scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

ना चुनाव प्रचार, ना वोटिंग के हालात और अजीब सा डर, मणिपुर में कैसे मनेगा लोकतंत्र का पर्व?

जब दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र चुनाव की दहलीज पर खड़ा है, मणिपुर में एक अजीब सी शांति हैं, यहां ना चुनावी प्रचार का शोर सुनाई दे रहा है, ना यहां पर लोगों में अपने मताधिकार को लेकर कोई उत्साह है।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Sudhanshu Maheshwari
नई दिल्ली | Updated: April 07, 2024 21:29 IST
ना चुनाव प्रचार  ना वोटिंग के हालात और अजीब सा डर  मणिपुर में कैसे मनेगा लोकतंत्र का पर्व
मणिपुर के जमीनी हालात
Advertisement

मणिपुर में भड़की हिंसा को एक साल होने को है, 219 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। लेकिन कहा जाए कि हालात सामान्य हैं, फिर वहां पर सबकुछ ठीक हो चुका है, तो ऐसा जमीन पर दिखाई नहीं देता है। जब दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र चुनाव की दहलीज पर खड़ा है, मणिपुर में एक अजीब सी शांति हैं, यहां ना चुनावी प्रचार का शोर सुनाई दे रहा है, ना यहां पर लोगों में अपने मताधिकार को लेकर कोई उत्साह है।

पूर्वोत्तर के इस राज्य में आलम ये चल रहा है कि 50 हजार लोग विस्थापित हो चुके हैं। राहत शिविरों में भी बड़ी तादाद में पीड़ित इस समय रहने को मजबूर हैं, ऐसे में किस तरह से इन सभी को वोटिंग वाले दिन मतदान के लिए लाया जाए, प्रशासन की सबसे बड़ी चुनौती ये है। चीफ इलेक्टोरल ऑफिसर प्रदीप कुमार झा का कहना है कि विस्थापित हुए 24,500 लोग तो पात्र वोटर हैं, वे आराम से वोट कर सकें, इसके लिए राहत शिविरों में ही खास इंतजाम किए जा रहे हैं।

Advertisement

जानकारी दी गई है कि मणिपुर में कुल 2,955 पोलिंग स्टेशन बनाए जा रहे हैं. वहां भी अभी 50 फीसदी के करीब ऐसे हैं जहां पर हालात चिंताजनक हैं, स्थिति संवेदनशील बनी हुई है। अब ऐसे इलाकों में हालात विस्फोटक इसलिए भी हैं क्योंकि कई ऐसे हिस्ट्री शूटर मौजूद हैं जो माहौल खराब करने के लिए कभी भी हिंसा को हवा दे सकते हैं। इसी वजह से चुनाव आयोग ने ऐसी जगहों पर वीडियोग्राफी के इंतजाम किए हैं, वेबकास्टिंग की व्यवस्था भी रहने वाली है।

अब चुनाव आयोग तो अपनी तरफ से हर संभव कोशिश कर रहा है, लेकिन जमीन पर इलेक्शन को लेकर वो उत्साह नहीं। पिछले कई सालों में राजनीति की पहचान बन चुके हैं सियासी पोस्टर सड़कों से नदारद दिख रहे हैं, बड़ी रैलियां कहीं हो नहीं रहीं और राजनीतिक दल भी हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में जाने से बच रहे हैं। जानकारी के लिए बता दें कि मणिपुर में 19 और 26 अप्रैल को दो चरणों में वोटिंग होने जा रही है।

Advertisement

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
Jansatta.com पर पढ़े ताज़ा एजुकेशन समाचार (Education News), लेटेस्ट हिंदी समाचार (Hindi News), बॉलीवुड, खेल, क्रिकेट, राजनीति, धर्म और शिक्षा से जुड़ी हर ख़बर। समय पर अपडेट और हिंदी ब्रेकिंग न्यूज़ के लिए जनसत्ता की हिंदी समाचार ऐप डाउनलोड करके अपने समाचार अनुभव को बेहतर बनाएं ।
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो