scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

Madhya Pradesh Election: मध्य प्रदेश में सत्ता की चाभी छुपी है मालवा-निमाड़ में, इन सीटों पर होगी नजर

मध्य प्रदेश में 17 नवंबर को मतदान होगा और वोटों की गिनती 3 दिसंबर 2023 को की जाएगी।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: shruti srivastava
Updated: November 06, 2023 16:48 IST
madhya pradesh election  मध्य प्रदेश में सत्ता की चाभी छुपी है मालवा निमाड़ में  इन सीटों पर होगी नजर
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर। फोटो- (इंडियन एक्‍सप्रेस)।
Advertisement

मध्य प्रदेश की 230 विधानसभा सीटों पर 17 नवंबर को मतदान होगा। कांग्रेस ने पिछले चुनाव में सत्तारूढ़ भाजपा को पछाड़कर विधानसभा पर परचम फहराया था। जिसके बाद विश्लेषकों ने इसका श्रेय खाने में स्वाद और बोली में मिठास के लिए मशहूर मध्य प्रदेश के मालवा-निमाड़ क्षेत्र में पार्टी की विजय को दिया था। राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार, 15 जिलों में फैली 66 सीटों वाला पश्चिमी मध्य प्रदेश का मालवा-निमाड़ क्षेत्र 230 सदस्यीय विधानसभा तक पहुंचने की चाभी है। यहां कांग्रेस और भाजपा के बागी भी आगामी चुनावों में चौंका सकते हैं।

कांग्रेस ने पिछले विधानसभा चुनाव में इस क्षेत्र की 66 सीटों में से 35 सीटें जीतीं, जबकि 2013 में यह संख्या नौ थी। वहीं, भाजपा को भारी नुकसान हुआ और यह संख्या 57 (2013) से गिरकर 2018 में 28 हो गई। विश्लेषकों का मानना है कि मालवा-निमाड़ क्षेत्र में अपनी बढ़त के कारण कांग्रेस पिछले विधानसभा चुनाव में 114 सीटों के साथ बहुमत के करीब पहुंची और कमल नाथ के नेतृत्व में गठबंधन सरकार बनाई।

Advertisement

2018 में भाजपा के खराब प्रदर्शन का कारण

वरिष्ठ पत्रकार और इंदौर प्रेस क्लब के अध्यक्ष अरविंद तिवारी कहते हैं कि पिछले कुछ सालों में कांग्रेस और भाजपा ने इस क्षेत्र में पैठ बनाने की कोशिश की है, लेकिन 2018 में यहां भाजपा के खराब प्रदर्शन का मुख्य कारण पार्टी के स्थानीय नेताओं के खिलाफ विरोध था। मालवा-निमाड़ क्षेत्र में 15 जिले शामिल हैं, जिनमें 9 विधानसभा सीटों वाला इंदौर, उज्जैन (7), रतलाम (5), मंदसौर (4), नीमच (3), धार (7), झाबुआ (3), अलीराजपुर (2), बड़वानी (4), खरगोन (6), बुरहानपुर (2), खंडवा (4), देवास (5), शाजापुर (3) और आगर मालवा (2) शामिल हैं। राज्य की अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित 47 सीटों में से 22 इसी क्षेत्र में हैं।

पिछली बार कांग्रेस ने 15 सीटें जीतकर आदिवासियों के बीच अपना आधार बढ़ाया था, जबकि 2013 में पार्टी का 6 विधानसभा क्षेत्रों पर कब्जा था। इसी अवधि में भाजपा की सीटें 15 से घटकर 2018 में 6 हो गईं। तिवारी ने कहा कि मालवा-निमाड़ क्षेत्र के आदिवासियों के बीच अपनी पैठ मजबूत करने के लिए कांग्रेस और भाजपा ने पिछले कुछ सालों में कड़ी मेहनत की है। इस चुनाव में देखना होगा कि क्या भाजपा अपने पार्टी कार्यकर्ताओं के गुस्से और सत्ता विरोध पर काबू पा सकेगी। वरिष्ठ पत्रकार तिवारी कहते है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का ग्रामीण इलाकों में जनता से जुड़ाव और उनकी सरकार की हाल ही में शुरू की गई लाडली बहना योजना एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है।

राजनीतिक दलों के बागी बदल सकते हैं नतीजे

पत्रकार के अनुसार एक दर्जन से ज्यादा सीटों पर दोनों राजनीतिक दलों के बागी नतीजे बदल सकते हैं और अगर इन विद्रोहियों को पार्टी टिकट दिया गया तो उनमें जीतने की क्षमता है। तिवारी ने कहा कि इंदौर-1 के अलावा क्षेत्र की धार, बदनावर और खातेगांव जैसी सीटों पर भी करीबी मुकाबला दिखाई देता है। धार में,\ प्रदेश के पूर्व भाजपा अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री विक्रम वर्मा की पत्नी विधायक नीना वर्मा को फिर से उम्मीदवार बनाया गया है। इंदौर-1, से भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय चुनाव लड़ रहे हैं। पार्टी के पूर्व जिला प्रमुख राजीव यादव निर्दलीय के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं।

Advertisement

कांग्रेस के बागी कुलदीप सिंह बुंदेला और पार्टी की अधिकृत प्रत्याशी पूर्व विधायक बालमुकुंद सिंह गौतम की पत्नी प्रभा सिंह गौतम ने धार में मुकाबले को रोचक बना दिया है। भाजपा के दिग्गज नेता दिवंगत कैलाश जोशी के बेटे और पूर्व मंत्री दीपक जोशी हाल ही में कांग्रेस में शामिल हुए हैं। वह देवास जिले के खातेगांव से सबसे पुरानी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। उन्हें स्थानीय कांग्रेसियों के विरोध का सामना करना पड़ा है। उज्जैन की बड़नगर सीट से कांग्रेस के बागी राजेंद्र सिंह सोलंकी मैदान में हैं क्योंकि पार्टी ने उनकी जगह दूसरे उम्मीदवार को मैदान में उतार दिया है।

Advertisement

कई निर्दलीय उम्मीदवार मैदान में

पूर्व प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान के बेटे हर्षवर्धन सिंह चौहान समेत कई बागी नेताओं ने बुरहानपुर में मुकाबले को रोचक बना दिया है। पूर्व कांग्रेस विधायक अंतर सिंह दरबार, जिन्हें टिकट नहीं दिया गया था, महू (इंदौर जिले) से निर्दलीय के रूप में चुनाव लड़ रहे हैं। कांग्रेस के एक अन्य बागी श्यामलाल जोक चंद मल्हारगढ़ (मंदसौर जिला) से राज्य के वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। कांग्रेस के दो बार के पूर्व विधायक और पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू आलोट (रतलाम जिले) एक स्वतंत्र उम्मीदवार हैं। हालांकि, कांग्रेस ने उनकी बेटी रीना बोरासी को इंदौर जिले के सांवेर से मैदान में उतारा है।

राज्य करणी सेना के प्रमुख जीवन सिंह शेरपुर, जो कांग्रेस से टिकट के लिए दावेदारी कर रहे थे जावरा (रतलाम) से चुनाव लड़ रहे हैं जबकि भाजपा से निष्कासित नेता धन सिंह बारिया झाबुआ से मैदान में हैं। अलीराजपुर से भाजपा के बागी सुरेंद्र सिंह ठकराल मैदान में हैं। पूर्व जनपद पंचायत अध्यक्ष और भाजपा के बागी पूरणमल अहीर जावद (नीमच जिले) से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं।

भाजपा की जमीन खिसकने का कारण सत्ता विरोधी लहर

पीथमपुर औद्योगिक संगठन के अध्यक्ष गौतम कोठारी ने पीटीआई-भाषा को बताया कि मालवा-निमाड़ क्षेत्र में कड़ा मुकाबला है। उन्होंने कहा कि 2013-2018 के बीच क्षेत्र में भाजपा की जमीन खिसकने का कारण सत्ता विरोधी लहर थी। कोठारी ने कहा, इसके अलावा, मतदाताओं की अपेक्षाएं कई गुना बढ़ गई हैं क्योंकि लोग रेवड़ी (मुफ्त उपहार) को अपना अधिकार मानने लगे हैं। उन्होंने कहा, ''लड़ाई कठिन लग रही है और बीजेपी भी इसे महसूस कर रही है।’’

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो