scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

बिहार में फंसा है सीट बंटवारे का पेच, NDA और INDIA दोनों में घमासान, जानिए क्यों नहीं बन पा रही है सहमति

भागलपुर व बांका पर पारंपरिक रूप से भाजपा का दावा रहा है लेकिन पिछली दफा भागलपुर व बांका सीट जद (एकी) की झोली में भाजपा ने डाल दी थी। नतीजतन भागलपुर से अजय मंडल और बांका से गिरधारी यादव को जीत मिली थी लेकिन खबर है कि भाजपा इन दोनों सीटों पर अपना दावा पेश कर रही है।
Written by: गिरधारी लाल जोशी | Edited By: Jyoti Gupta
Updated: March 07, 2024 09:39 IST
बिहार में फंसा है सीट बंटवारे का पेच  nda और india दोनों में घमासान  जानिए क्यों नहीं बन पा रही है सहमति
बिहार में सीट बंटवारे का पेच। (Jansatta)
Advertisement

बिहार में सीट बंटवारे का पेच फंसा है। सभी अपने-अपने दावे के साथ उम्मीद के उम्मीदवार बने हैं। सीट विभाजन को लेकर माथापच्ची राजग के साथ महागठबंधन भी कर रहा है। राजग के लिए 2019 चुनाव की तरह 2024 में सीटों का बंटवारा आसान नहीं है। बिहार में कुल 40 लोकसभा की सीटें हैं। भाजपा और जद (एकी) ने बीते चुनाव में 17-17 सीटों पर उम्मीदवार खड़े किए थे और छह सीटें लोजपा को दी थीं। उस वक्त यह बंटवारा आसान था। अबकी लोजपा में भी दो गुट हैं। चिराग और पारस का। फिर जीतनराम मांझी और उपेंद्र कुशवाहा के भी दल हैं।

इन सबको खुश करना थोड़ी टेढ़ी खीर राजनीति के जानकार बताते हैं। जद (एकी) के फिर साथ आने से भागलपुर जैसी सीट फंस गई है। भागलपुर व बांका पर पारंपरिक रूप से भाजपा का दावा रहा है लेकिन पिछली दफा भागलपुर व बांका सीट जद (एकी) की झोली में भाजपा ने डाल दी थी। नतीजतन भागलपुर से अजय मंडल और बांका से गिरधारी यादव को जीत मिली थी लेकिन खबर है कि भाजपा इन दोनों सीटों पर अपना दावा पेश कर रही है। बिहार में ऐसी कई सीटें हैं, जिन पर भाजपा का दावा है और बीते चुनाव में जीती जद (एकी) है लेकिन कुछ सीटें जद (एकी) और भाजपा में अदली-बदली की संभावना से इनकार नहीं जा सकता।

Advertisement

24 सीटों पर चुनाव लड़ने वाली थी भाजपा

हालांकि नीतीश कुमार के पाला बदलने के पहले भाजपा 24 से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ने का मन बना चुकी थी लेकिन अब हालात बदले हैं और जिद भी इसी वजह से बनी हुई है। वैसे बिहार भाजपा प्रभारी विनोद ताबड़े ने मंगलवार को हरेक क्षेत्र के पर्यवेक्षकों से अलग-अलग बात की है। सभी ने पांच-छह उम्मीदवारों की सूची सौंपी है। इनमें से तीन-तीन नाम भाजपा की केंद्रीय चुनाव समिति को जाने हैं। बिहार मामले को लेकर केंद्रीय समिति आठ मार्च को बैठने वाली है। लेकिन यह भी तय है कि कई वर्तमान सांसदों के टिकट कटेंगे। यही हाल जद (एकी) का भी है। भागलपुर सीट से नरेंद्र कुमार नीरज उर्फ गोपाल मंडल ने दावा किया है। ये फिलहाल जिले के गोपालपुर विधानसभा क्षेत्र से चार दफा से जद (एकी) के विधायक है।

‘इंडिया’ गठबंधन का भी यही हाल

‘इंडिया’ गठबंधन का भी कमोबेश यही हाल है। राजद इस घटक का प्रमुख दल है। कांग्रेस और तीनों वामदल भी शामिल हैं। इन दलों के बीच भी सीटों का बंटवारा अभी तक साफ नहीं है। सबका अपना दावा है। यह महागठबंधन चाहता है कि जीतने वाले उम्मीदवार राजग के खिलाफ खड़े किए जाएं। तेजस्वी की विश्वास यात्रा में भीड़ और युवाओं के जोश देखकर वे विश्वास से लबालब है लेकिन उम्मीदवार उतारना उतना ही कठिन काम है।

Advertisement

सीटों के बंटवारे को लेकर उनका भी सिरदर्द बढ़ा है। अनुमान सही माना जाए तो 20 राजद, 12 कांग्रेस और बाकी वामदलों के हिस्से सीटें आ सकती है। हरेक दल में पूर्व सांसद, विधायक, वर्तमान विधायक टिकट की होड़ में लगे हैं। पटना-दिल्ली की दौड़ शुरू है। लेकिन सीटों की गांठ सुलझेगी तभी उम्मीदवार तय होंगे।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो