scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

कान्स फिल्म फेस्टिवल में भारत के सिनेमेटोग्राफर संतोष सिवन की गूंज

कान्स फिल्म समारोह के निर्देशक थेरी फ्रेमों ने कहा कि सिनेमा के लिए भारत एक महान देश है और जमाने के बाद कान्स फिल्म समारोह में भारत की शानदार उपस्थिति देखी जा रही है।कान्स फिल्म समारोह की शुरुआत से ही भारतीय फिल्में यहां दिखाई जाती रहीं हैं।
Written by: जनसत्ता | Edited By: Bishwa Nath Jha
नई दिल्ली | Updated: May 31, 2024 14:11 IST
कान्स फिल्म फेस्टिवल में भारत के सिनेमेटोग्राफर संतोष सिवन की गूंज
संतोष सिवन । फोटो -(इंडियन एक्सप्रेस)।
Advertisement

अजित राय

Advertisement

77वें कान्स फिल्म समारोह में इस बार चार भारतीय फिल्मकारों को पुरस्कार मिले तो दूसरी ओर भारत के छाया निर्देशक संतोष सिवन को मुख्य पैलेस के बुनुएल थियेटर में 2024 के प्रतिष्ठित ‘पियरे आंजनेऊ एक्सीलेंस इन सिनेमैटोग्राफी’ सम्मान से नवाजा गया। संतोष सिवन को ‘आफिशियल और सेरेमोनियल रेड कार्पेट’ दी गई। इसके साथ ही एस्टोनिया की युवा छायाकार कादरी कूप को विशेष प्रोत्साहन पुरस्कार दिया गया।

Advertisement

फिल्मों की शूटिंग के लिए कैमरा और कैमरे का आधुनिक लेंस बनाने वाली कंपनी आंजनेऊ कान फिल्म समारोह की आधिकारिक सहयोगी है। इस कंपनी ने 2013 में कान फिल्म समारोह के साथ मिलकर ‘सिनेमैटोग्राफी’ के क्षेत्र में ‘लाइफ टाइम अचीवमेंट’ और ‘एनकरेजमेंट अवार्ड’ शुरू किया था जो आज भी जारी है। इस बार यह सम्मान भारत के संतोष सिवन को दिया गया। आंजनेऊ कंपनी ने ही सबसे पहले एसएलआर ( सिंगल लेंस रिफ्लेक्स) कैमरा और जूम लेंस का आविष्कार किया था।

कान्स फिल्म समारोह के निर्देशक थेरी फ्रेमों ने कहा कि सिनेमा के लिए भारत एक महान देश है और जमाने के बाद कान्स फिल्म समारोह में भारत की शानदार उपस्थिति देखी जा रही है। कान फिल्म समारोह की शुरुआत से ही भारतीय फिल्में यहां दिखाई जाती रहीं हैं। उन्होंने संतोष सिवन की तारीफ करते हुए कहा कि वे अपनी कला में विलक्षण हैं और उन्होंने ‘सिनेमैटोग्राफी’ को नई कलात्मक उंचाई दी है।

Advertisement

फ्रांस में भारत के राजदूत जावेद अशरफ ने संतोष सिवन की हिंदी फिल्मों की विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि उनका काम अद्भुत है। उन्होंने बर्लिन में मणिरत्नम की फिल्म ‘दिल से’ के प्रदर्शन को याद करते हुए कहा कि शाहरुख खान और प्रीति जिंटा के साथ दर्शकों ने संतोष सिवन के खूबसूरत छायांकन को भी पसंद किया था। भारतीय अभिनेत्री प्रीति जिंटा ने फिल्म की शूटिंग के दौरान संतोष सिवन के साथ बिताए गए लम्हों को याद किया। उन्होंने कहा कि जब आप संतोष सिवन के कैमरे के सामने अभिनय कर रहे होते हैं तो आपकी खुशी बढ़ जाती है क्योंकि आप उन पर भरोसा कर सकते हैं, आप संतुष्टि से भर जाते हैं।

Advertisement

इस अवसर पर भारतीय सिनेमा की जानी मानी हस्तियों के वीडियो संदेश प्रदर्शित किए गए जिनमें शाहरुख खान, आमिर खान, मोहनलाल, गुरिंदर चड्ढा, नंदिता दास, शेखर कपूर, मीरा नायर, विद्या बालन, अनिल मेहता, मणि रत्नम आदि ने संतोष सिवन के साथ शूटिंग के अनुभव साझा किए। संतोष सिवन ने करीब 57 फिल्मों की ‘सिनेमैटोग्राफी’ की है और 17 से अधिक फिल्मों का निर्देशन किया है।

हाल ही में उन्होंने आमिर खान-राजकुमार संतोषी की फिल्म ‘लाहौर 1947’ और रितेश देशमुख की फिल्म ‘राजा शिवाजी ह्य की शूटिंग पूरी की है। इन दिनों वे अपनी फिल्म ‘जूनी’ की शूटिंग में व्यस्त हैं। यह फिल्म कश्मीर की कालजई कवयित्री हब्बा खातून के जीवन और कविता पर आधारित है।उन्होंने कहा कि जिस पैशन, कमिटमेंट और शैली के साथ कान फिल्म समारोह आयोजित किया जाता है उससे हम भारतीय लोगों को सीखना चाहिए। ये लोग केवल निर्देशक, अभिनेता को ही नहीं तकनीशियन को भी इज्जत और सम्मान देते हैं। उन्होंने कहा कि सिनेमा को बनाने में तकनीशियनों की बड़ी महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है। उनके बिना आप फिल्में नहीं बना सकते।

उन्होंने कहा कि मैं इसलिए छाया निर्देशक बना क्योंकि मुझे यात्राएं करनी थी और दुनिया को देखना था। उन्होंने कहा कि मैं अभी तक भारत में ही कई ऐसी जगहों पर शूटिंग नहीं कर पाया जिन्हें मैं वर्षों से शूट करना चाहता हूं। हालांकि मुझे दुनिया में कहीं भी काम करने का अवसर मिलता है तो मैं काम करता हूं और वापस अपने देश भारत आ जाता हूं। उन्होंने कहा कि किसानों पर एक वृत्तचित्र बनाते हुए मैंने महसूस किया दुनिया में सबसे अच्छा काम खेती-बाड़ी है। यदि मैं छाया निर्देशक नहीं होता तो किसान होता।

यह पूछे जाने पर कि जब हम भारतीय सिनेमा के बारे में सोचते हैं तो केवल मुंबइया सिनेमा ही ध्यान में आता है जो सच नहीं है। बंगाल, केरल, कर्नाटक और तमिलनाडु का सिनेमा भी बहुत बड़ा है तो हम एक भारतीय सिनेमा किसे कहेंगे। उन्होंने कहा कि अब हालात बदल रहे हैं। ऐसा धीरे-धीरे होने लगा है। अब हम एक नया शब्द प्रयोग में लाने लगे हैं - पैन इंडियन फिल्म। हाल के वर्षों में दक्षिण भारतीय फिल्में उत्तर भारत खासकर बालीवुड में बहुत लोकप्रिय हुई।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो