scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

क्या वाकई आंतों में जाकर चिपक जाता है मैदा? डाइजेशन पर कैसे करता है असर, अगली बार खाने से पहले जान लें क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स

कहा जाता है कि मैदा खाने पर ये आपकी आंत की दीवारों या आंत की परत से चिपक जाता है। ये दावा कितना सही है, आइए जानते हैं हेल्थ एक्सपर्ट्स से-
Written by: हेल्थ डेस्क | Edited By: Shreya Tyagi
नई दिल्ली | February 20, 2024 14:42 IST
क्या वाकई आंतों में जाकर चिपक जाता है मैदा  डाइजेशन पर कैसे करता है असर  अगली बार खाने से पहले जान लें क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स
खासकर डायबिटीज के मरीजों के लिए मैदा का सेवन हानिकारक हो सकता है। (P.C- Freepik)
Advertisement

बीते कुछ सालों में लोग अपनी डाइट और सेहत के प्रति ज्यादा सजग हुए हैं। इसके चलते वे अनहेल्दी चीजों से दूरी बनाकार हेल्दी आहार की ओर अधिक बढ़ रहे हैं। हालांकि, जैसे-जैसे आहार और फिटनेस की दुनिया विकसित हो रही है, वैसे-वैसे ही कई खाद्य पदार्थों से जुड़े मिथक भी विकसित हो रहे हैं। ऐसा ही एक मिथक है कि मैदा खाने पर ये आपकी आंत की दीवारों या आंत की परत से चिपक जाता है, जिससे पाचन संबंधी समस्याएं होती हैं। आपने भी अक्सर बड़े बुजुर्गों से मैदा से जुड़ी ये बात जरूर सुनी होगी लेकिन सवाल ये उठता है आखिर ये दावा कितना सही है? क्या वाकई मैदा आंत की परत से चिपक जाता है? आइए जानते हैं हेल्थ एक्सपर्ट्स से-

क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स?

इसे लेकर पोषण विशेषज्ञ अमिता गद्रे ने हाल ही में अपने इंस्टाग्राम हैंडल पर एक वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में न्यूट्रिशनिस्ट बताती हैं, 'मैदा आपके पेट या आंतों में चिपकता नहीं है। आप मैदा को कच्चा नहीं खाते हैं, खाने से पहले इसे अच्छी तरह पकाते हैं, इससे अलग अगर कच्चा भी खाया जाए तब भी पाचन तंत्र से गुजरने पर ये सरल कार्बोहाइड्रेट के रूप में हमारे शरीर में अवशोषित हो जाएगा।'

Advertisement

फिर पाचन के लिए क्यों है खराब?

इस सवाल का जवाब देते हुए इंडियन एक्सपर्ट्स संग हुई एक खास बातचीत के दौरान आहार विशेषज्ञ सिमरत भुई ने बताया, 'ऐसा कोई भी वैज्ञानिक दावा नहीं है कि मैदा आंत की परत से चिपक जाता है। हालांकि, मैदा में फाइबर की मात्रा बेहद कम होती है, ऐसे में अधिक मात्रा में खाए जाने पर ये अपच, कब्ज आदि का कारण जरूर बन सकता है।'

इससे अलग आईथ्राइव की सीईओ और संस्थापक, फंक्शनल न्यूट्रिशनिस्ट मुग्धा प्रधान बताती हैं, 'मैदा में फाइबर की मात्रा कम होती है, साथ ही इसका ग्लाइसेमिक इंडेक्स ज्यादा होता है, इससे ये ना केवल पाचन पर खराब असर डालता है, बल्कि आपके ब्लड शुगर के लेवल को भी एक दम से बढ़ा सकता है। ऐसे में खासकर डायबिटीज के मरीजों के लिए मैदा का सेवन हानिकारक हो सकता है। साथ ही मैदा में ग्लूटेन की भी उच्च मात्रा होती है, जो भी आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक है।'

Advertisement

मुग्धा प्रधान के मुताबिक, 'ग्लूटेन एक प्लांट कंपाउंड होता है, जो आपकी गट हेल्थ के लिए बेहद खराब है, साथ ही इसका सेवन आपके अन्य अंगों को भी प्रभावित करता है, ऐसे में एक्सपर्ट्स अधिक मात्रा में मैदा ना खाने की सलाह देते हैं। हालांकि, तमाम बातों से अलग इस बात में कोई सच्चाई नहीं है कि मैदा आपकी आंतों में चिपक सकता है।'

Disclaimer: आर्टिकल में लिखी गई सलाह और सुझाव सिर्फ सामान्य जानकारी है। किसी भी प्रकार की समस्या या सवाल के लिए डॉक्टर से जरूर परामर्श करें।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो