scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'कोई गॉडफादर नहीं था', फिल्ममेकर पिता होने के बावजूद रवीना टंडन को करना पड़ा संघर्ष, बोलीं- जेब में एक रूपये लेकर बस में…

रवीना टंडन ने कहा कि ट्रोल्स सोचते हैं कि सबका जीवन गुलाब की तरह रहा है, लेकिन ऐसा नहीं है। हमने मेहनत करके पैसे कमाए हैं।
Written by: एंटरटेनमेंट डेस्‍क | Edited By: गुंजन शर्मा
नई दिल्ली | Updated: March 20, 2024 13:30 IST
 कोई गॉडफादर नहीं था   फिल्ममेकर पिता होने के बावजूद रवीना टंडन को करना पड़ा संघर्ष  बोलीं  जेब में एक रूपये लेकर बस में…
रवीना टंडन (फोटो-इंस्टाग्राम-Raveena Tandon)
Advertisement

बॉलीवुड एक्ट्रेस रवीना टंडन ने साल 1991 में फिल्म 'पत्थर के फूल' से अपने करियर की शुरुआत की थी। रवीना 90 के दशक की सफल एक्ट्रेसेस में से एक हैं, जो आज भी एंटरटेनमेंट की दुनिया में अपने काम का दबदबा बनाए हुए हैं। रवीना फिल्मी परिवार से ताल्लुक रखती हैं और उनके पिता रवि टंडन मशहूर निर्देशक और निर्माता रहे हैं। उन्होंने 1970 और 1980 के दशक में 'खेल खेल में', 'झूठा कहीं का', 'खुद्दार' जैसी फिल्में बनाई हैं।

हाल ही में दिए इंटरव्यू में रवीना टंडन ने बताया कि इंडस्ट्री के मशहूर डायरेक्टर, प्रोड्यूसर की बेटी होने के बावजूद, उनका कोई गॉडफादर नहीं रहा। उन्होंने अपनी पहचान खुद बनाई। रवीना ने बताया कि करियर के शुरुआती दिनों में उन्होंने बहुत संघर्ष किया था।

Advertisement

जूम को दिए इंटरव्यू में रवीना ने बताया शुरुआत में उनका एक्टर बनने का कोई इरादा नहीं था। लेकिन किस्मत में कुछ और ही लिखा था। एक टैलेंट स्काउट ने उन्हें खोज निकाला और Sunsilk शैम्पू का विज्ञापन ऑफर हुआ। रवीना ने कहा,"मेरे साथ बस चीजें हो गई। ऐसा नहीं था कि मेरे पिता ने लोगों से काम के लिए कहा। उन्होंने मुझे बताया कि क्या गलत है और क्या सही है और चीजों से कैसे निपटना है लेकिन मैंने अपना करियर खुद बनाया। मेरे सिर पर किसी गॉडफादर का हाथ नहीं था। यह पूरी तरह से नियति थी कि मुझे जो भी काम मिला, वह मिला।"

एक घटना को याद करते हुए रवीना ने बताया, "एक रात, मैंने एक झुग्गी बस्ती में लोगों की रहने की स्थिति देखी और मुझे एहसास हुआ कि मैं किस लिए रो रही हूं? मेरे पास यह महंगी कार है। हालांकि वह कार मैंने खरीद थी, वह मेरी मेहनत की कमाई थी।"

Advertisement

एक्ट्रेस ने आगे कहा,"हर कोई बुरे वक्त से गुजरता है। मेरे पिता ने भी जीवन में बहुत मुश्किलें देखी हैं। एक समय था जब मैं बस में सफर करती थी और किराये के लिए मेरी जेब में एक रुपये होते थे। मैंने भी वो समय जिया है।" एक्ट्रेस ने कहा कि ट्रोल्स ऐसा दिखाते हैं कि सभी का जीवन आसान है, लेकिन ऐसा नहीं होता। "हमने उस पैसे के लिए कड़ी मेहनत की है।"

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो