scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'कांग्रेस के मैनिफेस्टो में Inheritance Tax का जिक्र ही नहीं', पी. चिदंबरम ने बताया- प्रधानमंत्री को किन मुद्दों पर करनी चाहिए बहस

पी. चिदंबरम ने अपने एक लेख में लिखा, 'यह देखना मुश्किल नहीं है कि कांग्रेस के घोषणापत्र पर समन्वित हमला क्यों और कब शुरू हुआ। 19 अप्रैल को पहले दौर के मतदान के बाद पीएमओ और भाजपा में घबराहट फैल गई। मोदी साहब ने 21 अप्रैल को राजस्थान के जालौर और बांसवाड़ा में हमला शुरू किया और फिर रुके नहीं।
Written by: जनसत्ता | Edited By: संजय दुबे
नई दिल्ली | Updated: April 29, 2024 14:14 IST
 कांग्रेस के मैनिफेस्टो में inheritance tax का जिक्र ही नहीं   पी  चिदंबरम ने बताया  प्रधानमंत्री को किन मुद्दों पर करनी चाहिए बहस
चिदंबरम ने कहा कि यह निराशाजनक है कि प्रधानमंत्री काल्पनिक बातों से लड़ रहे हैं।
Advertisement

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने रविवार को कहा कि प्रधानमंत्री मोदी कांग्रेस के घोषणा पत्र को लेकर ऐसी बातें कह रहे हैं जो उसमें हैं ही नहीं। चिदंबरम ने साथ ही कहा कि प्रधानमंत्री को घोषणा पत्र में शामिल असल मुद्दों पर बात करनी चाहिए। चिदंबरम ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने अपने किसी भाषण लेखक द्वारा लिखे कांग्रेस के किसी घोषणापत्र की कल्पना कर ली है। चिदंबरम ने ‘संपत्ति के पुनर्वितरण’ के मुद्दे पर विवाद के बीच कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा की ‘विरासत कर’ संबंधी टिप्पणियों को लेकर प्रधानमंत्री द्वारा बार-बार किए जा रहे हमलों के बीच यह बयान दिया।

कांग्रेस नेता बोले- पीएम मोदी ने पढ़ा है काल्पनिक घोषणा पत्र

कांग्रेस का घोषणा पत्र तैयार करने वाली समिति के अध्यक्ष चिदंबरम ने कहा कि प्रधानमंत्री कांग्रेस के घोषणा पत्र में उन शब्दों और वाक्यों को खोजते और पढ़ते रहते हैं जो उसमें हैं ही नहीं। उन्होंने अपने किसी भाषण लेखक द्वारा लिखे कांग्रेस के किसी घोषणा पत्र की कल्पना कर ली है।
पूर्व वित्त मंत्री ने सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर एक पोस्ट के जरिए कहा कि कांग्रेस के घोषणा पत्र में ‘विरासत कर (Inheritance Tax)’ का कोई जिक्र ही नहीं है।

Advertisement

पूर्व वित्तमंत्री ने कहा- उनकी पार्टी जीएसटी - 2.0 ले आएगी

चिदंबरम ने कहा कि कराधान पर कांग्रेस के वादे बिल्कुल स्पष्ट हैं: प्रत्यक्ष करों में पारदर्शिता, समानता, स्पष्टता और निष्पक्ष कर प्रशासन का दौर लाया जाए, पांच साल की अवधि के लिए स्थिर व्यक्तिगत आयकर दरों को बनाए रखा जाए, एमएसएमई (लघु, कुटीर एवं मध्यम उपक्रम) पर कर का बोझ कम किया जाए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस, मोदी सरकार के दोहरे ‘उपकर’ राज को खत्म करने का वादा करती है और दुकानदारों एवं खुदरा व्यवसायों को महत्त्वपूर्ण कर राहत दी जाएगी तथा जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) -2.0 पेश किया जाएगा।

चिदंबरम ने कहा कि यह निराशाजनक है कि प्रधानमंत्री काल्पनिक बातों से लड़ रहे हैं। उन्हें कांग्रेस के घोषणापत्र में शामिल ‘असल’ मुद्दों पर बहस करनी चाहिए। चिदंबरम ने गुरुवार को कहा था कि ‘संपत्ति के पुनर्वितरण’ और ‘विरासत कर’ से जुड़े मनगढ़ंत विवाद से पता चलता है कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) इस लोकसभा चुनाव में डरी हुई है और वह झूठ का सहारा ले रही है क्योंकि ‘मोदी की गारंटी’ कोई असर नहीं छोड़ पाई। चिदंबरम ने यह भी कहा था कि पार्टी का यह चुनावी दस्तावेज किसी धर्म विशेष के लिए नहीं बल्कि सभी वर्गों के लिए न्याय का वादा करता है।

Advertisement

पी. चिदंबरम ने अपने एक लेख में लिखा, "यह देखना मुश्किल नहीं है कि कांग्रेस के घोषणापत्र पर समन्वित हमला क्यों और कब शुरू हुआ। 19 अप्रैल को पहले दौर के मतदान के बाद पीएमओ और भाजपा में घबराहट फैल गई। मोदी साहब ने 21 अप्रैल को राजस्थान के जालौर और बांसवाड़ा में हमला शुरू किया और फिर रुके नहीं। उनके काल्पनिक लक्ष्यों की सूची विचित्र थी। उनके मंत्रिमंडल के सहयोगियों ने भी अंधाधुंध गोलीबारी की। मीडिया का कर्तव्य था कि वह इस पागलपन को रोकने का आह्वान करे। मगर इसके बजाय, अखबारों ने इन विवादास्पद विषयों की ‘व्याख्या’ की और उन पर विद्वतापूर्ण संपादकीय लिखे। टीवी चैनलों ने ‘पंडितों’ के साक्षात्कार प्रसारित किए और ‘पैनल चर्चा’ आयोजित की। मोदी साहब द्वारा शुरू किया गया छद्म युद्ध कई गुना बढ़ गया।"

Advertisement

"

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो