scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

कारोबार के लिए नेपाल में रह रहे दो लाख से ज्यादा मतदाताओं की भूमिका चुनाव में अहम

नौकरी के लिए नेपाल जाने वाले करीब ढाई लाख ऐसे लोग हैं जिनके पास नेपाल की नागरिकता नहीं मिलने की वजह से चुनाव के वक्त बिहार अपने घर लौट जाते हैं।
Written by: जनसत्ता | Edited By: Bishwa Nath Jha
नई दिल्ली | Updated: May 01, 2024 14:17 IST
कारोबार के लिए नेपाल में रह रहे दो लाख से ज्यादा मतदाताओं की भूमिका चुनाव में अहम
प्रतीकात्मक तस्वीर। फोटो -(इंडियन एक्सप्रेस)।
Advertisement

सर्वेश कुमार

रोजगार और कारोबार के लिए नेपाल में अस्थायी तौर पर बसे दो-ढाई लाख मतदाता इस बार भी लोकसभा चुनाव में अहम भूमिका निभाएंगे। बिहार-नेपाल अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगते हुए क्षेत्र मोतिहारी, झंझारपुर, सीतामढ़ी, शिवहर, वाल्मीकि नगर, अररिया, बेतिया, किशनगंज और सुपौल के मतदान के लिए अपने घरों का रुख कर रहे हैं। लोकतंत्र के महापर्व में शामिल होने के लिए अपने देश पहुंचने के लिए उनके रिश्तेदार भी लगातार संपर्क में हैं ताकि नियत तारीख से पहले पहुंच सकें। राजनीतिक दलों की भी निगाहें ऐसे मतदाताओं पर टिकी है।

Advertisement

राजनीतिक दल भी एक एक मत की कीमत को पहचानते हैं, इसलिए उन्हें भी इन मतदाताओं के पहुंचने का इंतजार है। समर्थक भी ऐसे मतदाताओं के साथ संपर्क में हैं ताकि मतदान में पीछे नहीं रहें। मतदान से 72 घंटे पहले भारत-नेपाल सीमा को सील कर दिया जाता है। मताधिकार का प्रयोग करने के लिए भारतीय मूल के कामगार और कारोबारी भी पहुंचने लगे हैं।

तयशुदा वक्त पर पहुंचे इसके लिए नेपाल में रह रहे बिहार के मतदाताओं को उनके परिवारजन फोन के जरिए बुला रहे हैं। इनकी अनुमानित संख्या दो से ढाई लाख तक हो सकती है। नेपाल में मधेशियों की काफी आबादी है। लेकिन दूसरे देश में नौकरी के लिए जाने वाले करीब ढाई लाख ऐसे लोग हैं जिनके पास नेपाल की नागरिकता नहीं मिलने की वजह से चुनाव के वक्त बिहार में अपने घर को लौटते हैं।

नेपाल में काठमांडू में कारोबार करने वाले बेगूसराय के बखरी अनुमंडल के मुरारी केसरी ने बताया कि मतदान के पहले सीमावर्ती क्षेत्र के सैकड़ों लोग भारत आते हैं। उस दौरान उत्सव जैसा माहौल रहता है। पूर्वी चंपारण के धनेश्वर साह सरीखे सैकड़ों लोग नेपाल में अपना कारोबार करते हैं, लेकिन मतदान के लिए अपने घर जरूर आते हैं। मतदान की तारीख याद दिलाने के लिए कई रिश्तेदार भी अपनों को फोन कर बुला रहे हैं।

Advertisement

किशनगंज में भी पिछले चरण में हुए मतदान में भी ऐसे सैकड़ों मतदाताओं की भूमिका रही। विशेषज्ञ डा अजय कुमार का कहना है कि अक्सर मतदान के दौरान हजारों की संख्या में भारतीय नागरिक मतदान के लिए नेपाल से आते हैं। हालांकि इनमें ज्यादातर संख्या, उन कामगारों की हैं, जिन्हें नेपाल की नागरिकता नहीं मिल सकी है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो