scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

कौन हैं अतहर जमाल लारी? वाराणसी में मोदी को चुनौती देने के लिए BSP ने बनाया अपना उम्मीदवार

पार्टी ने जिन 11 मुसलमानों को मैदान में उतारा है, उनमें से एक गोरखपुर से जावेद सिमनानी भी हैं। बसपा ने हाल के दिनों में यहां से कभी भी किसी मुस्लिम को मैदान में नहीं उतारा था। उसने भाजपा की पारंपरिक सीट से किसी ब्राह्मण या निषाद उम्मीदवार को ही हमेशा आगे बढ़ाती रही है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: April 17, 2024 12:59 IST
कौन हैं अतहर जमाल लारी  वाराणसी में मोदी को चुनौती देने के लिए bsp ने बनाया अपना उम्मीदवार
वाराणसी से बीएसपी अतहर जमाल लारी (बीच में) को बनाया उम्मीदवार। (फोटो- फेसबुक)
Advertisement

बहुजन समाज पार्टी ने वाराणसी सीट से बीजेपी उम्मीदवार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अतहर जमाल लारी को मैदान में उतारा है। लारी ने 2004 के लोकसभा चुनाव में अपना दल के टिकट पर वाराणसी से चुनाव लड़ा था और लगभग 93,000 वोट हासिल किए थे। हालांकि बसपा ने पिछले दो चुनावों में वाराणसी से मोदी के खिलाफ कोई मुस्लिम उम्मीदवार नहीं उतारा था, लेकिन 2009 में उसने बीजेपी के मुरली मनोहर जोशी के खिलाफ इस सीट से मुख्तार अंसारी को मैदान में उतारा था। मुख्तार चुनाव हार गए थे। हालांकि वह करीब 1.8 लाख वोट हासिल किये थे। इसलिए लारी को पर्याप्त मुस्लिम वोट मिल सकते हैं। कांग्रेस ने यहां से अपने स्थानीय कद्दावर नेता अजय राय को मैदान में उतारा है।

समाजवादी पार्टी से बगावत कर पार्टी से बने उम्मीदवार

तीन बार विधानसभा और दो बार लोकसभा का चुनाव लड़ चुके 60 वर्षीय अतहर जमाल लारी 2022 में समाजवादी पार्टी में शामिल हो गये थे। इस बार उन्होंने सपा से बगावत कर बसपा का दामन थाम लिया है। वह सपा और बसपा के अलावा अपना दल, कौमी एकता दल जैसे छोटे राजनीतिक दलों में भी रह चुके हैं।

Advertisement

बीएसपी ने 11 मुस्लिम नेताओं को दिया टिकट

बसपा के अब तक घोषित नामों में से 11 मुस्लिम हैं, जो मुख्य रूप से पश्चिमी यूपी की अल्पसंख्यक बहुल सीटों जैसे सहारनपुर, मुरादाबाद, रामपुर, संभल, अमरोहा, आंवला, पीलीभीत से हैं। (इन सीटों में से कई में 19 अप्रैल को पहले चरण में मतदान है।), साथ ही मध्य यूपी की कन्नौज और लखनऊ की सीटें भी शामिल हैं। यह उन 50 सीटों पर सपा द्वारा उतारे गए मुसलमानों की संख्या से कहीं अधिक है, जिनके लिए उसने नामों की घोषणा की है।

पार्टी ने जिन 11 मुसलमानों को मैदान में उतारा है, उनमें से एक गोरखपुर से जावेद सिमनानी भी हैं। बसपा ने हाल के दिनों में यहां से कभी भी किसी मुस्लिम को मैदान में नहीं उतारा था। उसने भाजपा की पारंपरिक सीट से किसी ब्राह्मण या निषाद उम्मीदवार को ही हमेशा आगे बढ़ाती रही है। 2019 में, उसने अपने तत्कालीन सहयोगी सपा के लिए निर्वाचन क्षेत्र छोड़ दिया था।

Advertisement

गोरखपुर में मुस्लिम और ओबीसी निषादों की अच्छी खासी संख्या है. भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए ने एक ब्राह्मण, रवि किशन को मैदान में उतारा है, और यह देखते हुए कि निषाद पार्टी उसके सहयोगियों में से एक है, वह निषाद समर्थन पर भरोसा कर रही है। बसपा की सिमनानी से सपा के मुस्लिम वोटों में कटौती की उम्मीद है, जिसे काजल निषाद को मैदान में उतारने से ओबीसी और निषादों के समर्थन से अलग होने की उम्मीद थी।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो