scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'बीमार मां से मिलने के लिए भी नहीं दी गई थी पैरोल', राजनाथ सिंह बोले- मां के अंतिम संस्कार में भी नहीं हो पाया था शामिल

Rajnath Singh News: राजनाथ सिंह यूपी की लखनऊ लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं। वह यहीं से पिछले दो चुनाव जीते हैं।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Yashveer Singh
नई दिल्ली | Updated: April 11, 2024 20:29 IST
 बीमार मां से मिलने के लिए भी नहीं दी गई थी पैरोल   राजनाथ सिंह बोले  मां के अंतिम संस्कार में भी नहीं हो पाया था शामिल
राजनाथ सिंह ने दावा किया कि केंद्र में लगातार तीसरी बार मोदी सरकार बनेगी। (PTI)
Advertisement

देश में इस समय चुनावी माहौल है, चुनावी माहौल में सियासी दल एक दूसरे पर जमकर प्रहार कर रहे हैं। देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने न्यूज एजेंसी ANI को दिए एक इंटरव्यू में कहा कि जिन लोगों ने इमरजेंसी लगाई थी, वो आज हमें तानाशाह बता रहे हैं। राजनाथ सिंह ने बताया कि उन्हें इंदिरा गांधी सरकार के समय में लगाए गए आपातकाल के दौरान अठारह महीने तक जेल में रखा गया था। राजनाथ सिंह ने बताया कि उन्हें उनकी बीमार मां से मिलने तक के लिए पैरोल नहीं दी गई थी और इसी वजह से वो उनके अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो सके।

विपक्ष के अघोषित आपातकाल के आरोपों को खारिज करते हुए उन्होंने कहा कि जिन्होंने इमरजेंसी के जरिए तानाशाही लागू की, वे हम पर तानाशाह होने का आरोप लगाते हैं। राजनाथ सिंह ने बताया कि उन्हें आपातकाल के खिलाफ जेपी आंदोलन के दौरान उन्हें मिर्ज़ापुर-सोनभद्र का संयोजक बनाया गया था।

Advertisement

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इंटरव्यू में बताया कि वो आपातकाल के दौरान करीब 24 साल के थे और जब पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने के लिए घर पर आई तो उनके घर पर कोई हंगामा नहीं हुआ। उन्होंने कहा, "मेरी नई-नई शादी हुई थी और पूरा दिन काम करने के बाद घर लौटा था। मुझे बताया गया कि पुलिस आई थी। उन्होंने मुझे बताया कि वारंट है। आधी रात के करीब था और मुझे जेल ले जाया गया। मुझे एकांत कारावास में रखा गया था।"

जेल में कैसे बिताते थे समय?

राजनाथ सिंह ने बताया कि जेल में उनका कॉन्फिडेंस हाई  है और उन्होंने जेल परिसर में आपातकाल के खिलाफ नारे लगाए। उन्होंने कहा, "जेल में हमें कोई किताबें नहीं दी गईं, एक पीतल का बर्तन था जिसमें दाल दी गई थी और हमारे हाथों में रोटी दी जाती थी। हमें कुछ समय के लिए परिसर में ही घूमने की इजाजत थी... शायद मेरा स्वभाव अच्छा था इसलिए मुझे इतने लंबे समय तक जेल में रखा गया। जब मुझे मिर्ज़ापुर जेल से नैनी सेंट्रल जेल में ट्रांसफर किया गया तो वहां मेरी मां भी मिलने के लिए आईं थीं। उन्होंने मुझसे कहा, चाहे कुछ भी हो जाए, माफ़ी मत मांगना। यह सुनकर पुलिस वाले रोने लगे।

Advertisement

Advertisement

राजनाथ सिंह ने आगे कहा कि जब एक साल बीत गया तो उनकी मां ने पूछा कि क्या उन्हें रिहा किया जाएगा और उनके चचेरे भाई ने उन्हें बताया कि आपातकाल को एक और साल के लिए बढ़ा दिया गया है। रक्षा मंत्री ने बताया, "उनकी मां को ब्रेन हैमरेज हो गया था, वह 27 दिनों तक अस्पताल में रही और फिर उनका निधन हो गया लेकिन मुझे पैरोल नहीं दी गई। मैंने जेल में अपना सिर मुंडवा लिया, मेरे भाइयों द्वारा मां का अंतिम संस्कार किया गया...और कल्पना कीजिए कि वे हमारे खिलाफ तानाशाही के आरोप लगाते हैं, वे अपने भीतर नहीं देखते।"

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 चुनाव tlbr_img2 Shorts tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो