scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

फ्लश बंद किया, हाथ-पैर को चेन से बांधा, 'सरबजीत' के लिए रणदीप हुड्डा को करनी पड़ी इतनी मशक्कत, बाथरूम को बनाया था जेल

Randeep Hooda On Sarabjit: रणदीप हुड्डा की बेहतरीन फिल्मों में से एक 'सरबजीत' रही है। सच्ची घटना पर आधारित इस फिल्म में एक्टर ने अपने अभिनय से जान ही फूंक दी थी। इसे लेकर अब उन्होंने बताया कि उन्हें कितनी मशक्कत करनी पड़ी थी। एक्टर ने घर के बाथरूम तक को जेल बना लिया था। चलिए बताते हैं उन्होंने क्या कुछ कहा।
Written by: एंटरटेनमेंट डेस्‍क | Edited By: Rahul Yadav
नई दिल्ली | April 01, 2024 13:11 IST
फ्लश बंद किया  हाथ पैर को चेन से बांधा   सरबजीत  के लिए रणदीप हुड्डा को करनी पड़ी इतनी मशक्कत  बाथरूम को बनाया था जेल
'सरबजीत' के लिए रणदीप हुड्डा को करनी पड़ी इतनी मशक्कत (Express File Photo)
Advertisement

बॉलीवुड एक्टर रणदीप हुड्डा (Randeep Hooda) इन दिनों अपनी फिल्म 'स्वातंत्र्य वीर सावरकर' को लेकर चर्चा में हैं। मूवी को सिनेमाघरों में रिलीज कर दिया गया है और इसे अच्छा खासा रिस्पांस मिल रहा है। इसमें एक्टर ने जबरदस्त ट्रांसफॉर्मेशन लिया है। इसके लिए उन्होंने कड़ी मेहनत की है। एक्टर ने बताया कि उनके लिए इससे ज्यादा चैलेंजिंग किरदार 'सरबजीत' का रहा था। इसके लिए उन्हें काफी मशक्कत करनी पड़ी थी। वो जब इस फिल्म को कर रहे थे तो सोच में थे कि 22 साल से जेल में बंद सरबजीत का किरदार कैसे प्ले करेंगे। कैसे उनकी हर कड़ी को स्क्रीन पर दिखाएंगे। चलिए बताते हैं उन्होंने क्या कुछ कहा।

दरअसल, रणदीप हुड्डा ने हाल ही में रणवीर अल्लाहबादिया से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने 'सरबजीत' को लेकर चौंकाने वाले खुलासे किए। एक्टर ने बताया कि उन्होंने सरबजीत की लिखी चिट्ठियों को पढ़ा, जो उन्होंने जेल से लिखी थी। रणदीप ने कई फोटोज भी देखे। उसे देखने के बाद उन्हें कुछ-कुछ अंदाजा लग गया था कि वो किस दौर से गुजरे होंगे। एक्टर बताते हैं कि वो अपनी चिट्ठियों में फैमिली और गांव के बारे में पूछा करते थे। ये सब देखकर उन्हें समझ नहीं आ रहा था कि वो जेल में 22 साल बिताए सरबजीत के किरदार को कैसे निभाएं।

Advertisement

डायरेक्टर को लिखी थी चिट्ठियां

सरबजीत के रोल को स्क्रीन पर जीवंत करने के लिए उन्होंने पहला काम ये किया कि एक्टर ने अपने टॉयलेट को ही फ्लश करना बंद कर दिया। बाथरूम की लाइट बंद कर दी। अपने हाथ-पैर को चेन से बांध देते थे। इतना ही नहीं रणदीप बताते हैं कि वो अपने शॉवर एरिया तक को बंद कर देते थे। एक्टर ये भी बताते हैं कि उन्होंने अपने डायरेक्टर ओमंग कुमार को कई चिट्ठियां लिखीं, जो उन्होंने कभी उन्हें भेजी ही नहीं।

'सावरकर' के दौरान ऐसा हो गया था हाल

इसके साथ ही इंटरव्यू में रणदीप हुड्डा ने वीर सावरकर की बायोपिक को लेकर भी बात की। एक्टर ने बताया कि उन्होंने इसके लिए भी कम मेहनत नहीं की है। वो इसके सेट पर बेहोश हो जाया करते थे। रणदीप ने खुलासा किया कि वो सिर्फ ब्लैक कॉफी, ग्रीन टी और पानी पिया करते थे। उन्होंने सेल्यूलर जेल में भी वक्त बिताया। एक्टर अपने कैरेक्टर में इस कदर घुस गए थे कि उन्हें नींद ना आने तक की समस्या हो गई थी।

Advertisement

इतना ही नहीं रणदीप ने बताया कि इस फिल्म को बनाने में उन्हें काफी समस्याओं का सामना करना पड़ा। उन्हें अपनी कई प्रॉपर्टी तक इसके लिए बेचनी पड़ गई। बहरहाल, अगर 'स्वतंत्र वीर सावरकर' की रिलीज की बात की जाए तो इसे 22 मार्च को सिनेमाघरों में रिलीज किया गया था। इसका निर्माण 20 करोड़ के बजट में किया गया है। फिल्म बॉक्स ऑफिस पर खास नहीं रही। ये अभी तक अपनी लागत तक नहीं वसूल कर पाई है। इसे क्रिटिक्स और लोगों का मिक्स्ड रिस्पांस मिला है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो