scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

MP Exit Poll 2023: मध्य प्रदेश में प्रचंड बहुमत से आ रही भाजपा सरकार, जानिए एग्जिट पोल में कांग्रेस-बीजेपी को कितनी मिल रहीं सीटें

Madhya Pradesh Assembly Election Exit Polls 2023: मध्य प्रदेश में 17 नवंबर को वोटिंग हुई थी। नतीजे 3 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे।
Written by: न्यूज डेस्क
Updated: November 30, 2023 21:09 IST
mp exit poll 2023  मध्य प्रदेश में प्रचंड बहुमत से आ रही भाजपा सरकार  जानिए एग्जिट पोल में कांग्रेस बीजेपी को कितनी मिल रहीं सीटें
MP Exit Poll 2023 Result: मध्य प्रदेश एग्जिट पोल
Advertisement

MP Vidhan Sabha Chunav 2023 Exit Polls: मध्य प्रदेश के सत्ता के सिंहासन पर कौन राज करेगा। इसका फैसला तो 3 दिसंबर को ही होगा, लेकिन इससे पहले मध्य प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव को लेकर एग्जिट पोल आ चुके हैं। एग्जिट पोल के मुताबिक, एक बार फिर से मध्य प्रदेश में बीजेपी और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिल रही है।

इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया के एग्जिट पोल के मुताबिक, मध्य प्रदेश में बीजेपी को 140-160 सीटें मिलती हुई नजर आ रही हैं, जबकि कांग्रेस को 68-90 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है।

Advertisement

न्यूज 24-टुडेज चाणक्या के एग्जिट पोल अन्य एजेंसियों के एग्जिट पोल से बिल्कुल अलग हैं। टुडेज चाणक्या के एग्जिट पोल मध्य प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनवा रहे हैं। इसके पोल के मुताबिक, बीजेपी को 151 (+-12), कांग्रेस को 74 (+-12) को सीटें मिल सकती हैं, जबकि अन्य के खाते में 5 (+-4) सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है।

जन की बात के एग्जिट पोल के मुताबिक, मध्य प्रदेश में कांग्रेस को 100-125 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि बीजेपी को 100-123 सीटें मिलने की बात कही गई है।

पोल स्टार्ट (PolStrat) के एग्जिट पोल के मुताबिक, राज्य में कांग्रेस की सरकार बनती हुई दिख रही है। कमलनाथ की अगुवाई वाली कांग्रेस बहुमत के साथ लौटती दिख रही है। कांग्रेस को यहां पर 230 सीटों में से 111 से लेकर 121 सीटें मिलने का दावा किया गया है, जबकि बीजेपी के खाते में 106 से 116 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है।

Advertisement

पोल ऑफ पोल्स के एग्जिट पोल के मुताबिक, मध्य प्रदेश में कांग्रेस को 111 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि बीजेपी को 116 सीटें मिलती हुई नजर आ रही हैं।

Advertisement

एजेंसीकांग्रेसभाजपाअन्य
इंडिया टीवी- सीएनएक्स70-89140-1590-2
इंडिया टुडे-एक्सिस माई इंडिया68-90140-160
दैनिक भास्कर105-12095-1150-15
पोल ऑफ पोल्स11111603
न्यूज 24-टुडेज चाणक्या151 (+ -12)74 (+ -12)5 (+-4)
जन की बात100-125100-12305
टीवी9 भारतवर्ष- पोल स्टार्ट111-121106-116
रिपब्लिक टीवी- मैट्राइज (Matrize)97-107118-130

मैट्राइज (Matrize) के एग्जिट पोल के मुताबिक, मध्य प्रदेश में भाजपा को 118-130 सीटें मिलने का अनुमान है, जबकि कांग्रेस को 97-107 सीटें मिल सकती हैं, जबकि अन्य के खाते में 2 सीटें जा रही हैं।

दैनिक भास्कर के एग्जिट पोल के मुताबिक, मध्य प्रदेश में कांग्रेस के सबसे ज्यादा 105-120 सीटें मिलती हुई नजर आ रही हैं, जबकि भाजपा के खाते में 95-115 सीटें जाने का अनुमान है, वहीं 0-15 सीटें अन्य के खाते में जाएंगी।

इंडिया टीवी-CNX के एग्टिज पोल के मुताबकि भारतीय जनता पार्टी फिर से सत्ता में वापसी करती दिख रही है। इस बार स्पष्ट बहुमत लाती दिख रही है। इंडिया टीवी के एग्जिट पोल में BJP को 140 से 159 सीटें मिलने का अनुमान है। वहीं कांग्रेस को 70-89 सीटें मिलने की संभावना है। जबकि अन्य के खाते में 0-2 सीटें जा सकती हैं। मध्य प्रदेश में बहुमत का आंकड़ा 116 है। मध्य प्रदेश में 17 नवंबर को एक चरण में 230 सीटों के लिए मतदान हुआ था। राज्य में कुल 74.62 प्रतिशत मतदान हुआ था।

बता दें कि मध्य प्रदेश में कुल पुरुष मतदाताओं में से 78.21 प्रतिशत ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया, जबकि कुल पात्र महिलाओं में से 76.03 प्रतिशत ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। आंकड़ों के अनुसार, रतलाम जिले की सैलाना विधानसभा सीट पर सबसे अधिक 90.10 प्रतिशत मतदान हुआ, जबकि राज्य के पश्चिमी क्षेत्र के अलीराजपुर जिले की जोबट सीट पर सबसे कम 54.37 प्रतिशत मतदान हुआ था।

मध्य प्रदेश में 2018 विधानसभा चुनाव के दौरान 8 एग्जिट पोल हुए। इनमें से 2 ने कांग्रेस को बहुमत के पार बताया, जबकि एक पोल में भाजपा की सरकार बनने का अनुमान था। चार एग्जिट पोल में हंग असेंबली की संभावना जताई गई थी।

2018 मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के पास 114 सीटें थीं, वहीं बीजेपी के खाते में 109 सीटें आई थीं। बसपा को दो और सपा को एक सीट पर जीत मिली थी। कांग्रेस ने गठजोड़ करके बहुमत का 116 का आंकड़ा पा लिया और कमलनाथ राज्य के मुख्यमंत्री बन गए। कांग्रेस की सरकार 15 महीने ही टिक पाई थी।

दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक 22 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया। इनमें छह मंत्री शामिल थे। सिंधिया खुद भाजपा में शामिल हुए और केंद्र में मंत्री बनाए गए। मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा। कोर्ट ने कमलनाथ को फ्लोर टेस्ट कराने का आदेश दिया। टेस्ट से पहले कमलनाथ ने इस्तीफा दे दिया। बाद में भाजपा ने बागी विधायकों को मिलाया और शिवराज सिंह चौहान चौथी बार CM बने।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो