scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

MP Elections Result: 'मामा' ने मध्य प्रदेश में दिखाया दम तो फंस गई बीजेपी! शिवराज को किनारे करना नहीं होगा आसान

Madhya Pradesh Elections Result: सीएम शिवराज को कई बार वोट मांगने के दौरान रोते देखा गया। शिवराज ने यहां तक कहा कि जब वो उनके बीच नहीं रहेंगे तो वो उन्हें मिस करेंगे।
Written by: Anand Mohan J
Updated: December 03, 2023 17:16 IST
mp elections result   मामा  ने मध्य प्रदेश में दिखाया दम तो फंस गई बीजेपी  शिवराज को किनारे करना नहीं होगा आसान
MP Elections Result: मध्य प्रदेश में क्या 5वीं बार मुख्यमंत्री बनेंगे शिवराज सिंह चौहान। (फेसबुक)
Advertisement

Madhya Pradesh Elections Result: महिला सशक्तिकरण की आवाज हूं, मैं शिवराज हूं, मैं शिवराज हूं।' शिवराज को लेकर यह स्लोगन अब मध्य प्रदेश में बीजेपी की जीत पर सटीक बैठ रहा है। बीजेपी नेतृत्व ने महिलाओं लिए जो भी योजना बनाई हो, उसके लिए मध्य प्रदेश के चार बार के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के दावे को खारिज करना मुश्किल है, जिन्होंने आगे बढ़कर लड़ाई का नेतृत्व किया। खासकर चुनावी मैदान में महिलाओं के लिए उनकी योजनाओं को लेकर। ऐसा करने के लिए चौहान ने सुर्खियां भी बटोरीं। लोग ऐसा मानने लगे कि नरेंद्र मोदी-केंद्रित पार्टी में कुछ नेताओं में ऐसा करने का साहस है। शिवराज को एक आत्म सम्मानित नेता के रूप में देखा जाता है। उनकी विनम्र छवि को उनकी यूएसपी के रूप में जाना जाता था।

इस बार के विधानसभा चुनाव में वह अपनी सरकार के 'द लाडली शो' के स्टार भी थे। जहां उनसे एक उत्साही युवा लड़की ने सवाल किया। गरीब परिवार के बच्चे चौहान से जिन्होंने सात साल की उम्र में आंदोलन का नेतृत्व किया। स्वर्ण पदक विजेता, एमए छात्र और मुख्यमंत्री चौहान के रूप में, जिनके राज्य की महिलाएं उनको अपने मामा के रूप में पुकारती हैं और शिवराज उनकी समान रूप से परवाह करते हैं। यहां तक शिवराज सिंह चौहान एक गायक भी हैं।

Advertisement

सीएम के यूट्यूब चैनल पर शो का प्रीमियर संसद में लंबे समय से प्रतीक्षित महिला आरक्षण विधेयक के पारित होने के साथ हुआ। चौहान का चुनावी अभियान लगभग महिलाओं के ऊपर केंद्रित है, जिसको लेकर वो महिलाओं के लिए नई योजनाएं लाते रहे हैं। जिसमें नवीनतम राज्य सरकार की नौकरियों में उनके लिए 35% कोटा है।

मुख्यमंत्री को कई बार मतदाताओं से वोट मांगते हुए आंसू बहाते हुए देखे गए। उन्होंने मतदाताओं से यहां तक कहा था कि जब वो उनके बीच नहीं रहेंगे तो वो उन्हें मिस करेंगे।

Advertisement

बुरहानपुर कार्यक्रम में चौहान ने दो महिलाओं के पैर धोए। जिन्होंने बाद में उन पर फूलों की वर्षा की, क्योंकि उन्होंने महिलाओं के लिए लाडली बहना योजना की 597 करोड़ रुपये की किस्त जारी की थी। इससे पहले कार्यक्रम में महिलाओं ने सीएम की आरती उतारी। चौहान ने कहा कि वह उनके प्रति उनके सम्मान से भावुक हो गए हैं, क्योंकि भगवान ने उन्हें “बहनों” और “बेटियों” को सशक्त बनाने के लिए दुनिया में भेजा है, और उन्होंने “उनके जीवन में कभी अंधेरा नहीं आने देने” की कसम खाई है।

Advertisement

कार्यक्रम में कुछ पुरुषों ने हंगामा किया तो मुख्यमंत्री ने उन्हें चेतावनी दी और महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि वे परेशान न हों। उन्होंने कहा, 'यह सब मैं नहीं कह रहा हूं, यह मेरी अंदर की भावना है… मुझे यह बोझ अपने दिल से उतार देना चाहिए।'

द लाडली शो में चौहान का अपनी दिवंगत मां के प्रति प्रेम लगातार झलकता रहा। उन्होंने अपनी मां के खाना बनाने की बारे में बात की। साथ ही बताया कि उन्हें अपनी मां पर कितना गर्व था। इस दौरान जब सीएम बात कर रहे थे तो वो कई बार भावुक हुए। उन्होंने खुद को एक फैमिली मेंबर के रूप में खुद को चित्रित किया। उन्होंने कहा कि उनकी कोशिश रहती है कि वो हर साल के अंत में अपनी पत्नी और बेटों के साथ छुट्टियां मनाएं। हालांकि, वो इस दौरान केवल धार्मिक स्थलों पर ही जाते हैं।

शिवराज सिंह चौहान को पूरा भरोसा था कि महिलाएं राज्य को उनके हाथों में सौंप देंगी। राज्य में कुल 5.52 करोड़ मतदाताओं में से 48 प्रतिशत से अधिक उनकी संख्या 2.67 करोड़ है। यह इस तथ्य पर विचार करते हुए महत्वपूर्ण है कि 230 विधानसभा सीटों में से कम से कम 18 पर महिलाएं अपने पुरुष समकक्षों से अधिक हैं।

चौहान का मैं और मेरा अभियान इस बात को देखते हुए स्पष्ट था कि मध्य प्रदेश अभियान के दौरान उनकी रैलियों में, भाजपा ने स्थानीय नेताओं का उल्लेख करने से परहेज किया और पार्टी के नाम पर वोट मांगे।

26 सितंबर को भोपाल में अपनी रैली में जब चौहान एक संक्षिप्त भाषण के बाद चुपचाप उनके पास बैठे थे, तो मोदी ने एक बार भी सीएम का उल्लेख किए बिना एक लंबा भाषण दिया। चर्चा थी कि भाजपा उस राज्य में चौहान को अपना सीएम चेहरा बनाने को लेकर आशंकित है, जहां वह 2003 से सत्ता में है। चौहान 2005 से इसका नेतृत्व कर रहे हैं। 2018 से 2020 तक कांग्रेस को छोड़कर। सूत्रों ने चौहान के लिए एक “थकान कारक” का संकेत दिया है, जबकि कमल नाथ एक ऊर्जावान कांग्रेस अभियान चला रहे हैं।

शिवराज ने पार्टी की जन आशीर्वाद यात्रा का नेतृत्व भी नहीं किया, जिसका नेतृत्व पार्टी के केंद्रीय नेताओं ने किया था। इसे तब और बल मिला, जब 26 सितंबर को, प्रधानमंत्री की भोपाल रैली के उसी दिन भाजपा ने राज्य के लिए अपने उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी की थी।

जिसमें केंद्र से तीन केंद्रीय मंत्री और एक राष्ट्रीय महासचिव शामिल थे। सभी को संभावित सीएम के रूप में देखा गया। चौहान के करीबी सूत्रों ने स्वीकार किया कि वह इसे देखकर आश्चर्यचकित रह गए। एक सहयोगी ने कहा कि बीजेपी की दूसरी सूची को समझना मुश्किल है। क्योंकि भाजपा ने उस वक्त तक मध्य प्रदेश के लिए 78 नाम जारी किए हैं, उनमें चौहान का नाम शामिल नहीं है। तब कांग्रेस ने बीजेपी पर हमला करते हुए दावा किया था कि वह अपने ही सीएम पर शर्मिंदा है।

भाजपा की अधिकांश कहानियों की तरह चौहान की शुरुआत भी आरएसएस से हुई। मार्च 1959 में शिवराज का जन्म सीहोर जिले के एक किसान परिवार में हुआ था। वह कॉलेज के दौरान एबीवीपी में शामिल हो गए थे। 1991 में विदिशा निर्वाचन क्षेत्र से चुने गए, इस सीट पर उन्होंने तीन बार जीत हासिल की।

सत्ता में पांचवां कार्यकाल भी चौहान के लिए एक उल्लेखनीय उपलब्धि होगी, क्योंकि वह नरेंद्र मोदी-अमित शाह सरकार के तहत कभी भी सहज नहीं रहे हैं, शायद दोनों पक्षों के लिए यह भूलना मुश्किल है कि 2014 में चौहान भाजपा के मुख्यमंत्रियों में से एक थे। जिनको पार्टी में पीएम पद के चेहरे के रुप में देखा गया था। लेकिन ऐसी पार्टी में जहां सत्ता केवल एक ही तरफ बहती है, क्या वह सीएम के रूप में वापस आएंगे या नहीं, यह अभी तक एक सुलझा हुआ मुद्दा नहीं हो सकता है। इस बारे में पूछे जाने पर प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा ने कहा, ''केंद्रीय नेतृत्व फैसला करेगा।''

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो