scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Disney के Mickey Mouse में हुआ था पारसी न्यू ईयर 'नौरोज़' का जिक्र, जानिए क्या सिखाता है ये फेस्टिवल

Nowruz का जिक्र डिज्नी ने एनिमेटेड Mickey Mouse में किया था, जो साल 2023 में आया था। ये पारसी समुदाय का नया साल है, जो 19 मार्च को शुरू होता है।
Written by: एंटरटेनमेंट डेस्‍क | Edited By: गुंजन शर्मा
नई दिल्ली | Updated: March 19, 2024 14:21 IST
disney के mickey mouse में हुआ था पारसी न्यू ईयर  नौरोज़  का जिक्र  जानिए क्या सिखाता है ये फेस्टिवल
पारसी न्यू ईयर है Nowruz
Advertisement

19 मार्च का दिन पारसी न्यू ईयर के तौर पर मनाया जाता है, जिसे Nowruz (नौरोज़) कहा जाता है। इसका मतलब होता है नया दिन। केवल लोग ही नहीं गूगल भी इस दिन को सेलिब्रेट कर रहा है। गूगल ने इस मौके पर एक कलरफुल डूडल बनाया है, जो काफी अट्रैक्टिव दिख रहा है। गूगल डूडल के बाद लोग इसके बारे में जानने के लिए काफी इच्छुक हो गए हैं कि आखिर ये है क्या?

नौरोज़ नई शुरुआत या पुनर्जन्म का प्रतीक माना जाता है। इस फेस्टिवल का जिक्र डिज्नी ने एनिमेटेड Mickey Mouse में भी किया गया था। साल 2023 में डिज्नी ने मिक्की माउस का एनिमेटेड वर्जन रिलीज किया था।

Advertisement

जिसमें नौरोज़ का मतलब और महत्व बताया गया था। ज्यादातर अमेरिकन पब्लिकेशन ने नौरोज़ की कहानियों और व्यंजनों का जिक्र होता है। लॉस एंजिल्स और न्यूयॉर्क में इस मौके पर होने वाले ट्रैवलिंग डांस पार्टी डिस्को से प्रेरित होकर, इस साल बर्लिन, पेरिस और लंदन में नौरोज़ समारोह आयोजित किया गया है।

पारसी में नौरोज़ का मतलब  नया दिन होता है। जब सूर्य उत्तर की ओर जाते हुए भूमध्य रेखा के ऊपर से गुजरता है, उस वक्त इसे मनाया जाता है। इस साल, यह 20 मार्च को तेहरान में 06:36 बजे और लंदन में 03:06 बजे और न्यूयॉर्क में 19 मार्च को 23:06 बजे शुरू होगा।

इसे दुनियाभर में बसे पारसी लोग मनाते हैं। यह पारसी लोगों की आस्था से जुड़ा एक बड़ा दिन माना जाता है। इस दिन को नवरोज भी कहा जाता है, जो नव और रोज़ इन दो पारसी शब्दों को जोड़कर बनाया गया है।

Advertisement

पुरानी बातों को भूल नई शुरुआत करना सिखाता है ये त्योहार

नवरोज का इतिहास 3,500 साल पुराना है। कम ही लोग इसके इतिहास को जानते होंगे कि इस दिन को ईरान/फारस के राजा जमशेद की याद में भी मनाया जाता है, जो फारस/ईरान के प्रसिद्ध संस्थापक और पहले राजा थे। इस दिन पारसी लोग हिंदुओं के त्योहार दिवाली की तरह अपने घरों की साफ सफाई करते हैं और एक दूसरे को नए साल की बधाई देते हुए पकवान बनाकर और बांटकर मनाते हैं।

इस दिन लोग दान पुण्य करते हैं और बीते साल की सारी पुरानी गलतियों को भूलकर एक नई शुरुआत करते हैं। उत्सव मनाने वालों का मानना है कि नौरोज़ के दिन से बीता सब खत्म कर परिवार को महत्व देने और प्रकृति से जुड़ने का प्रण लिया जाता है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो