scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

उत्तर प्रदेश: इटावा सीट से नहीं मिली किसी को लगातार जीत

वर्ष 2009 में सपा के प्रेमदास कठेरिया, 2014 में भाजपा के अशोक दोहरे व 2019 में भाजपा के ही डा रामशंकर कठेरिया को जीत मिली थी। इस बार भाजपा के डा रामशंकर कठेरिया को छोड़कर सपा और बसपा ने इस बार नए चेहरों पर दांव लगाया है।
Written by: दिनेश शाक्य | Edited By: Bishwa Nath Jha
नई दिल्ली | Updated: May 05, 2024 12:57 IST
उत्तर प्रदेश  इटावा सीट से नहीं मिली किसी को लगातार जीत
प्रतीकात्मक तस्वीर। फोटो -(सोशल मीडिया)।
Advertisement

यादवपट्टी की सबसे अहम मानी जाने वाली इटावा संसदीय सीट आरक्षित होने के बाद भी कोई उम्मीदवार लगातार जीत हासिल नहीं कर सका है। साल 2009 में सामान्य से आरक्षित घोषित हुई सीट पर पहला लोकसभा चुनाव हुआ था। उसके बाद से यह तीसरा चुनाव है। पिछले तीन लोकसभा चुनाव में इटावा लोकसभा क्षेत्र के मतदाताओं ने हर बार नए चेहरे को जिता कर संसद भेजा है।

वर्ष 2009 में सपा के प्रेमदास कठेरिया, 2014 में भाजपा के अशोक दोहरे व 2019 में भाजपा के ही डा रामशंकर कठेरिया को जीत मिली थी। इस बार भाजपा के डा रामशंकर कठेरिया को छोड़कर सपा और बसपा ने इस बार नए चेहरों पर दांव लगाया है। इसमें भी बसपा प्रत्याशी सारिका सिंह बघेल पहले हाथरस से रालोद की सांसद रह चुकी हैं।

Advertisement

Also Read

Rohtak Lok Sabha Chunav 2024: दादा और पिता की सीट को फिर से कांग्रेस की झोली में डाल पाएंगे दीपेंद्र हुड्डा?

बात सपा की करें तो जितेंद्र दोहरे पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं। पहले वह अपनी पत्नी को इटावा जनपद के ब्लाक महेवा का प्रमुख बनवा चुके हैं। महेवा को एशिया महाद्वीप का पहला ब्लाक होने का दर्जा प्राप्त है। इस बार सपा इंडिया गठबंधन में है। उसे कांग्रेस, आप व माकपा का सहयोग मिल रहा है। इस वजह से सपा की स्थिति मजबूत कही जा सकती है।

क्षेत्र की समस्याओं को समझने की कोशिश कर रहा हूं : निकम

मुंबई उत्तर मध्य लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रत्याशी, अधिवक्ता उज्ज्वल निकम ने शनिवार को कहा कि आरोपी व्यक्तियों को प्रत्यर्पित कराने की प्रक्रिया लंबी और महंगी है तथा इस समस्या को दूर करने की जरूरत पर जोर दिया। निकम ने यह भी कहा कि राजनीति में आना उनके जीवन की दूसरी पारी है और उन्होंने इसे कानून की अदालत से ‘जनता की अदालत’ में जाने का एक कदम बताया।

Advertisement

उन्होंने कहा कि प्रत्यर्पण एक लंबी और महंगी प्रक्रिया है। विदेशी अदालतें हमारे साक्ष्यों का आकलन और मूल्यांकन करने के बाद प्रत्यर्पण पर अपने कानून के आधार पर निर्णय लेती हैं। इस समस्या को दूर करने की जरूरत है। मैं इस मुद्दे का अध्ययन कर रहा हूं। वकील से राजनीतिक नेता बने निकम ने नरेंद्र मोदी की सराहना करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने दुनिया में भारत का मान बढ़ाया है और बुनियादी ढांचे में बड़े पैमाने पर सुधार के अलावा उनकी कई कल्याणकारी योजनाएं शुरू करने की योजना है।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो