scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

जीतने नहीं हराने वाली चाल चलेगा 'हाथी'! मायावती बढ़ाएंगी अखिलेश यादव और राहुल गांधी की टेंशन

Lok Sabha Elections: खबर है कि मायावती ने यूपी में दलित - मुस्लिम फॉर्मूला पर काम करने जा रही हैं। अगर बसपा की यह योजना सफल रही तो सपा और कांग्रेस का खेल खराब होना तय है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Yashveer Singh
Updated: March 15, 2024 15:07 IST
जीतने नहीं हराने वाली चाल चलेगा  हाथी   मायावती बढ़ाएंगी अखिलेश यादव और राहुल गांधी की टेंशन
बसपा यूपी वेस्ट में कई मुस्लिम उम्मीदवार उतार सकती हैं (File Photo - Express)
Advertisement

Lok Sabha Elections 2024: लोकसभा चुनाव 2024 की तैयारियों में अभी तक सुस्त नजर आ रहा 'हाथी' अब समाजवादी पार्टी और कांग्रेस की टेंशन बढ़ा सकता है। खबर है कि बीएसपी चीफ मायावती (BSP Mayawati) ने यूपी वेस्ट की कई सीटों पर मुस्लिम प्रत्याशी उतारने का प्लान बना लिया है। ये वो सीटें हैं, जहां मुस्लिम वोटर्स की तादाद काफी ज्यादा है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, यूपी वेस्ट की पांच सीटों पर बीएसपी टिकट के इच्छुक नेताओं में मुस्लिम चेहरे सबसे आगे बताए जा रहे हैं। पार्टी के एक सीनियर नेता ने बताया कि जिन उम्मीदवारों के नाम की चर्चा हो रही है, उनके नाम फाइल लिस्ट में हों इसकी संभावना काफी ज्यादा है।

Advertisement

रिपोर्ट में जिन सीटों का जिक्र किया गया है, उनमें सपा का गढ़ कन्नौज लोकसभा सीट शामिल है। बीएसपी इस सीट पर अकील अहमद पट्टा को चुनाव मैदान में उतार सकती है। वो कुछ ही महीने पहले सपा छोड़ बसपा में शामिल हुए हैं। पट्टा के अलावा बीएसपी मुरादाबाद से इरफान सैफी, पीलीभीत से अनीश अहमद खान, सहारनपुर से माजिद अली और अमहरोहा से माजिद हुसैन को चुनाव मैदान में  उतार सकती है।

लोकसभा चुनाव 2019 में बीएसपी ने अमरोहा और सहारनपुर लोकसभा सीटों पर जीत दर्ज की थी। पार्टी के एक अंदरूनी नेता ने कहा, "हो सकता है कि समन्वयकों को बहनजी से अपने नामों की घोषणा शुरू करने के निर्देश मिल गए हों, लेकिन यह सुनिश्चित करने के लिए हमें उस लिस्ट (BSP Candidate List) का वेट करना होगा जिसे बीएसपी अध्यक्ष जल्द ही घोषित करेंगे।"

क्या है बीएसपी की स्ट्रैटजी?

यूपी वेस्ट में दलित-मुस्लिम रणनीति (BSP Dalit Muslim Strategy) अगर चल गई तो यह बीएसपी के पक्ष में सबसे घातक हथियार साबित हो सकती है। अब क्योंकि मुस्लिम वोटर टैक्टिकल वोटिंग के लिए पहचाने जाते हैं, ऐसे में अगर समुदाय के कुछ वोट बीएसपी को मिलते हैं तो यह निश्चित ही इंडिया गठबंधन का नुकसान करेगा। हालांकि क्योंकि पिछले कुछ चुनावों में मुस्लिम वोटर मायावती के साथ नहीं दिखाई दिए हैं, ऐसे में उन्हें फिर से साथ लेना आसान नहीं होगा।

Advertisement

मुस्लिम के अलावा इन समुदायों के नेता फाइनल लिस्ट में हो सकते हैं

बीएसपी उम्मीदवारों की लिस्ट में मुस्लिम चेहरों के अलावा जाट और अन्य ओबीसी नेता भी हो सकते हैं। यूपी वेस्ट में इन दोनों ही समुदायों की जनसंख्या काफी ज्यादा है। बीएसपी ने इस बार बिजनौर से अपने सांसद मलूक नागर को रिपीट नहीं किया है। यहां बीएसपी जाट फेस चौधरी विजेंद्र सिंह पर दांव लगा सकती है। इसके अलावा मुजफ्फरनगर लोकसभा सीट पर बीएसपी धारा सिंह प्रजापति को चुनाव मैदान में उतार सकती है।

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो