scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Rajasthan: यशवंत सिंह, चतुर सिंह, आनंदपाल सिंह और फिर पद्मावत… 2018 में राजपूतों की नाराजगी पड़ी थी भारी! अब BJP ने ऐसे की मनाने की कोशिश

Rajasthan Assembly Elections 2023: 2018 में राजपूत समुदाय सिर्फ मूवी पद्मावत को लेकर ही नाराज था। दरअसल यह खेल शुरू हुआ साल 2014 में जब बीजेपी ने वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे यशवंत सिंह को बाड़मेर से टिकट देने से इनकार कर दिया।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Yashveer Singh
Updated: November 06, 2023 12:02 IST
rajasthan  यशवंत सिंह  चतुर सिंह  आनंदपाल सिंह और फिर पद्मावत… 2018 में राजपूतों की नाराजगी पड़ी थी भारी  अब bjp ने ऐसे की मनाने की कोशिश
क्या राजपूतों को मनाने में सफल रहेगी BJP? (File Photo - Express/Bhupendra Rana)
Advertisement

राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग में अब एक महीने से भी कम का समय बाकी है। राज्य की सत्ता में वापसी के लिए बीजेपी हर समुदाय को साधने की कोशिश कर रही है। राजस्थान में बेहद प्रभावशाली माना जाने वाले राजपूत समुदाय को अपने पाले में करने के लिए बीजेपी ने इस बार खास रणनीति पर काम कर रही है। कहा जाता है कि साल 2018 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी की हार की सबसे बड़ी राजपूत समुदाय की नाराजगी थी।

Advertisement

बात नवंबर 2017 की है… राजस्थान विधानसभा चुनाव में करीब साल भर का समय था… उन दिनों करणी सेना के सदस्य बॉलीवुड की मूवी पद्मावत को लेकर बेहद नाराज थी। फिल्म का ट्रेलर सामने आने के बाद राजस्थान की सड़कों पर करणी सेना और राजपूत समुदाय का गुस्सा सभी ने देखा था। साल 2018 में चुनाव होने थे… उससे पहले करणी सेना के चीफ लोकेंद्र सिंह कालवी ने ऐलान कर दिया कि वो सत्ताधारी बीजेपी को हराने वाले प्रत्याशियों को मदद करेंगे। कहा जाता है कि करणी सेना को पूरे राजपूत समुदाय का समर्थन हासिल है। चुनाव के परिणाम जब आए तो बीजेपी द्वारा उतारे गए 26 राजपूत प्रत्याशियों में से सिर्फ 10 विधानसभा पहुंच सके।

Advertisement

ऐसा नहीं है कि 2018 में राजपूत समुदाय सिर्फ मूवी पद्मावत को लेकर ही नाराज था। दरअसल यह खेल शुरू हुआ साल 2014 में जब बीजेपी ने वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे यशवंत सिंह को बाड़मेर से टिकट देने से इनकार कर दिया। इसके दो साल बाद हिस्ट्रीशीटर चतुर सिंह (जाति से राजपूत) को एनकाउंटर में मार दिया गया और फिर साल 2017 में एक अन्य गैंगस्टर आनंदपाल सिंह के एनकाउंटर के बाद राजपूत समुदाय का गुस्सा फूट गया। बड़ी संख्या में राजपूतों का मानना है वसुंधरा सरकार के दौरान हुआ यह एनकाउंटर फर्जी था। इस एनकाउंटर के बाद कई दिनों तक सड़कों पर प्रदर्शन हुए। इसके बाद दीपिका पादुकोण की मूवी पद्मावत बीजेपी के लिए 'ताबूत में आखिरी कील' जैसी साबित हुई।

रजपूती गौरव को पहुंची ठेस?

राजस्थान के सियासी जानकारों की मानें तो इन सारे घटनाक्रमों को राजपूतों ने "रजपूती गौरव" को ठेस पहुंचने के रूप में देखा। इतना ही नहीं वसुंधरा राजे और अमित शाह के बीजेपी राजस्थान के प्रदेश अध्यक्ष के मामले में भी ऐसी बातें सामने आईं। कहते हैं अमित शाह चाहते थे कि जोधपुर के सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत राजस्थान बीजेपी के चीफ बने जबकि वसुंधरा यह नहीं चाहती थीं। इसी वजह से बहुत सारे राजपूत वसुंधरा के खिलाफ हो गए।

Advertisement

इस बार बीजेपी ने गुस्सा करने के लिए क्या किया?

अब सीधे बात करते हैं साल 2023 की… राजस्थान में जारी सियासी सरगर्मी के बीच कुछ ही दिनों पहले बीजेप ने पोलो प्लेयर भवानी सिंह कालवी को बीजेपी में शामिल कर सबको चौंका दिया। भवानी सिंह कालवी के पिता लोकेंद्र सिंह कालवी थे, उन्होंने ही साल 2018 में बीजेपी को हराने के लिए अपील की थी। बीजेपी ने उन्हें जयपुर के बजाय दिल्ली स्थित राष्ट्रीय कार्यालय पर पार्टी में शामिल किया। इस दौरान राजस्थान बीजेपी चीफ सीपी जोशी, कानून मंत्री अर्जुन राम और सांसद दिया कुमारी भी मौजूद थे। बीजेपी सूत्रों का कहना है कि इस प्रयास के जरिए राजपूतों का विश्वास हासिल करना चाहती थी।

Advertisement

इतना ही नहीं बीजेपी ने महाराणा प्रतापा के वंशज विश्वराज सिंह मेवाड़ को भी पार्टी में शामिल किया। बीजेपी ने उन्हें नाथद्वारा विधानसभा सीट से मैदान में उतारा है। इस सीट पर कांग्रेस के सीपी जोशी का कब्जा है। कहा जा रहा है कि विश्वराज सिंह के नाथद्वारा से उतरने से कांग्रेस भी बेचैन हो गई है। सीपी जोशी ने कांग्रेस के कैडर को खास तौर पर कहा है कि वो ऐसा कुछ भी न करें, जिससे बात 'राजपूत गौरव' तक पहुंच जाए। विश्वराज सिंह मेवाड़ को खुद बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पार्टी में शामिल कर दिया यह मैसेज देने का प्रयास किया कि वो राजपूतों का सम्मान करते हैं। अब बीजेपी के इन प्रयासों का कितना असर राजपूत समुदाय पर होता है यह चुनाव के परिणामों के बाद ही पता चलेगा।

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
×
tlbr_img1 Shorts tlbr_img2 खेल tlbr_img3 LIVE TV tlbr_img4 फ़ोटो tlbr_img5 वीडियो