scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

आम में जहर मिलाया जा रहा है! इन FSSAI Guidelines को पढ़कर आपके कान खड़े हो जाएंगे

FSSAI ने आम पकाने के लिए कैल्शियम कार्बाइड के इस्तेमाल से सख्त मनाही की है, साथ ही राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के खाद्य सुरक्षा विभागों से इसे लेकर सतर्क रहने और इन नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया है।
Written by: हेल्थ डेस्क | Edited By: Shreya Tyagi
नई दिल्ली | Updated: May 21, 2024 14:31 IST
आम में जहर मिलाया जा रहा है  इन fssai guidelines को पढ़कर आपके कान खड़े हो जाएंगे
हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, कैल्शियम कार्बाइड में आर्सेनिक और फॉस्फोरस हाइड्राइड के अवशेष पाए जाते हैं, जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट में जलन पैदा कर सकते हैं। (P.C- Freepik)
Advertisement

गर्मी का मौसम अपने साथ तमाम तरह की पेशानियां लेकर आता है। हालांकि, इन परेशानियों को नजरअंदाज करते हुए अधिकतर लोग केवल आम खाने के लिए इस मौसम का बेसबरी से इंतजार करते हैं। अब, जरा सोचिए ये आम भी आपकी सेहत को नुकसान पहुंचाने लगे तो? इसे लेकर हाल ही में फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स ऑफ इंडिया यानी FSSAI ने कड़ी चेतावनी जारी की है। आइए जानते हैं इस बारे में विस्तार से-

Advertisement

क्या है पूरा मामला?

दरअसल, अधिकतर लोग ज्यादा मुनाफा कमाने के चक्कर में आमों को कैल्शियम कार्बाइड (Calcium carbide) से पकाकर बेच रहे हैं, जबकि ये केमिकल आपको गंभीर नुकसान पहुंचा सकता है। इसी कड़ी में FSSAI ने आम पकाने के लिए कैल्शियम कार्बाइड के इस्तेमाल से सख्त मनाही की है, साथ ही राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के खाद्य सुरक्षा विभागों से इसे लेकर सतर्क रहने और इन नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया है।

Advertisement

कैसे नुकसान पहुंचाता है कैल्शियम कार्बाइड?

पाचन पर पड़ता है खराब असर

हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, कैल्शियम कार्बाइड में आर्सेनिक और फॉस्फोरस हाइड्राइड के अवशेष पाए जाते हैं, जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट में जलन पैदा कर सकते हैं और इससे व्यक्ति को पेट में भयंकर दर्द, मतली, उल्टी और डायरिया की परेशानी घेर सकती है।

न्यूरोलॉजिकल इफेक्ट

एक्सपर्ट्स के मुताबिक, थोड़ी मात्रा में भी आर्सेनिक के संपर्क में आने से सिरदर्द, चक्कर आना और गंभीर मामलों में तंत्रिका संबंधी विकार भी लोगों को घेर सकते हैं, जिससे मूड डिस्टर्बेंस, मेमोरी लॉस और दौरे जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं।

Advertisement

श्वसन संबंधी परेशानी

कैल्शियम कार्बाइड से एसिटिलीन गैस निलकती है, जिससे गले में जलन, खांसी और सांस लेने में तकलीफ हो सकती है। इतना ही नहीं, लंबे समय तक इस गैस के संपर्क में रहने से श्वसन संबंधी अधिक गंभीर स्थितियां भी पैदा हो सकती हैं।

Advertisement

स्किन रैश

कैल्शियम कार्बाइड त्वचा में जलन, रैशेज और एलर्जी का कारण भी बन सकता है। साथ ही सेंसिटिव स्किन वालों में ये गंभीर इंफेक्शन का कारण बन सकता है।

क्रोनिक डिसऑर्डर

इन सब से अलग कैल्शियम कार्बाइड से पके हुए फलों का लंबे समय तक सेवन या किसी भी तरह से इसके संपर्क में आने से कैंसर और त्वचा के घावों सहित कई गंभीर क्रोनिक डिजीज का खतरा बढ़ सकता है।

कैसे पहचानें कैल्शियम कार्बाइड से पके हुए आम?

  • तमाम बातों को ध्यान मे रखते हुए अब, सवाल ये उठता है कि आखिर कैल्शियम कार्बाइड से पकाए गए आमों की पहचान किस तरह करें? इसके लिए आप आम के रंग पर ध्यान दे सकते हैं। केमिकल वाले आमों में हरे धब्बे दिखाई देते हैं।
  • आम खरीदते वक्त आप उसे दबाकर देख सकते हैं। अगर आम सॉफ्ट महसूस हो तो वह नेचुरल तरीके से पका हुआ होगा, वहीं अगर दबाने पर आम कुछ जगह से कड़ा महसूस हो तो इसका मतलब है कि उसे केमिकल लगाकर पकाया गया है।
  • इन सब से अलग आमों को पानी में डालकर भी उनकी सही पहचान की जा सकती है। इसके लिए आप कोई भी आम लें, अगर वह पानी में डूब जाता है तो वह प्राकृतिक रूप से पका हुआ है। वहीं, अगर आम तैरता हुआ नजर आता है तो समझ जाएं कि वह केमिकल से पकाया गया है।
  • Disclaimer: आर्टिकल में लिखी गई सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य जानकारी है। किसी भी प्रकार की समस्या या सवाल के लिए डॉक्टर से जरूर परामर्श करें।
Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो