreya Tyagi
नई दिल्ली | Updated: April 15, 2024 11:34 IST
इस परेशानी की वजह से रोज़ा नहीं रख पा रही हैं hina khan  हेल्थ एक्सपर्ट जानें क्या होता है गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स और कैसे पाएं इससे राहत
डाइटिशियन बताती हैं, रमजान के दौरान आमतौर पर लोग कई ऐसी चीजों का सेवन करते हैं, जो जीईआरडी के लक्षणों को ट्रिगर या बढ़ा सकती हैं। ऐसे में इस स्थिति में अपनी डाइट पर ध्यान देना सबसे अधिक जरूरी है। (P.C- Freepik)
Advertisement

एक्ट्रेस हिना खान (Hina Khan) ने हाल ही में अपने इंस्टाग्राम हैंडल पर एक पोस्ट शेयर कर बताया है कि वे गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स (Gastroesophageal Reflux) नामक बीमारी से पीड़ित हैं और इसके चलते वे रोज़ा नहीं रख पा रही हैं। हिना खान बताती हैं कि रोज़ा रखने से उनकी GERD की परेशानी और अधिक बढ़ जाती है। इसके साथ ही अदाकारा ने फैंस से इस स्थिति से राहत पाने के लिए कुछ टिप्स साझा करने की बात भी कही है। आइए हेल्थ एक्सपर्ट्स से जानते हैं कि आखिर गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स होता क्या है और इस स्थिति से कैसे राहत पाई जा सकती है-

क्या कहते हैं एक्सपर्ट?

मामले को लेकर इंडियन एक्सप्रेस संग हुई एक खास बातचीत के दौरान सलाहकार पोषण विशेषज्ञ और मधुमेह शिक्षक कनिका मल्होत्रा ​​ने बताया, 'जीईआरडी एक ऐसी स्थिति है जो आपके पाचन को प्रभावित करती है। इससे पीड़ित होने पर पेट का एसिड वापस ग्रासनली (Esophagus) में प्रवाहित होने लगता है, जो फिर एसिड रिफ्लक्स और सीने में जलन जैसी परेशानियों को बढ़ाकर असुविधा का कारण बन जाता है।'

Advertisement

कनिका मल्होत्रा के मुताबिक, खासकर उपवास के दौरान जीईआरडी की स्थिति बहुत अधिक बढ़ जाती है। इससे अलग खाने की आदतों में बदलाव होने, सोने के पहले कुछ खाने या पीने, खाने के तुरंत बाद लेट जाने और भूख से अधिक भोजन करने से भी व्यक्ति को गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स से जूझना पड़ता है।

कैसे पाएं राहत?

डाइटिशियन बताती हैं, रमजान के दौरान आमतौर पर लोग कई ऐसी चीजों का सेवन करते हैं, जो जीईआरडी के लक्षणों को ट्रिगर या बढ़ा सकती हैं। ऐसे में इस स्थिति में अपनी डाइट पर ध्यान देना सबसे अधिक जरूरी है। तला-भुना, मसालेदार और फैट से भरपूर भोजन इस स्थिति को बुरी तरह प्रभावित करता है। इससे अलग कैफीनयुक्त पेय पदार्थ भी एसिड रिफ्लक्स और सीने में जलन की परेशानी को बढ़ा देते हैं। ऐसे में इस तरह के भोजन से परहेज करें।

Advertisement

क्या खाएं?

कनिका मल्होत्रा बताती हैं कि अगर आपका पाचन सही नहीं रहता है, आप GERD से पीड़ित हैं, अक्सर एसिड रिफ्लक्स और सीने में जलन से जूझना पड़ता है, तो अपने लिए हेल्दी डाइट चुनें। इसके लिए आप सलाद, नट्स, साबुत अनाज, फलिया, खरबूजे के बीज या केले को अपनी डेली डाइट का हिस्सा बना सकते हैं। वहीं, अगर आप रोज़ा रखना चाहते हैं, तो इन फूड्स को सुबह सहरी में खाएं। इससे आपको दिनभर एसिड रिफ्लक्स या सीने में जलन, एसिडिटी की परेशानी से दो-चार नहीं होना पड़ेगा। ये फूड्स बेहतर पाचन को बढ़ावा देते हैं।

Advertisement

बरतें ये सावधानी

अच्छी डाइट के साथ-साथ खाने का सही तरीका अपनाएं। इसके लिए एक बार में अधिक खाने से बचें। दिनभर में छोटे-छोटे मील्स लें और खासकर सोने के तुरंत बाद बिस्तर पर ना जाएं। खाने के बाद कम से कम 20 से 30 मिनट वॉक जरूर करें। साथ ही शरीर में पानी की कमी न होने दें।

डाइटिशियन बताती हैं, अगर आप GERD से पीड़ित हैं और रोज़ा रखना चाहते हैं, तो शरीर में पानी की सही मात्रा का बने रहना सबसे ज्यादा जरूरी है। रोज़े के दौरान आप केवल सुबह सहरी और शाम में इफ्तार के समय ही कुछ भी खा या पी सकते हैं। ऐसे में इन दोनों समय पानी के साथ-साथ पानी से भरपूर फल जैसे तरबूज, स्ट्रॉबेरी, अंगूर, संतरा, सेब आदि का सेवन करें। साथ ही खीरा, छाछ और नारियल पानी का भी सेवन करें। इससे आपको उपवास के घंटों के दौरान हाइड्रेटेड रहने में मदद मिल सकती है। इन सब से अलग कैफीन युक्त पेय पदार्थों जैसे चाय और कॉफी से पूरी तरह परहेज करें। कैफीन शरीर में पानी की कमी होने का कारण बनता है, जिससे परेशानी अधिक बढ़ सकती है।

इस तरह कुछ सरल लेकिन जरूरी बातों को ध्यान में रखकर आप पाचन से जुड़ी परेशानी गैस्ट्रोएसोफेगल रिफ्लक्स से राहत पा सकते हैं।

Disclaimer: आर्टिकल में लिखी गई सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य जानकारी है। किसी भी प्रकार की समस्या या सवाल के लिए डॉक्टर से जरूर परामर्श करें।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो