scorecardresearch
For the best experience, open
https://m.jansatta.com
on your mobile browser.

'क्या यादव सिर्फ उनके घर में पैदा हुए हैं...', धर्मेंद्र को आजमगढ़ से प्रत्याशी बनाने को लेकर अखिलेश पर भड़के निरहुआ

निरहुआ ने कहा कि अखिलेश यादव को आजमगढ़ से फिर से परिवार के किसी सदस्य को भेजने की जरूरत नहीं थी।
Written by: न्यूज डेस्क | Edited By: Nitesh Dubey
नई दिल्ली | Updated: March 17, 2024 10:45 IST
 क्या यादव सिर्फ उनके घर में पैदा हुए हैं      धर्मेंद्र को आजमगढ़ से प्रत्याशी बनाने को लेकर अखिलेश पर भड़के निरहुआ
अखिलेश यादव ने निरहुआ के खिलाफ धर्मेंद्र यादव को उतारा है।
Advertisement

लोकसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा हो चुकी है। देश में सात चरणों में लोकसभा चुनाव होंगे। चुनाव की तारीखों की घोषणा होने के बाद समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने प्रत्याशियों की पांचवी सूची जारी की। समाजवादी पार्टी ने आजमगढ़ से धर्मेंद्र यादव को फिर से मैदान में उतारा है। वहीं धर्मेंद्र यादव का नाम सुनते ही आजमगढ़ से बीजेपी सांसद दिनेश लाल यादव निरहुआ भड़क गए। उन्होंने अखिलेश यादव से पूछा कि अगर किसी यादव को ही लड़ाना था तो यादव सिर्फ उनके घर में ही पैदा हुए हैं?

निरहुआ ने कहा कि अखिलेश यादव को आजमगढ़ से फिर से परिवार के किसी सदस्य को भेजने की जरूरत नहीं थी। उन्होंने कहा कि आजमगढ़ में किसी और प्रत्याशी को उतारा जा सकता था।

Advertisement

अखिलेश को कोई और यादव नहीं दिखता- निरहुआ

निरहुआ ने कहा कि पूर्वांचल में अखिलेश यादव को कोई और यादव नहीं दिखता, यही दिक्कत है। निरहुआ ने यहां तक कह दिया कि अखिलेश यादव को किसी स्थानीय यादव नेता पर भरोसा नहीं है, इसलिए वह अपने परिवार से ऊपर नहीं उठ पा रहे हैं।

अहीर रेजिमेंट को लेकर भी निरहुआ ने बड़ी बात कही। उन्होंने कहा कि अहीर रेजिमेंट अभी तक इसलिए नहीं बना है, क्योंकि इसके जिम्मेदार अहीर है। उन्होंने कहा कि अहीरों ने कभी सही प्रत्याशी नहीं चुना, अगर वह भारतीय जनता पार्टी और अहीर को पसंद करते तो कबका अहीर रेजिमेंट गठित हो गया होता। निरहुआ ने फिर से मोदी सरकार बनने का दावा किया और उन्होंने कहा कि देश की तरक्की और खुशहाली के लिए बीजेपी को जीत दिलाएं।

Advertisement

आजमगढ़ से हार गए थे निरहुआ

उत्तर प्रदेश 2022 विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव करहल विधानसभा सीट से विधायक चुने गए थे। इसके बाद उन्होंने आजमगढ़ लोकसभा सीट से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद यहां उपचुनाव हुए और धर्मेंद्र यादव को सपा ने टिकट दिया। लेकिन धर्मेंद्र यादव, दिनेश लाल यादव निरहुआ से 8,000 वोटों से हार गए थे। आजमगढ़ में समाजवादी पार्टी की इस हार से पार्टी को करारा झटका लगा था। धर्मेंद्र यादव इससे पहले 2019 के लोकसभा चुनाव में बदायूं लोकसभा सीट से भी चुनाव हार गए थे।

Advertisement

Advertisement
Tags :
Advertisement
tlbr_img1 राष्ट्रीय tlbr_img2 ऑडियो tlbr_img3 गैलरी tlbr_img4 वीडियो