scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

मोदी-शिवराज फैक्टर ने MP में BJP को दिलाई जीत, कांग्रेस के काम नहीं आया जाति जनगणना का मुद्दा, बीजेपी ने ऐसे पलटी हारी बाजी

Modi-Shivraj Factor: मध्य प्रदेश में बीजेपी की बड़ी जीत का कारण मोदी और शिवराज फैक्टर को माना जा रहा है।
Written by: vivek awasthi
Updated: December 04, 2023 20:47 IST
मोदी शिवराज फैक्टर ने mp में bjp को दिलाई जीत  कांग्रेस के काम नहीं आया जाति जनगणना का मुद्दा  बीजेपी ने ऐसे पलटी हारी बाजी
MP Election Results: मध्य प्रदेश में बीजेपी की प्रचंड जीत का बड़ा कारण मोदी और शिवराज फैक्टर को माना जा रहा है। (फोटो सोर्स: ANI)
Advertisement

MP Election: मध्य प्रदेश में रविवार दोपहर 12 बजे बीजेपी का प्रचार गीत भोपाल पार्टी के कार्यालय में बज रहा था। गीत की लाइन थी- मोदी मेरे दिल में हैं, एमपी मोदी के दिमाग में हैं। गीत की इस धुन पर नेता और कार्यकर्ता नाच रहे थे। क्योंकि बीजेपी की प्रचंड जीत की खुशबू हवा में थी। इसके ठीक उलट कांग्रेस कार्यालय में सन्नाटा पसरा हुआ था।

मध्य प्रदेश की 230 विधानसभा सीटों में से भाजपा ने 163 सीटें जीतीं, जबकि कांग्रेस 66 सीटों पर सिमट गई। एक सीट भारत आदिवासी पार्टी (बीएपी) के खाते में गई। भाजपा के प्रदर्शन ने न केवल कांग्रेस को बल्कि कई राजनीतिक पर्यवेक्षकों को भी चौंका दिया, जिन्होंने दोनों दलों के बीच करीबी मुकाबले की भविष्यवाणी की थी।

Advertisement

राज्य में भाजपा की सफलता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उसने मध्य प्रदेश के सभी छह क्षेत्रों में कांग्रेस को पछाड़ दिया।आदिवासी आबादी वाले मालवा-निमाड़ क्षेत्र की 66 सीटों में से भाजपा ने 45 सीटें जीतीं, जबकि कांग्रेस ने 20 सीटें जीतीं। बीएपी को एक सीट मिली। भाजपा ने बुन्देलखण्ड क्षेत्र में 26 में से 21 सीटें जीतकर लगभग अपना परचम लहराया और कांग्रेस के पास सिर्फ पांच सीटें बचीं।

30 सीटों वाले मजबूत विंध्य क्षेत्र में भी ऐसे ही नतीजे आए। जहां भाजपा ने 25 और कांग्रेस ने पांच सीटें जीतीं। मध्य भारत में भी भाजपा ने कांग्रेस का सफाया कर दिया, 36 में से 33 सीटें जीतीं और कांग्रेस को तीन सीटें मिलीं।

केवल दो क्षेत्र जहां लड़ाई थोड़ी संतुलित दिखी, वे थे ग्वालियर-चंबल और महाकोशल। 34 सीटों वाले महत्वपूर्ण और कड़े मुकाबले वाले ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में भाजपा को 18 और कांग्रेस को 16 सीटें मिलीं। 38 सीटों वाले मजबूत महाकोशल क्षेत्र में, जिसमें एक महत्वपूर्ण आदिवासी आबादी भी है, वहां भाजपा को 21 सीटें मिलीं, जबकि कांग्रेस 17 सीटों पर कामयाब मिली।

Advertisement

नतीजों को देखकर ऐसा लगता है कि कई कारण ऐसे रहे जिन्होंने मतदाताओं को वोट करने के लिए बीजेपी के पक्ष में प्रेरित किया। भले ही पार्टी हारा हुआ चुनाव लड़ती दिख रही थी और कांग्रे मतदाताओं के बीच आकर्षण तलाशती दिख रही थी।

Advertisement

मोदी मैजिक-

2008 के बाद पहली बार भाजपा ने मौजूदा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को चुनाव में अपने चेहरे के रूप में पेश नहीं किया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आगे बढ़ी। मोदी ने राज्य भर में कई रैलियां कीं, जिसमें केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं जैसे पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना और पीएम आवास योजना (आवास) के तहत गरीबों को मुफ्त खाद्यान्न पर फोकस किया गया। राज्य में चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री मतदाताओं को 2024 के लोकसभा चुनाव की भी याद दिलाते रहे। नतीजों ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि मतदाताओं से उनका सीधा जुड़ाव अभी भी बरकरार है और 2024 में भाजपा की संभावनाओं को बढ़ावा मिला है।

'मैं एक फिनिक्स पक्षी हूं'

अक्टूबर की शुरुआत तक मध्य प्रदेश में अटकलें लगाई जा रही थीं कि राज्य के सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहने वाले शिवराज सिंह चौहान को भाजपा आलाकमान ने मध्य प्रदेश में पार्टी का नेतृत्व करने के लिए पसंद नहीं किया है।

इन सभी चर्चाओं और अफवाहों को दरकिनार करते हुए सीएम शिवराज ने खुद कई रैलियां की। अपनी रैलियों में उन्होंने कई इमोशनल बयान दिए। साथ ही लोगों से पूछा कि क्या उन्हें फिर से सीएम बनना चाहिए। हालांकि, बीजेपी प्रत्याशियों की लिस्ट में उनका नाम आने के बाद तुंरत शिवराज को नया आत्मविश्वास मिला। साथ ही उन्होंने खुद कहा कि उन्हें फीनिक्स पक्षी पसंद है, जो अपनी राख से फिर जिंदा होकर आएगा। (बता दें, फ़ीनिक्स एक अमर पक्षी है जो चक्रीय रूप से पुनर्जीवित होता है या फिर से जन्म लेता है ।)

अपनी भविष्य की भूमिका पर सवालों के बावजूद चौहान ने अंतिम दिनों में एक दिन में कम से कम 10 रैलियां आयोजित करके राज्य में आक्रामक प्रचार किया। अपने समर्थकों द्वारा प्यार से "मामा" कहे जाने वाले और खुद को राज्य की महिलाओं का "भाई" कहने वाले चौहान ने "अपनी बहनों के साथ बंधन" को अपने चुनाव प्रचार का मुख्य संदेश बनाया।

लाडली बहना योजना जैसी उनकी योजनाओं ने भी ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं के वोटों को उनके पक्ष में मजबूत किया है। राज्य में 2.78 करोड़ महिला मतदाता हैं और मतदान के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं का मतदान बढ़ा और कई सीटों पर तो यह पुरुषों से भी आगे निकल गई। ऐसे स्थिति में भले ही बीजेपी ने अभी तक राज्य के अगले सीएम पर फैसला नहीं किया है, लेकिन नतीजों ने पार्टी के लिए उनके दावे को नजरअंदाज करना मुश्किल कर दिया है।

जबकि कांग्रेस ने इसे भाजपा के "हताश कदम" बताकर उपहास उड़ाया। जिसके तहत उसने तीन केंद्रीय मंत्रियों, चार सांसदों और एक पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव को मैदान में उतारा था।

हालांकि, इन सबके बाद बीजेपी के पास कई संभावित सीएम पद के उम्मीदवार हैं। जिनमें केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, प्रह्लाद सिंह पटेल और ज्योतिरादित्य सिंधिया, कैलाश विजयवर्गीय का नाम शामिल है।

कांग्रेस के लिए आत्ममंथन करने का वक्त

प्रदेश कांग्रेस प्रमुख और पार्टी के सीएम पद के उम्मीदवार कमलनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव और मप्र प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने मीडिया से बात की। उन्होंने कहा कि पार्टी नतीजों पर आत्ममंथन करेगी। उन्होंने कहा कि हम अपनी कमियों पर आत्मनिरीक्षण करेंगे और देखेंगे कि हम मतदाताओं को क्यों नहीं मना सके। हम अपने सभी उम्मीदवारों से बात करेंगे, चाहे वे जीते हों या हारे हों, और उसके बाद किसी नतीजे पर पहुंचेंगे।

जबकि चुनाव से पहले राहुल गांधी और प्रियंका गांधी सहित पार्टी के शीर्ष नेताओं ने जातिगत जनगणना का वादा किया था। साथ ही इसे एक सामाजिक पिछड़ेपन के रूप में संबोधित किया था, लेकिन कांग्रेस नेताओं का यह संदेश मतदाताओं को तो छोड़ ही दें, अधिकांश हिस्सों में पार्टी के जमीनी कार्यकर्ताओं तक भी नहीं पहुंच पाया। कांग्रेस ने भी आक्रामक तरीके से राज्य में भाजपा की ओबीसी एकजुटता में सेंध लगाने की कोशिश की थी, जहां लगभग 50% ओबीसी आबादी है, लेकिन सफलता नहीं मिली।

जबकि कमलनाथ जैसे कांग्रेस नेताओं ने पूरे समय दावा किया कि नौकरी घोटाले से प्रभावित युवाओं और किसानों में "भारी गुस्सा" था, भगवा पार्टी 18 वर्षों तक सत्ता में रहने के बावजूद, कांग्रेस पार्टी इस भावना को भुनाने में विफल रही।

प्रत्याशियों का चयन के साथ विरोध के सुर-

जैसे ही दोनों दलों ने अपने उम्मीदवारों की सूची जारी की। भाजपा और कांग्रेस दोनों में असंतोष की आवाजें उभरने लगीं, लेकिन कांग्रेस को राज्य भर में कई विरोध प्रदर्शनों का सामना करना पड़ा। पार्टी को सात सीटों पर अपने उम्मीदवार बदलने के लिए मजबूर होना पड़ा और उनमें से छह सीटें हार गईं। भले ही पार्टी ने पूरी तरह एकजुट मोर्चा दिखाया, लेकिन कुछ असंतुष्ट पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए कमलनाथ की "दिग्विजय के कपड़े फाड़ दो" वाली टिप्पणी ने कांग्रेस की कुछ गति को पटरी से उतार दिया।

कमलनाथ, जिन्हें राज्य में कांग्रेस पार्टी का चेहरा घोषित किया गया था। उनको कांग्रेस हाई कमान ने लगभग पूरी तरह से छूट दे दी थी। पार्टी की प्रचार सामग्री जैसे होर्डिंग्स और नारों पर भी उनका चेहरा प्रमुख था। कमलनाथ को सुरजेवाला के साथ समन्वय में कई निर्णय लेते और पार्टी की रणनीति के अधिकांश पहलुओं का प्रबंधन करते देखा गया। पूर्व एम.पी. भारतीय राष्ट्रीय विकासात्मक समावेशी गठबंधन (INDIA) का सदस्य होने के बावजूद मुख्यमंत्री को समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन में कोई दिलचस्पी नहीं थी।

कांग्रेस पार्टी नेताओं ने दावा किया कि कमलनाथ 2018 और 2020 के बीच सीएम के रूप में अपने 15 महीने के कार्यकाल के दौरान राज्य में एक भरोसेमंद चेहरा बन गए हैं। हालांकि, परिणाम बताते हैं कि कमलनाथ और उनकी पार्टी मतदाताओं में उतना विश्वास जगाने में विफल रही जितनी पार्टी को उम्मीद थी।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो