scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

बहुत गुणा-भाग करके किरदार नहीं चुनता: राजकुमार राव

राव इस बात से इत्तेफाक नहीं रखते कि ओटीटी मंचों के मौजूदा दौर में ‘भव्य और मार-धाड़’ वाली फिल्में ही दर्शकों की भीड़ को सिनेमाघरों तक खींच सकती हैं।
Written by: जनसत्ता | Edited By: Bishwa Nath Jha
नई दिल्ली | Updated: May 03, 2024 14:36 IST
बहुत गुणा भाग करके किरदार नहीं चुनता  राजकुमार राव
राजकुमार राव। फोटो -(इंडियन एक्सप्रेस)।
Advertisement

अभिनेता राजकुमार राव ने कहा कि वे हमेशा चुनौतीपूर्ण किरदार अदा करना चाहते हैं, लेकिन इनके चयन के वक्त ज्यादा गुणा-भाग करने के बजाय अपने दिल की आवाज पर फैसला करते हैं। राव (39) ने इंदौर में कहा कि मैं हमेशा चुनौतीपूर्ण किरदार निभाना चाहता हूं, लेकिन मैं बहुत गुणा-भाग करके किरदार नहीं चुनता। मुझे जिस किरदार के लिए अपने दिल के भीतर से आवाज आती है, मैं उसे निभाता हूं।

राव 10 मई को प्रदर्शित होने वाली फिल्म ‘श्रीकांत आ रहा है सबकी आंखें खोलने’ के प्रचार के लिए यहां पहुंचे थे। उद्यमी श्रीकांत बोला के जीवन की सच्ची कहानी पर आधारित इस फिल्म में उन्होंने एक दृष्टिबाधित व्यक्ति का किरदार निभाया है। अभिनेता ने कहा कि मैंने इस किरदार के लिए बहुत ज्यादा तैयारी की। मैंने दृष्टिबाधितों के विद्यालय में काफी वक्त बिताया और उनके वीडियो बनाए। मैं अपने घर जाकर ये वीडियो देखता रहता था ताकि मैं अपना किरदार अच्छे से निभाने के लिए दृष्टिबाधितों के हाव-भाव समझ सकूं।

Advertisement

राव इस बात से इत्तेफाक नहीं रखते कि ओटीटी मंचों के मौजूदा दौर में ‘भव्य और मार-धाड़’ वाली फिल्में ही दर्शकों की भीड़ को सिनेमाघरों तक खींच सकती हैं। उन्होंने कहा कि सामाजिक कहानियों पर आधारित कुछ फिल्मों ने हाल ही में सिनेमाघरों में अच्छा प्रदर्शन किया है। मेरा मानना है कि अगर किसी फिल्म की कहानी अच्छी है और इसमें अभिनेताओं का प्रदर्शन काबिले-तारीफ है, तो लोग फिल्म देखने सिनेमाघर जरूर जाएंगे।

Also Read

CineGram: जब हेमा मालिनी के साथ रोमांस करने के लिए कैमरामैन को रिश्वत देते थे धर्मेंद्र, जानिए बॉलीवुड के सबसे रोमांटिक कपल की लवस्टोरी

राव ने कहा कि वह ओटीटी मंचों को बेहद सकारात्मक तरीके से देखते हैं क्योंकि इनके कारण मनोरंजन जगत का विस्तार हो गया है। ओटीटी मंचों से काफी रोजगार पैदा हो रहे हैं। इनके कारण ऐसे प्रतिभाशाली कलाकारों को अच्छा काम मिल रहा है जिन्हें पहले किसी वजह से काम नहीं मिल पा रहा था या छोटे किरदार मिल रहे थे।

Advertisement

दर्शकों को तरस रही रुसलान

बालीवुड अभिनेता आयुष शर्मा की फिल्म ‘रुसलान’ का बाक्स आफिस पर बुरा हाल है। इसे प्रदर्शित हुए अब एक हफ्ता पूरा होने वाला है, लेकिन ये फिल्म पांच करोड़ की कमाई भी नहीं कर पाई है। पहले दिन से बाक्स आफिस पर चुनौतियों का सामना कर रही है। फिल्म ने बेहद खराब शुरुआत की थी और इसके बाद ये टिकट काउंटर पर अपनी पकड़ नहीं बनाई पाई।

Advertisement

फिल्म की कमाई की बात करें तो ‘रुसलान’ ने अपने शुरुआती दिन में 60 लाख रुपए की कमाई की थी। इसके बाद फिल्म ने साप्ताहांत पर कुछ तेजी दिखाई और शनिवार और रविवार को क्रमश: 80 लाख रुपए और 90 लाख रुपए की कमाई की। हालांकि चौथे दिन यानी सोमवार को फिल्म की कमाई में 55.56 फीसद की गिरावट आई और इसने महज 40 लाख रुपए का कारोबार किया। इसके बाद मंगलवार यानी पांचवें दिन फिल्म ने 37.50 फीसद की तेजी के साथ 55 करोड़ कमाए। इस फिल्म में आयुष शर्मा के अलावा सुश्री मिश्रा, विद्या मालवडे, सांगे त्शेल्ट्रिम, जगपति बाबू और मनीष गहरवार ने भी महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई हैं।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो